दिन-दहाड़े पत्रकार की गोली मारकर हत्या

पटना। बिहार के रोहतास जिले में एक हिंदी दैनिक समाचार पत्र के पत्रकार धर्मेंद्र सिंह की बाइक पर सवार तीन अपराधियों ने दिन दिहाड़े गोली मारकर हत्या कर दी। घटना उस वक्त हुई जब धर्मेंद्र सिंह सुबह अपने घर के पास एक चाय दुकान पर बैठकर चाय पी रहे थे। पत्रकार की हत्या पर गहरा दुःख प्रकट करते हुए लोजपा नेता और केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान ने बिहार में जंगलराज से भी बदतर स्थिति है। पासवान ने कहा कि बिहार में एक तरफ लोग मारे जा रहे हैं वहीं दूसरी ओर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार निश्चय यात्रा कर रहे हैं।

मौके पर मौजूद लोगों ने बताया कि बाइक पर सवार तीन अपराधियों ने उनके सीने में गोली मार दी। इसके बाद स्थानीय अस्पातल ले जाया गया जंहा से चिकित्सकेंा ने वाराणसी रैफर कर दिया। वाराणसी ले जाते समय रास्ते में ही उन्होने दम तोड़ दिया। घटना के बाद स्थानीय लोगों, परिजनों व पत्रकारेां ने रोष जताया। हालांकि पुलिस कल रात से ही मामले की जांच में जुटी है तथा आरोपियेंा को पकड़ने के लिए जगह जगह दबिश दे रही है
धर्मेंद्र पत्थर खनन माफियाओं के निशाने पर थे, धर्मेंद्र की हत्या के बाद आक्रोशित लोग गुस्से में सड़क पर उतर आये हैं। लोग अपराधियों की तत्काल गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं। वहीं पूरे जिले में स्थानीय लोगों के आक्रोश को देखते हुए पुलिस ने भारी संख्या में सुरक्षा बलों की तैनाती की है।
स्थानीय पत्रकारों के मुताबिक धर्मेंद्र के पत्रकारिता का कैरियर बहुत ज्यादा दिनों का नहीं है। धर्मेंद्र का जहां घर है, वहां शुरू से पत्थर माफियाओं का वर्चस्व रहा है। धर्मेंद्र बहुत हिम्मत के साथ लगातार पत्थर माफियाओं के खिलाफ लिख रहा था। उसकी कई रिपोर्ट जिले में चर्चा का विषय बनी और प्रशासन ने उसी आधार पर पत्थर माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई की। धर्मेंद्र ने हाल के दिनों में लगातार पत्थर माफियाओं पर अपनी खोजी रिपोर्ट लिखी थी। बताया जा रहा है कि इस बात से पत्थर माफिया काफी नाराज थे। हत्या के बाद लोगों को अंदेशा है कि पत्थर माफियाओं ने ही धर्मेंद्र की हत्या करायी है। धर्मेंद्र को पत्थर माफिया से धमकी भी मिली थी।

जर्नलिस्ट यूनियन ऑफ बिहार के नेशनल काउंसिल के मेंबर और वरिष्ठ पत्रकार प्रमोद दत्त ने कहा कि बिहार में पत्रकारों की सुरक्षा भगवान भरोसे है। पिछले कुछ दिनों से लगातार पत्रकारों पर हमले और उनकी हत्या हो रही है। उन्होंने कहा कि सरकार को इस पर तुरंत एक्शन लेकर पत्रकारों की सुरक्षा सुनिश्चित करनी चाहिए। जो घटनाएं पत्रकारों के साथ हो रही हैं वह चिंताजनक है।