राजधानी के स्टेशनों पर धूम्रपान किया तो कटेगा चालान, रेलवे पुलिस की पहल

Hindi News India, a Hindi News Portal, breaking News in Hindi, India World news, Latest News Headlines, Political News, Top News Stories, Business News, Sports News, Today Viral news, Today trending news, Today viral photo, Today viral news online, trending news online,

नई दिल्ली। देश की राजधानी में आने वाले दिनों में रेलवे स्टेशन परिसर में धूम्रपान उत्पादों का उपभोग नही कर पांएगे। यदि आपने इन स्थानों पर इसका उपभोग किया तो आपका चालान कट सकता है। इसके लिए सभी स्टेशन व उसके आसपास के इलाके को तंबाकू मुक्त बनाने के लिए सभी पुलिस अधिकारियेां को केाटपा (सिगरेट एंव अन्य तंबाकू उत्पाद अधिनियम 2003) अधिनियम की तकनीकी जानकारी और तंबाकू व अन्य धूम्रपान उत्पादों के उपभोग से हेाने वाले दुष्प्रभाव की जानकारी प्रशिक्षण के माध्यम से दी जा रही है। दिल्ली पुलिस रेलवे के डीसीपी दिनेश कुमार गुप्ता के निर्देश पर संबध हैल्थ फाउंडेशन (एसएचएफ) व मैक्स इंडिया फाउंडेशन के तकनीकी सहयेाग से समस्त पुलिस अधिकारियेां को नई दिल्ली रेलवे स्टेशन के सभागार में प्रशिक्षण दिया जा रहा है। इसके तहत सात रेलवे पुलिसथानेां के अधिकारियेां को प्रशिक्षण दिया गया है। इस दौरान इस दौरान सभी पुलिस अधिकारियेां को तंबाकू स्ंवय न लेने की शपथ भी दिलाई गई।

कांग्रेस विधायक का विडियो वायरल, 20 हजार वेाटों से नही जिताया तो कुते छुड़वा दूंगाRailway Police to take Firm Action on Tobacco Use , Sambandh, Railway police,Tobacco,
इस दौरान दिल्ली पुलिस रेलवे की एसीपी मीरा शर्मा ने सभी पुलिस अधिकारिेयों से कहा कि कहा कि तंबाकू व अन्य धूम्रपान एक सामाजिक बुराई है, इसको अपनी दृढ़ इच्छा से छोड़ा और छुड़ाया जा सकता है। इसके लिए हम सबकेां मिलकर काम करना होगा। बेहतर हेागा कि सबसे पहले सभी हम स्वंय इस बुराई को छोड़ दे और जो लोग इसका पालन नही करेंगे उन पर कोटपा में चालान करें। इसके साथ ही उन्होेने कहा कि सभी रेलवे स्टेशन, रेलवे पुलिस थाने, रेलवे स्टेशन परिसर पर धूम्रपान न करने के बोर्ड भी लगाए जायेंगे।
Tobacco , Sambandh tobaccoसंबध हैल्थ फाउंडेशन (एसएचएफ) के प्रोजेक्ट मैनेजर डा.सोमिल रस्तौगी ने कहा कि ग्लोबल एडल्ट टोबेको सर्वे (गेटस 2016-2017) के अनुसार देशभर में तंबाकू उत्पादों के 15 से 24 वर्ष तक के 12.4 प्रतिशत युवा इसके उपयोगकर्ता है। दिल्ली में 5 में से एक पुरुष धूम्रपान करता है। इससे पता चलता है कि दिल्ली में धूम्रपान के रुप में तंबाकू का प्रयोग ज्यादा प्रचलित है, जबकि पूरे देश में चबाने वाले तंबाकू का प्रयोग बहुतायत में होता है। पिछले सात वर्षों में यंहा पर तंबाकू शुरु करने की औसत आयु कम हो गई हो गई है।

