Top

गोवा सरकार रोजगार, अर्थव्यवस्था के मसलों से निपटने को खनन बहाल करे : सीआईआई

गोवा सरकार रोजगार, अर्थव्यवस्था के मसलों से निपटने को खनन बहाल करे : सीआईआई

पणजी, 22 नवंबर (आईएएनएस)। भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) गोवा चैप्टर ने कोविड-19 महामारी के कारण उत्पन्न अर्थव्यवस्था और बेरोजगारी संबंधी समस्याओं को दूर करने के लिए तटीय राज्य गोवा में खनन गतिविधियों को फिर से शुरू करने की जरूरत पर जोर दिया है।

राष्ट्रीय खनिज नीति में बदलाव, पर्यावरण के प्रति संवेदनशील क्षेत्रों में खनन गतिविधियों से धीरे-धीरे बाहर निकलना, अवैध खनन को रोकने के लिए एक व्यापक नियामक तंत्र की स्थापना, और लौह अयस्क जमा का प्रभावी प्रबंधन आदि उद्योग निकाय द्वारा श्वेतपत्र एकिस्लरेटिंग द गोअन इकॉनमी-ए व्हाइट पेपर की गई कुछ प्रमुख सिफारिशें हैं।

इसने कहा, 2012 के दौरान और बाद में 2018 में गोवा में खनन पर रोक के बाद से, केवल एक संक्षिप्त बहाली के बाद, पर्यटन प्रमुख रोजगार सृजन क्षेत्रों में से एक रहा है। हालांकि, कोविड-19 महामारी के अचानक और अत्यधिक विनाशकारी उभार के साथ गोवा के पारंपरिक आर्थिक इंजन और रोजगार सृजन क्षेत्र चुनौतियों का सामना कर रहे हैं।

इसमें कहा गया है कि खनन को फिर से शुरू करना रोजगार पैदा करने और पारंपरिक आर्थिक इंजन को फिर से शुरू करने में बहुत बड़ी भूमिका निभा सकता है।

सीआईआई दस्तावेज में खनन क्षेत्र के नियमन का आान किया गया है, विशेषकर ग्रीन जोन्स के पास।

गौरतलब है कि 2012 में केंद्र सरकार द्वारा नियुक्त न्यायिक आयोग द्वारा 35,000 करोड़ रुपये के घोटाले के खुलासे के बाद गोवा में खनन गतिविधियों पर शीर्ष अदालत द्वारा प्रतिबंध लगा दिया गया था। 2015 में इसे फिर से शुरू कर दिया गया। हालांकि 2018 में शीर्ष अदालत द्वारा 88 खनन पट्टों के नवीनीकरण में अनियमितता पाए जाने के बाद इसे फिर से रोक दिया गया।

जब खनन उद्योग अपने चरम पर था, खनन निकासी, व्यापार और निर्यात में सकल राज्य घरेलू उत्पाद (जीएसडीपी) का 30 प्रतिशत हिस्सा था।

--आईएएनएस

वीएवी/एसजीके

Next Story
Share it