अयोध्या मामला: सुप्रीम केार्ट ने सुनाया फैसला, अयेाध्या में बनेगा राम मंदिर, मस्जिद के लिये वैकल्पिक स्थान दिया जाये

Ayodhaya AND Babri Masjid Faisla, Ayodhaya Case Verdict Supreme Court Narendra Modi, RamJanmbhoomi, Ayodhaya Verdict Live case news, Ayodhaya Verdict video, Ayodhaya Verdict, Ram Mandir Latest News, Ayodhaya Verdict latest News, Faizabad Hindi, Ayodhaya Verdict , Ayodhaya Verdict ram mandir, Supreme court, UP Government, School college closed, Bikaner school closed, Churu school closed, Ram mandir Case ka kya hoga, Ayodhaya Wala mamla, अयोध्या मामले में फैसला,

नई दिल्ली। अयोध्या में राम मंदिर (Ayodhaya Ram Mandir) बनेगा, चीफ जस्टिस रंजन गगोई की अध्यक्षता में सुप्रीम केार्ट (Supreme Court) की संविधान पीठ के पांच जनों ने शनिवार को एकमत से करीब 130 साल से चले आ रहे इस संवेदनशील विवाद का पटाक्षेप कर दिया। जिसके बाद अयोध्या में विवादित राम मंदिर बनेगा, इसके लिए एक ट्रस्ट बनाया जाएगा। जो मंदिर बनाने के तौर तरीके तय करेगी, तीन महिने में मंदिर बनाने का काम शुरु हेा जाएगा। सुप्रीम कोर्ट ने यह भी कहा कि मुस्लिमेां को मस्जिद बनाने के लिए दूसरी जमीन दी जाएगी, उसने कहा कि मस्जिद बनाने के लिए मुस्लिम पक्ष को पांच एकड़ जमीन दी जाएगी। इस स्थान पर 16वीं सदी की बाबरी मस्जिद थी जिसे कार सेवकों ने छह दिसंबर, 1992 को गिरा दिया था।

Ayodhaya Verdict , Ayodhaya Verdict ram mandir, Supreme court, UP Government, School college closed,

पीठ ने कहा कि 2.77 एकड़ की विवादित भूमि का अधिकार राम लला (Ramlala) की मूर्ति को सौंप दिया जाये, हालांकि इसका कब्जा केन्द्र सरकार के रिसीवर के पास ही रहेगा। इस बीच, एक मुस्लिम पक्षकार के वकील जफरयाब जीलानी ने फैसले पर असंतोष व्यक्त करते हुये कहा कि फैसले का अध्ययन करने के बाद अगली रणनीति तैयार की जायेगी। दूसरी ओर, निर्मोही अखाड़े (Nirmohi Akhara) ने कहा कि उसका दावा खारिज किये जाने का उसे कोई दुरूख नहीं है।
संविधान पीठ ने 2.77 एकड़ विवादित भूमि तीन पक्षकारों- सुन्नी वक्फ बोर्ड, निर्मोही अखाड़ा और राम लला विराजमान- के बीच बराबर बराबर बांटने के इलाहाबाद उच्च न्यायालय के सितंबर, 2010 के फैसले के खिलाफ दायर 14 अपीलों पर 16 अक्टूबर को सुनवाई पूरी की थी।
संविधान पीठ के अन्य सदस्यों में न्यायमूर्ति एस ए बोबडे, न्यायमूर्ति धनन्जय वाई चन्द्रचूड, न्यायमूर्ति अशोक भूषण और न्यायमूर्ति एस अब्दुल नजीर शामिल थे।

अमेजन इंडिया पर आज का शानदार ऑफर देखें , घर बैठे सामान मंगवाए  : Click Here

www.hellorajasthan.com की ख़बरें फेसबुकट्वीटर और सोशल मीडिया पर पाने के लिए हमें Follow करें.