ई -सिगरेट कंपनी के फरेब का पर्दाफाश, कैंसर चिकित्सक ने लिखा ब्रिटेन की महारानी को पत्र

Cancer specialist Dr.Pankaj Chaturvedi latter to Queen Elizabeth Queen Elizabeth, Mr Boris Johnson, Prime Minister, United Kingdom, British-owned cigarette company registered in Calcutta, Imperial Tobacco Company of India Limited., European market,, British American Tobacco Company, Electronic Nicotine Delivery System (ENDS) , Public Health England, Professor Pankaj Chaturvedi Deputy Director, Tata Memorial Center, Mumbai , Queen ElizabethHistory, Queen Elizabeth News, v video, Queen Elizabeth Photo, Tobacco news, National today news, Today trending news, Today news, Google Latest News, Google Breaking news, Google News, Latest news, India latest news, ताजा खबर, मुख्य समाचार, बड़ी खबरें, आज की ताजा खबरें,

मुंबई। देश के प्रमुख कैंसर अस्पताल टाटा मेमोरियल के कैंसर विशेषज्ञ प्रो. पंकज चतुर्वेदी ने ब्रिटेन की महारानी को ई- सिगरेट के बारे में वहां के संस्थानों द्वारा जल्दबाजी में सिगरेट लॉबी को लाभ पहुंचाने के लिए किए गए शोध पर चिंता जताते हुए उनमें बिना देर किए सुधार करने का आग्रह किया है। डॉ. चतुर्वेदी ने अपने महारानी को वहां के प्रधानमंत्री जॉनसन बोरिस के माध्यम से भेजे पत्र में महारानी को लोगों के प्रति किए गए उनके वादे को भी याद दिलाया है।

अपने पत्र में उन्होंने ने कहा है कि ईएनडीएस उर्फ तंबाकू लॉबी का मुख्य तर्क यह है कि पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड ने कहा है कि ई -सिगरेट सिगरेट की तुलना में 95 प्रतिशत अधिक सुरक्षित है। यहां तक कि रॉयल कॉलेज ऑफ फिजिशियन को बड़े पैमाने पर ईएनडीएस के समर्थन के रूप में उद्धृत किया गया है। यह उद्ाहरण डोरोथी हॉजकिन, आइजैक न्यूटन, अलेक्जेंडर फ्लेमिंग, रोजलिंड फ्रैंकलिन आदि के देश में ऐसी चीजें अकल्पनीय हैं।

कैंसर के डॉक्टर श्री चतुर्वेदी ने कहा है कि ब्रिटेन में घटती सिगरेट की खपत के लिए ईएनडीएस को पूरा श्रेय देना अनुचित है, भले ही  वहां ऐसा हुआ हो। ईएनडीएस पर प्रतिबंध लगाने वाले देशों में यूके की तुलना में सिगरेट की खपत में गिरावट देखी गई है। ग्लोबल एडल्ट तंबाकू सर्वेक्षण 2016 के अनुसार, भारत ने बिना किसी वैकल्पिक निकोटीन वितरण प्रणाली को बढ़ावा दिए, केवल 5 वर्षों में तंबाकू की खपत में 17 प्रतिशत की कमी का प्रदर्शन किया है।

डॉ. चतुर्वेंदी ने पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड द्वारा प्रकाशित किए गए 95 प्रतिशत के इस जादुई आंकड़े का तंबाकू की लॉबी द्वारा लगातार शोषण किया जा रहा है, जो भारत सहित विकासशील देशों में एक और घातक लत है। इस आंकड़े के लेखकों ने माना कि हानिकारक धूम्रपान से संबंधित रसायनों की अनुपस्थिति ईएनडीएस को सुरक्षित बनाती है। उन्होंने (लेखकों) द्वारा इस तथ्य को नजर अंदाज कर दिया कि शुद्ध रूप में निकोटीन एक विषाक्त रसायन है जो एक वयस्क के लिए 30 मिली ग्राम मात्रा भी की घातक है।

