‘स्वच्छ भारत’ के सपने को साकार करने के लिए प्रत्येक नागरिक को करनी होगी पहल-रिणवा

गंगाशहर क्षेत्र में मस्त मंडल सेवा संस्थान का ‘घर-घर कचरा संग्रहण अभियान’ शुरू
बीकानेर। वन, पर्यावरण एवं खान मंत्राी तथा जिला प्रभारी मंत्राी राजकुमार रिणवा ने कहा कि आदिकाल से ही स्वच्छता का विशेष महत्त्व रहा है। आज भी हमें इसकी प्रासंगिकता को समझना होगा तथा अपने घर, गली और मौहल्ले को साफ-सुथरा एवं स्वच्छ रखने का संकल्प लेना होगा।‘स्वच्छ भारत’ के सपने को साकार करने के लिए प्रत्येक नागरिक को करनी होगी पहल-रिणवा 1
रिणवा शनिवार को गंगाशहर के इंद्रा चौक में मस्त मंडल सेवा संस्थान के घर-घर कचरा संग्रहण अभियान के शुभारम्भ समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि अनेक पौराणिक प्रसंगों में स्वच्छता का महत्त्व बताया गया है। हमारे घर में दिनचर्या की शुरूआत साफ-सफाई के कार्यों से होती है। महात्मा गांधी ने भी स्वच्छता को सबसे बड़ा सुख बताया था। प्रधानमंत्राी  नरेन्द्र मोदी भी ‘स्वच्छ भारत’ अभियान के माध्यम से इसे साकार रूप प्रदान कर रहे हैं। प्रधानमंत्राी के इस सपने को साकार करने के लिए प्रत्येक नागरिक को पहल करनी होगी। उन्होंने कहा कि आज शहरों और गांवो में स्वच्छता के प्रति जागरूकता आई है। वह दिन दूर नहीं जब भारत, दुनिया के स्वच्छ देशों की सूची में ऊपरी पायदान पर होगा।
प्रभारी मंत्राी ने मस्त मंडल सेवा संस्थान के प्रयासों को क्रांतिकारी परिणाम वाले प्रयास बताया तथा कहा कि इससे गंगाशहर और आसपास के क्षेत्रों में स्वच्छता का अध्याय लिखा जाएगा। उन्होंने संस्था की प्रेरणा से सहयोग उपलब्ध करवाने वाले भामाशाहों के योगदान को अनुकरणीय बताया तथा कहा कि कचरा संग्रहण के इन वाहनों से शहर की छोटी-छोटी गलियों में सहूलियत होगी। उन्होंने कहा कि दूसरी संस्थाओं और लोगों को इस प्रयास से प्रेरणा मिलेगी तथा वे भी शहर की स्वच्छता में भागीदारी बनेंगे।
संसदीय सचिव डॉ. विश्वनाथ मेघवाल ने कहा कि जिले ने ओडीएफ में श्रेष्ठतम कार्य किया है तथा प्रदेश का पहला ओडीएफ जिला बनने का गौरव प्राप्त किया है। स्वच्छता के क्षेत्रा में भी ऐसे ही ऐतिहासिक कार्य किए जाएं, जिससे बीकानेर को नई पहचान मिल सके। उन्होंने कहा कि जब तक हमारा वातावरण और गली-मौहल्ला स्वच्छ नहीं होगा, तब तक हम स्वस्थ नहीं रह सकते। संसदीय सचिव ने कहा कि मुख्यमंत्राी श्रीमती वसुंधरा राजे भी साफ-सफाई और स्वच्छता के प्रति संवेदनशील है। मुख्यमंत्राी की पहल पर बीकानेर की सबसे बड़ी समस्या सूरसागर का समाधान संभव हो पाया। उन्होंने कहा कि शहरी क्षेत्रा में गांवों की तर्ज पर ‘गौरव पथ’ बनाने के प्रस्ताव राज्य सरकार के समक्ष प्रस्तुत किए जाएंगे।
अध्यक्षता करते हुए पूर्व मंत्राी देवीसिंह भाटी ने कहा कि हमारे पूर्वजों ने जल संग्रहण, स्वच्छता, गोचर संरक्षण और कुएं, बावड़ियां और धर्मशालाएं आदि बनाने जैसे कार्यों में समाज की भूमिका को सर्वोपरि माना था। आज भी समाज को पहल करनी होगी। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्राी की आवाज जन-जन तक पहुंची है तथा अनेक क्षेत्रों में स्वच्छता के अभियान चल रहे हैं। मस्त मंडल सेवा संस्थान की पहले से स्वच्छ बीकानेर की परिकल्पना को साकार किया जा सकेगा।