Ayodhya Ram Mandir Live : अयोध्या में वीएचपी और शिवसेना का शक्ति प्रदर्शन, धर्म संसद को लेकर किए सभी तरह के इंतजाम
दिल्ली में 25 लाख लोग करते है तंबाकू उत्पादों का उपभोग
दिल्ली में 25 लाख (17.8 प्रतिशत) लोग किसी न किसी रुप में तंबाकू उत्पादों का प्रयोग करतें है वंही देश में 12.6 प्रतिशत विद्यार्थी किसी न किसी रूप में तंबाकू उत्पादेां का उपयोग कर रहे है। दिल्ली में प्रतिदिन 81 बच्चे इसकी शुरुआत करतें है वंही देश में 5500 बच्चे हर दिन तंबाकू सेवन की शुरुआत करते हैं और वयस्क होने की आयु से पहले ही तम्बाकू के आदी हो जाते हैं। इसी कारण दिल्ली में प्रतिवर्ष 19 हजार लोग अपनी जान गंवा देते है। दिल्ली में ही 28 प्रतिशत व्यस्क सार्वजनिक स्थानों पर पैसिव स्मोकिंग का भी शिकार होते है। इसीलिए यह आवश्यक है कि हम बच्चों को तम्बाकू सेवन की पहल करने से ही रोके।
पुलिस अधिकारियों को वायॅस आॅफ टोबेको विक्टिमस(वीओटीवी) के पैर्टन व मैक्स अस्प्ताल के कैंसर रोग विशेषज्ञ डा.सैारभ गुप्ता ने बताया कि वर्तमान में अस्पतालों में कैंसर के जो रोगी बढ़ रहे है। इन दिनों अस्पतालों में जो इससे पीड़ित आते है उनमें पहले की अपेक्षा कम उम्र के लोग आ रहे है। इसलिए यह हम सभी के लिए चिंता का विषय है। तंबाकू व अन्य धूम्रपान उत्पादों में निकोटिन होता है जो कि हेरोइन से भी अधिक खतरनाक होता है। इनमें केवल 5 प्रतिशत से कम लोग ही निकोटिन केा छोड़ पाते है।

नेताओं की रेटिंग और समीक्षा के लिए वोटरों का अनोखा टेक्नोलॉजी प्लैटफॉर्म ‘नेता ऐप’

इसलिए हम सभी को मिलकर इसके लिए सकारात्मक ढंग से काम करना होगा। इसलिए पुलिस अधिकारियों का भी दायित्व बनता है कि वे इसे रोकने के लिए सिगरेट एंव अन्य तंबाकू उत्पाद अधिनियम (कोटपा 2003) का पूरी तरह से अनुपालना करावे। जिससे कि बच्चों व युवाअेां को इससे बचाया जा सके।
उन्होने कहा, सभी तरह के 50 प्रतिशत कैंसर की बीमारी और 90 प्रतिशत मुंह का कैंसर का कारण तंबाकू और इसके उत्पादों का सेवन है। यदि तंबाकू समाज से समाप्त हो जाए, तो हम सभी प्रकार के 50 प्रतिशत कैंसर को रोक सकते हैं। दिल्ली में लगभग 11 प्रतिशत आबादी धूम्रपान करती है।
इस दौरान कैंसर पैसेंट अनिल कुमार ने सभी अधिकारियेंा को बताया कि किस प्रकार से उन्होने इस प्रकार के उत्पादों का सेवन किया। इससे जेा कैंसर हुआ उसके बाद परिवार व समाज में उनकी क्या स्थिति हेा गई इस पर विस्तार से बताया।
इस दौरान नई दिल्ली, पुरानी दिल्ली, हजरत निजामुदीन, आनंद विहार, सब्जी मंडी, सराय रोहिल्ला, दिल्ली कैंट रेलवे पुलिस के अधिकारी उपस्थित थे।

कांग्रेस जातिवादी और साम्प्रदायिक पार्टी: प्रकाश जावड़ेकर

नेताओं की रेटिंग और समीक्षा के लिए वोटरों का अनोखा टेक्नोलॉजी प्लैटफॉर्म ‘नेता ऐप’

राजस्थान :जाति और मजहब की राजनीति करती है कांग्रेस: सुधांशु त्रिवेदी

#MeTooकी तर्ज पर #MenToo: अब पुरुष भी करेंगे महिलाओं के हाथों अपने यौन शोषण का ‘खुलासा’

OnePlus Smartphone जानिए क्या खास है वनप्लस 6 टी में

हर ताजा खबर जानने के लिए हमारी वेबसाइट www.hellorajasthan.com विजिट करें या हमारे फेसबुक पेजट्विटर हैंडल,गूगल प्लस से जुड़ें। हमें Contact करने के लिएhellorajasthannews@gmail.comपर मेल कर सकते है।

Leave a Reply