जैविक खेती से मानव स्वास्थ्य की रक्षा के साथ गौपालको को मिलेगा आर्थिक स्वावलम्बन- डाॅ. कल्ला

0
urban development Transport Minister, urban development, urban development Latest News, Bikaner news, Bikaner latest news, India Hindi News, National today news, Today trending news, Today news, Google Latest News, Google Breaking news, Google News, Latest news, India latest news, ताजा खबर, मुख्य समाचार, बड़ी खबरें, आज की ताजा खबरें,

बीकानेर। ऊर्जा एवं जनस्वास्थ्य अभियांत्रिकी मंत्री डाॅ. बी. डी. कल्ला ने कहा कि गोबर से खाद व गौमूत्र से कीटनाशक बनाकर जैविक खेती को बढ़ावा दिया जाए, जिससे मानव के स्वास्थ्य की रक्षा हो सकेगी व गौपालकों को आर्थिक स्वावलम्बन प्रदान किया जा सकेगा। डाॅ. कल्ला शनिवार को मुरली मनोहर गोशाला (भीनासर) में राजस्थान गौ सेवा परिषद की ओर से आयोजित, गोबर से जैविक खाद व गोमूत्र से कीटनाशक बनाने के संबंध में राज्य के गोशाला प्रतिनिधियों के लिए एक दिवसीय गोबर-गोमूत्र प्रसंस्करण समारोह को सम्बोधित कर रहे थे।

डाॅ. कल्ला ने कहा कि वर्तमान में कृषि में अधिकाधिक रासायनिक खाद व पेस्टिसाईड्स का उपयोग हो रहा है, जिससे खाद्यान्न अस्वास्थ्यकर हो रहा है तथा इस कारण कैंसर जैसी बीमारियां बढ़ रही हैं। कृषि कार्य में गोबर व गोमूत्र के उपयोग से भूमि की उर्वरा शक्ति बढ़ेगी, साथ ही इसका मानव स्वास्थ्य पर भी सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। आवश्यकता इस बात की है कि गौशालाओं के संचालकों तथा गौपालकों को जैविक खाद के उत्पादन के लिए प्रेरित किया जाए। इससे गौ-आधारित ग्रामीण आर्थिक व्यवस्था पुनस्र्थापित की जा सकेगी, साथ ही पर्यावरण की रक्षा भी होगी।

डाॅ. कल्ला ने कहा कि गाय पूरे विश्व की माता है, यह जीवन भर संसार के लोगों को दूध पिलाती है। भगवान श्रीकृष्ण ने गायों की सेवा की थी, हमें भी उनका अनुसरण कर गायों के संरक्षण में अपना हरसंभव योगदान देना होगा। उन्होंने बताया कि जैविक खाद से उगाई गई सब्जियां सामान्य सब्जियों से कई गुना अधिक दामों पर बिकती हैं। इस खेती को बढ़ावा देकर कृषक व गौ-पालकों को आर्थिक लाभ दिलाया जा सकता है। डाॅ. कल्ला ने बताया कि नवीन तकनीक के साथ तैयार किया गया गोबर गैस संयंत्र हाईजिनिक है व घरेलू कार्य में उपयोगी है, साथ ही यह अवशेष खाद के रूप में भी काम आता है।
urban development Transport Minister, urban development, urban development Latest News, Bikaner news, Bikaner latest news, India Hindi News, National today news, Today trending news, Today news, Google Latest News, Google Breaking news, Google News, Latest news, India latest news, ताजा खबर, मुख्य समाचार, बड़ी खबरें, आज की ताजा खबरें,     इस अवसर पर उच्च शिक्षा राज्य मंत्री भंवर सिंह भाटी ने कहा कि हमें एक बार पुनः पुरातन खेती की ओर जाना होगा। जिस तरह हमारे पूर्वज गोबर की खाद से खेती करते थे और उपज लेते थे उसी तर्ज पर हमें भी गोबर खाद का उपयोग करना होगा। हो सकता है कि इस पुरातन विधि से फसल कुछ कम मिले मगर हमारे स्वास्थ्य पर इसका बेहद सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। उन्होंने कहा कि गाय माता को हम पूजते आए हैं और गाय को हमेशा देव तुल्य माना है। ऐसे में अगर हम गाय के गोबर और मूत्र का उपयोग और अधिक बेहतर तरीके से करें तो गाय के सम्मान के साथ-साथ इसका हमारे स्वास्थ्य और आर्थिक स्थिति पर भी सकारात्मक प्रभाव होगा।