ब्रिटेन के ख्याति प्राप्त संस्थनों के बारे में उन्होंने कहा है कि इस विकृत साक्ष्य में लंदन के प्रतिष्ठित संस्थानों जैसे किंग्स कॉलेज, क्वीन मैरी यूनिवर्सिटी आदि का योगदान था। यह चैंकाने वाला है कि यह निष्कर्ष दो मोटै तौर पर फिल्मी संदर्भों से लिया गया था न कि इसका आधार कोई वैज्ञानिक शोध शोध था। पहले संदर्भ यूके ऑल-पार्टी पार्लियामेंटरी ग्रुप ऑन फार्मेसी की एक संक्षिप्त रिपोर्ट थी। अन्य संदर्भ यूरोपीय व्यसन अनुसंधान में प्रकाशित एक लेख था। वर्ष 2013 में, इस पत्र के लेखकों ने निकोटीन युक्त उत्पादों के उपयोग से संबंधित विभिन्न प्रकार के नुकसान के सापेक्ष महत्वष् पर चर्चा करने के लिए विशेषज्ञों की दो दिवसीय कार्यशाला की मेजबानी की थी। विशेषज्ञों ने अपने स्वास्थ्य प्रभावों अनुसार उत्पादों की सूची बनाई और और और परिणामों के लिए उन्हें अधिभार दिया। अंत में, सिगरेट को 99. 6  अंक दिए गए और इसे सबसे अधिक हानिकारक माना गया। विशेषज्ञों ने ई-सिगरेट को 4 प्रतिशत का नुकसान-अंक दिए। यह कहने के बाद कि, उस कार्यशाला में कई विशेषज्ञों के हितों के गंभीर टकराव थे लेकिन इनका प्रकाशन में कोई जिक्र नहीं किया गया। अजीब कारणों के लिए, पीएचई ने तुरंत इस सिफारिश पर काम किया जिसमें पूरी दुनिया को गुमराह किया गया था।  इस तरह  ईएनडीएस की शुरुआत के लिए मार्ग प्रशस्त किया।

पीएचई की कार्रवाई पर अफसोस जताते हुए भारतीय कैंसर विशेषज्ञ ने कहा कि उन्हें यह कहने में निराशा हो रही है कि पीएचई  ने पाठकों को या तो हितों के टकराव या सबूतों की खराब गुणवत्ता के बारे में सावधान नहीं किया। साथ ही वह अपने राष्ट्र के स्वास्थ्य और भलाई को सुरक्षित और बेहतर बनाने के अपने जनादेश में विफल रहा है। पारंपरिक सिगरेट पर ईएनडीएस की सुरक्षा की पूरी कहानी अब अब बिखर गई है। किशोर में वैपिंग की महामारी राज्य अमेरिका में हो रही एक अभूतपूर्व घटना है। पहले ही केवल 3 महीनों में अमेरिका में इसकी चपेट में आने से 12 लोगों की मौत हो चुकी है और  और 800 से अधिक गंभीर फेफड़ों की चपेट में आ गए हैं।

ब्रिटेन में घटती सिगरेट की खपत पर डॉ. चतुर्वेदी ने कहा है कि इसके के लिए ईएनडीएस को पूरा श्रेय देना अनुचित है, भले ही ऐसा हुआ हो। ईएनडीएस पर प्रतिबंध लगाने वाले देशों में यूके की तुलना में सिगरेट की खपत में गिरावट देखी गई है। ग्लोबल एडल्ट तंबाकू सर्वेक्षण – 2016 के अनुसार, भारत ने बिना किसी वैकल्पिक निकोटीन वितरण प्रणाली को बढ़ावा दिए, केवल 5 वर्षों में तंबाकू की खपत में 17 प्रतिशत की कमी कर दिखाया है।

लोगों के बीच यह भ्रामक प्रचार किया जा रहा है कि लोगों ने यह मान लिया है कि ईएनडीएस सिगरेट छोड़ने का बेहतर उपाय है। लेकिन इसका कोई भी निर्णायक सबूत नहीं है कि ईएनडीएस वर्तमान में सिगरेट की लत छोड़ने का एक बेहतर रूप है। इसके विपरीत, वर्तमान साक्ष्य के अनुसार, सिगरेट के साथ एक चैथाई लोगों द्वारा ईएनडीएस का उपयोग किया जाता है और तीन चैथाई लोग सिगरेट छोड़ने के बाद भी ईएनडीएस के आदी बने रहते हैं। यह एक निकोटीन मुक्त या जोखिम मुक्त जीवन के धूम्रपान करने वालों को वंचित करता है, इसका कोर्ठ साक्ष्य नहीं है।  विडंबना यह है कि, मेरी जानकारी में ईएनडीएस लॉबी ने भी कभी इस दिशा में धूम्रपान  छोड़ने के लाभों का दावा नहीं किया है और नियंत्रण या समाप्ति के लिए दवा नियामकों की आवश्यकता ही बताई हहै। यदि ईएनडीएस धूम्रपान को समाप्त कर सकता है, तो सिगरेट कंपनियां अपनी मृत्यु के उपक्रम में निवेश नहीं करेंगी। ईएनडीएस उद्योग को धूम्रपान करने वालों में कोई दिलचस्पी नहीं है, लेकिन उनका मुख्य उद्देश्य हमारे मासूम बच्चों को  इसे वैंपिंग  में परिवर्तित करके उन्हें 1,500 स्वादों के साथ फुसलाते हैं, जिसमें बबल गम और कैंडी फ्लॉस शामिल हैं। अमेरिका से होने वाली घातक घटनाओं की पृष्ठभूमि में, पीएचई, ईएनडीएस लॉबी के मसीहा के रूप में उभरा है। यह उसी तरह है कि हम अपने पिछवाड़े में सांप नहीं रख सकते है, क्योंकि हम मानते हैं कि यह केवल दूसरों को काटेगा। यूके में लाखों बच्चे हैं जो ईएनडीएस के संपर्क में हैं और उन्हें तुरंत संरक्षित करने की आवश्यकता है। इंग्लैंड के सार्वजनिक स्वास्थ्य के अनुसार 11 से 18 वर्ष के छह बच्चों में से एक बच्चा  ई-सिगरेट आजमाया चुका है!

