कॉमनवेल्थ गेम्स 2018: शूटर श्रेयसी सिंह ने जीता गोल्ड मैडल

गोल्ड कोस्ट (आस्ट्रेलिया)। भारत की दिग्गज महिला निशानेबाज श्रेयसी सिंह ने 21वें राष्ट्रमंडल खेलों में बुधवार को भारत की झोली में 12वां स्वर्ण पदक डाला। श्रेयसी ने महिलाओं की डबल ट्रैप स्पर्धा के फाइनल्स में पहला स्थान हासिल कर सोना जीता। साल 2014 में ग्लोस्गो में आयोजित 20वें राष्ट्रमंडल खेलों में श्रेयसी ने इसी स्पर्धा में रजत पदक जीता था और इस बार वह अपने पदक के रंग को बदलने में सफल रहीं। श्रेयसी ने शूट-ऑफ में आस्ट्रेलिया की एमा कोक्स को एक अंक से हराते हुए स्वर्ण पदक जीता। फिल्म अभिनेत्री भूमि पेडनेकर को गोल्ड कोस्ट में 21वें कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत के शानदार प्रदर्शन पर गर्व है। उन्होंने भारतीय टीम को शुभकामनाएं दी हैं।

एयर इंडिया का शानदार आॅफर: बुजुर्गों को आधे किराये में कराएगा हवाई सफर
उन्होंने कुल 98 अंक हासिल किए। सभी चार स्तरों में कुल 96 अंक हासिल करने के साथ उन्होंने शूट-ऑफ में अपने दोनों निशाने सही लगाए और जीत हासिल की।
मैरी कॉम फाइनल में
मैरी कॉम ने महिला मुक्केबाजी की 45-48 किलोग्राम भारवर्ग स्पर्धा के फाइनल में जगह बना ली है। मैरी कॉम ने बुधवार को सेमीफाइनल में श्रीलंका की अनुशा दिलरुक्सी को 5-0 से मात देकर फाइनल में जगह बनाई। ओलम्पिक कांस्य पदक विजेता मैरी कॉम पहले कभी राष्ट्रमंडल खेलों में पदक नहीं जीत पाई हैं।
फाइनल में जगह बनाते हुए हुए उन्होंने अपना रजत पदक पक्का कर लिया है। मैरीकॉम ने अपने से कमजोर विपक्षी पर शुरू से ही दबाव बनाए रखा और एकतरफा मुकाबले में जीत हासिल की।
भारत के 26 वर्षीय निशानेबाज अंकुर मित्तल ने पुरुषों की डबल ट्रैप स्पर्धा का कांस्य पदक अपने नाम किया। अंकुर ने 53 अंक हासिल करते हुए तीसरा स्थान हासिल कर कांस्य पदक जीता। इस स्पर्धा में एक अन्य भारतीय निशानेबाज अशभ मोहद को निराशा हाथ लगी।

खास खबर : एनएसजी हर तरह के हमले का जवाब देने में सक्षम : राजनाथ सिंह
ओम मिथरवाल ने निशानेबाजी में भारत की झोली में एक और पदक डाल दिया है। मिथरवाल ने 50 मिटर पिस्टल स्पर्धा के फाइनल में भारत को कांस्य पदक दिलाया। उन्होंने कुल 201.1 स्कोर के साथ कांसे पर कब्जा जमाया। वहीं जीतू राय ने निराश किया। वह 105 का स्कोर कर पहले ही पदक की दौड़ से बाहर हो गए।
मिथरवाल और जीतू ने यहां क्वालीफिकेशन में पहला और छठा स्थान हासिल करते हुए फाइनल में प्रवेश किया। जीतू ने कुल 542 का स्कोर करते हुए फाइनल में जगह बनाई तो वहीं मिथरवाल ने 549 का स्कोर किया।
मिथरवाल ने पहली सीरीज में 89, दूसरी में 90, तीसरी सीरीज में 92, चैथी सीरीज में 95, पांचवीं सीरीज में 62 और आखिरी सीरीज में 94 का स्कोर किया।

पढ़ें: – आखिर आपका आधार कार्ड कहां-कहां हुआ इस्तेमाल, ऐसे जाने

IRCTC से आधार लिंक करने पर अब पाएं 10,000 रुपए कैश और फ्री में रेल टिकट

पाइए हर खबर अपने फेसबुक पर।  Like कीजिए  hellorajasthan का Facebook पेज

Leave a Reply