भाटी ने कहा कि हमारे शहर में ही मोहता रसायनशाला द्वारा गत कई वर्षों से गोमूत्र से बनी विभिन्न दवाइयां बनाकर बेची जा रही हैं और इन दवाइयों से आम लोगों के स्वास्थ्य में गुणात्मक सुधार आ रहा है। अनेक बीमारियां ठीक करने में गोमूत्र अमृत की तरह कार्य करता है। उन्होंने कहा कि  रामसुखदास महाराज ने भी गौ सेवा को सबसे बड़ा धर्म बताया था, आज भी उनके अनुयायी गाय माता की सेवा में लगे हुए हैं। उच्च शिक्षा मंत्री ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा प्रदेश में नंदी गौशालाओं की स्थापना की जा रही है, इनके बन जाने से आवारा छोड़े जा रहे नंदियों की स्थिति में काफी सुधार होगा। उन्होंने कहा कि हम सबका दायित्व है कि जो गोवंश दूध नहीं देते हैं, ऐसे गोवंश की भी सेवा हम बेहतर तरीके से करें। उन्होंने कहा कि गौशालाओं के विकास और गोवंश की सेवा के लिए हमारे शहर के भामाशाहों ने जो सहयोग किया है, वह अपने आप में एक अनुकरणीय कार्य है।

       समारोह में संवित सोमगिरि महाराज ने कहा कि कृषि क्षेत्र का परिदृश्य बदलने के लिए गाय एक महत्वपूर्ण साधन साबित हो सकती है। हमें खेती कार्य में गोबर-गोमूत्र के अधिकाधिक उपयोग और विभिन्न बीमारियों के उपचार हेतु गोमूत्र से बनने वाली दवाइयों का इस्तेमाल करने के लिए आमजन को समझाइश करनी होगी। इस अवसर पर स्वामी दिनेश गिरि ने कहा कि हम सबको मिलकर समाज और शासन में यह बात बतानी होगी कि गोमूत्र से दवा और गोबर से खाद बनाने के अतिरिक्त इसके आगे भी और कार्य करना होगा।

     कुलपति राजूवास डाॅ. विष्णु शर्मा ने कहा कि आमजन में जैविक खाद के उपयोग व महत्व के प्रति चेतना जाग्रत की जाए। साथ ही जैविक खेती से तैयार उत्पादों की समुचित मार्केटिंग की जाए जिससे अधिकाधिक कृषक व गौपालक लाभान्वित हो सकें। उन्होंने कहा कि जैविक खेती जनकल्याण का कार्य है। कुलपति एस.के.आर.ए.यू. डाॅ. आर.पी. सिंह कहा कि रासायनिक उर्वरकों के अंधाधुन्ध प्रयोग से मृदा, मानव व पशुओं का स्वास्थ्य खराब हो रहा है। आवश्यकता इस बात की है कि देसी गाय को समुचित सम्मान मिले। उन्होंने बताया कि देसी गाय का दूध एक सम्पूर्ण भोजन है। एसकेआरएयू द्वारा कृषकों को जैविक खेती के सम्बन्ध में नियमित प्रशिक्षण दिया जा रहा है।

राजस्थान गौ सेवा परिषद के अध्यक्ष हेम शर्मा ने बताया कि गोपालकों को गोबर व गोमूत्र का उचित मूल्य मिलेगा तो वे आर्थिक रूप से सशक्त हो सकेंगे। उन्होंने बताया कि जैविक खाद की जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, पंजाब, आसाम व पश्चिम बंगाल में काफी मांग है। गोबर-गोमूत्र के क्षेत्र में खाद व कीटनाशक का राजस्थान उत्पादन केन्द्र बन,े इस सम्बन्ध में परिषद द्वारा कार्ययोजना बनाई गई है।

डॉ. गहलोत राष्ट्रीय संयोजक-  
इस अवसर पर सर्वसम्मति से निर्णय हुआ कि राजूवास के संस्थापक वीसी डॉ ए के गहलोत को राजस्थान गौ सेवा परिषद का राष्ट्रीय संयोजक नियुक्त किया जाए। संवित सोमगिरि महाराज ने डॉ. गहलोत को सूत की माला पहना कर विधिवत रूप से उन्हें राष्ट्रीय संयोजक नियुक्त करने की घोषणा की।

इस अवसर पर नगर निगम महापौर नारायण चोपड़ा, परिषद उपाध्यक्ष रिद्धकरण सेठिया, अरविन्द मिढ्ढ़ा, बाबूलाल गुप्ता, सीताराम सोलंकी, मेघराज सेठिया, अनंतवीर जैन, बनवारी डेलू, अजय पुरोहित, गुलाब गहलोत, डी पी पच्चीसिया, डाॅ. त्रिभुवन शर्मा, डाॅ. विमला मेघवाल, रघुवीर महाराज, आनंद किरण, प्रकाश सिंह, डाॅ. हेमन्त दाधीच, डाॅ. जयदीप दोगने, डाॅ. इन्द्रमोहन वर्मा, डाॅ. एन.एस.दैया, योगेश शर्मा, सुमित कोचर, सहीराम दुसाद, हजारी देवड़ा, भंवर पुरोहित, मोहन सुराणा, सुभाष मित्तल, विजय कोचर सहित बड़ी संख्या में जनप्रतिनिधि, गोपालक, कृषक, गोशाला संचालक उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन गजेन्द्र सिंह सांखला ने किया।

 

अमेजन इंडिया पर आज का शानदार ऑफर देखें , घर बैठे सामान मंगवाए  : Click Here

www.hellorajasthan.com की ख़बरेंफेसबुकट्वीटर और सोशल मीडिया पर पाने के लिए हमें Follow करें.