याद दिलाया तंबाकू का इतिहास
डॉ. चतुर्वेदी ने महारानी को भारत में तंबाकू उद्योग का इतिहास याद दिलाते हुए बताया है कि वर्ष 1910 में, एक ब्रिटिश स्वामित्व वाली सिगरेट कंपनी कलकत्ता में इंपीरियल टोबैको कंपनी ऑफ इंडिया लिमिटेड के रूप में पंजीकृत हुई। चूंकि सिगरेट उद्योग को अपने यूरोपीय बाजार के लिए बड़ी मात्रा में कच्ची तंबाकू की जरूरत थी, इसलिए इसने 1912 में भारत में तंबाकू की खेती को औपचारिक रूप दिया। इस ब्रिटिश कंपनी ने 1913 में भारत की पहली सिगरेट फैक्ट्री की स्थापना की थी। एक अनुमान के अनुसार, सिगरेट उद्योग पिछले 100 वर्षों में 230 लाख भारतीयों की अकाल मृत्यु के लिए जिम्मेदार है। ब्रिटिश अमेरिकन टोबैको कंपनी भारत की प्रमुख सिगरेट निर्माता कंपनी आईटीसी लिमिटेड में एक प्रमुख निवेशक बनी हुई है। जबकि भारत के ब्रिटेन के भारत के योगदान की इस अप्रतिष्ठित विरासत को भारतीय अभी भी नहीं भूले हैं, जबकि इस मामले में फिर से ब्रिटिश संस्थानों ने बमबारी की है। हाल ही में भारत सरकार ने ई-सिगरेट या इलेक्ट्रॉनिक निकोटीन डिलीवरी सिस्टम (ईएनडीएस) को अकाट्य वैज्ञानिक प्रमाणों के आधार पर प्रतिबंधित कर दिया है। प्रतिबंध का समर्थन करते हुए, भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा “ई-सिगरेट पर प्रतिबंध लगा दिया गया है ताकि नशे के इस नए रूप से हमारे जनसांख्यिकी रूप से युवा देश को नष्ट न करें। यह एक परिवार के सपनों को सिर्फ रौंदता ही नहीं बल्कि हमारे बच्चों के जीवन को बर्बाद करता है। यह संकट और यह अप्रिय आदत हमारे समाज को नहीं लगनी  चाहिए ”। आज तक, 20 से अधिक देशों, ज्यादातर दक्षिण अमेरिका, मध्य पूर्व और दक्षिण-पूर्व एशिया में, ई-सिगरेट उत्पादों की बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। इन देशों में सरकार और सार्वजनिक स्वास्थ्य विशेषज्ञों   और  तम्बाकू लॉबी के प्रमुखों के बीच लढ़ाई  चल रही है। ये तंबाकू लॉबी के प्रमुख  ईएनडीएस में प्रमुख निवेशक ही हैं। एनडीएस लॉबी का  सिगरेट लॉबी के शिकार होने के दावों के पीछे एक स्मोक स्क्रीन है। दरअसल से दोनों आपस में दोस्त हैं।

भारतीय डॉक्टर ने महारानी से कहा है कि वह ईमानदारी से आपसे अनुरोध करते हैं आपकी अपने लोगों और विश्व के नागरिकों को और नुकसान पहुंचाए, उससे पहले इस ऐतिहासिक गलती को सुधार लिया जाए। यह ब्रिटेन का इतिहास है पहले भी टोनी ब्लेयर ने इराक पर हमला करने के बहाने सामूहिक विनाश के हथियार के झूठे सबूतों पर विश्वास करने के लिए माफी मांगी थी। ईएनडीएस पर यूके के विचारों ने सिगरेट (बड़े पैमाने पर विनाश का सच्चा हथियार) उद्योग को फिर से पनपने का मौका दे दिया है जो  जो पतन के कगार पर था। आपने कहा था कि परिवार का मतलब सिर्फ रक्त संबंधियों से नहीं है, बल्कि इसका मतलब अक्सर किसी समुदाय, संगठन या राष्ट्र से होता है। मैं ईमानदारी से आपसे अपने परिवार की रक्षा करने का अनुरोध करता हूं।

अमेजन इंडिया पर आज का शानदार ऑफर देखें , घर बैठे सामान मंगवाए  : Click Here

 

www.hellorajasthan.com की ख़बरेंफेसबुकट्वीटर और सोशल मीडिया पर पाने के लिए हमें Follow करें.