राजस्थानी कला व संस्कृति को विदेशों में बरकरार रखे हैं कमल चौधरी

-मेलबर्न में हर साल आयोजित करते हैं गणगौर मेला
@गुरजंट धालीवाल 
जयपुर। राजस्थानी कला व संस्कृति के विदेशी इस कद्र कायल हैं कि उन्हें भले ही यह भाषा बोलने या समझ में न आए मगर यहां के विश्व प्रसिद्ध कालबेलिया नृत्य को सीखने के लिए सात समंदर पार कर जयपुर आ रहे हैं। राजस्थानी कला, संगीत व संस्कृति को विदेशियों के दिलों में बसाने का श्रेय जाता है श्रीगंगानगर जिले के रायसिंहनगर तहसील के मूल निवासी कमल चौधरी को। 71 एनपी निवासी कमल चौधरी आस्ट्रेलिया में रहकर अपनी बुलंद आवाज के जरिये राजस्थानी कल्चर को जीवंत रखे हुए हैं। इनकी प्रेरणा से मेलबर्न में प्रवासी राजस्थानियों द्वारा हर साल बैसाखी उत्सव व गणगौर मेले का आयोजन किया जा रहा है। इन दोनों इंवेट्स में पंजाबी व राजस्थानी नृत्यों व गीतों पर आधारित रंगारंग कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं। कमल चौधरी की बदौलत वहां के मूल नागरिक भी राजस्थानी कल्चर के कायल हो गये हैं। विदेशियों को राजस्थानी गीत व नृत्य इस कद्र भाने लगे हैं कि वे कमल चौधरी के निर्देशन में कालबेलिया नृत्य सीखकर वहां पर होने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रमों में अपनी कला के जौहर पेश कर रहे हैं। इसी का परिणाम है कि कमल चौधरी हर साल राजस्थान आते हैं वहां से विदेशियों को यहां के कला एवं संस्कृति के बारे में जानकारी देने के लिए उन्हें प्रदेश का भ्रमण कराते हैं।

हरियाणवी व पंजाबी गीतों में भी आएंगे नजर कमल चौधरी
राजस्थानी सॉंग हरियाला बन्ना फेम कमल चौधरी न केवल अपनी राजस्थानी भाषा को विदेशों में बरकरार रखे हुए हैं बल्कि उन्होंने पंजाबी सॉंग कसूर में स्वर देकर खूब नाम कमाया है। अब कमल चौधरी हरियाणी व पंजाबी के कई और गानों में अपनी आवाज देंगे। इन गानों की वीडियो शूटिंग राजस्थान के विभिन्न जिलों में की जाएगी। कमल बताते हैं, जयपुर, झुंझनुं, जोधपुर व बाड़मेर जिलों में इन गानों की शूटिंग होगी। खास बात रहेगी कि इनमें मॉडल्स के रूप में विदेशी युवतियां नजर आएंगी, जिन्हें कमल चौधरी खुद नृत्य की प्रेक्टिस करवा रहे हैं। इन विदेशी कलाकारों को राजस्थानी कला एवं संस्कृति से रूबरू करवाने के लिए कमल चौधरी उन्हें आस्ट्रेलिया से जयपुर लेकर पहुंचे। मानसरोवर स्थित होटल सोवनियर में इन कलाकारों के साथ ठहरे कमल चौधरी ने अपनी भविष्य की योजनाओं के बारे में जानकारी दी।
इटली की बहिरा करेंगी कालबेलिया डांस

कमल चौधरी के निर्देशन में पंजाबी व हरियाणवी के अलावा कई राजस्थानी सॉंग भी राजस्थान में फिल्माए जाएंगे। इन गानों की खास बात ये है कि इनमें मॉडल के रूप में इटली में जन्मी बहिरा बतौर लीड डांसर के रूप में नजर आएगी। इसके लिए बहिरा मेलबर्न में रहकर कमल चौधरी के निर्देशन में कालबेलिया डांस की प्रेक्टिस कर रही है। हैरानीजनक बात ये है कि बहिरा को राजस्थानी भाषा में केवल एक ही शब्द-राम, राम सा ही बोलना आता है। म्यूजिक व स्टेप देखकर कालबेलिया नृत्य पूरी तरह से सीख लिया है। राजस्थानी वेशभूषा की शौकीन बहिरा आस्ट्रेलिया में रहकर भी यहां के गहने, वस्त्र, जुती आदि पहनती है। बतौर कमल चौधरी-बहिरा आस्ट्रेलिया में होने वाले हर कार्यक्रम में राजस्थानी गानों पर ही नृत्य पेश करती है।
पाइए हर खबर अपने फेसबुक पर।   likeकीजिए  hellorajasthan का Facebook पेज।

Leave a Reply