बीकानेर पश्चिम विधानसभा क्षेत्रा के विधायक डॉ. गोपाल कृष्ण जोशी ने कहा कि गंगाशहर संतों की भूमि है। इस क्षेत्रा के नए अध्याय के रूप में स्वच्छता अभियान शुरू करना श्रेष्ठ है। उन्होंने कहा कि गंदगी अनेक बीमारियों का कारण बनती है तथा स्वच्छता से रोगों की संभावनाओं को कम किया जा सकता है। बीकानेर पूर्व विधानसभा क्षेत्रा विधायक सिद्धि कुमारी ने कहा कि मस्त मंडल सेवा संस्थान, नगर निगम और आमजन के साथ बेहतर समन्वय रखते हुए गंगाशहर को साफ-सुथर और स्वच्छ बनाने में योगदान दें। उन्होंने कहा कि स्वच्छता से घर में खुशहाली आती है तथा स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से यह अत्यंत जरूरी है।
डॉ. सत्यप्रकाश आचार्य ने कहा कि ‘स्वच्छ भारत’ अभियान से लोगों मे स्वच्छता के प्रति जागरूकता आई है। आमजन डस्टबीन का उपयोग करने लगा है। उन्होंने कहा कि गंगाशहर के जागरूक लोगों द्वारा नई शुरूआत कर समूचे बीकानेर को एक संदेश दिया गया है। मुकेश दाधीच ने कहा कि मस्त मंडल सेवा संस्थान जैसे संगठन प्रधानमंत्राी की मुहिम को अलग-अलग क्षेत्रों मे क्रियान्वित कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि बीकानेर में स्वच्छता के स्तर में पिछले पांच-सात माह में अच्छा सुधार देखने को मिला है।
उपमहापौर अशोक आचार्य ने कहा कि शहरी क्षेत्रा को साफ-सुथरा रखने में निगम सदैव तत्पर है। उन्होंने भामाशाहों और आमजन को भी इस कार्य में सहयोग करने की अपील की तथा संस्था के कार्यों को अनुकरणीय बताया। जेडआरयूसीसी के सदस्य तथा संस्थान संरक्षक महावीर रांका ने बताया कि स्वच्छ भारत अभियान से प्रेरित होकर संस्थान द्वारा भामाशाहों के सहयोग से नौ कचरा वाहन आमजन को समर्पित किए हैं। इन वाहनों से गंगाशहर, भीनासर, किसमीदेसर, सुजानदेसर और उदयरामसर में घर-घर कचरा संगहित किया जाएगा। उन्होंने बताया कि यह सेवा निःशुल्क है तथा सेवा से संबंधित किसी प्रकार की शिकायत, सुझाव एवं सहयोग के लिए संस्था में संपर्क किया जा सकेगा।
इससे पहले प्रभारी मंत्राी सहित अन्य अतिथियों ने लोकदेवता रामदेवजी की पूजा अर्चना की। संस्था के देवेन्द्र बैद ने स्वागत उद्बोधन दिया तथा किशोर भंसाली ने संस्था द्वारा अब तक किए गए कार्यों की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि संस्था 1980 से सामाजिक सरोकारों के विभिन्न कार्यों में लगी है। महिला संस्थान की महिलाओं ने स्वागत गीत प्रस्तुत किया तथा विद्यार्थी दिव्या ने स्वच्छता का महत्त्व बताया। कार्यक्रम का संचालन ज्योति प्रकाश रंगा ने किया।
भामाशाह हुए सम्मानित
इस अवसर पर अतिथियों द्वारा वाहन उपलब्ध करवाने वाले भामाशाहों को सम्मानित किया गया। संस्था को पूनमचंद आसकरण कमलचंद्र बोथरा, नथमल विनोद कुमार दिलीप बोथरा, श्रीहरि उदयरामसर, शुभकरण गौतमचंद्र मनीष मुकेश बोथरा, सुमेरमल चौपड़ा की स्मृति में नवल देवी, सम्पतलाल राखेचा व नारायण चंद डागा, स्व. तोलाराम गंगादेवी सामसुखा इंद्रा चौक, मोहन लाल अग्रवाल तथा रामलाल सूरजदेवी रांका चेरिटेबल ट्रस्ट द्वारा वाहन उपलब्ध करवाए गए हैं। इस अवसर पर नकद तथा अन्य सहयोग करने वाले भामाशाहों का सम्मान भी किया गया।
हरी झंडी दिखाकर रवाना किए वाहन
कार्यक्रम के बाद प्रभारी मंत्राी तथा संसदीय सचिव सहित समस्त अतिथियों ने कचरा संग्रहण वाहनों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इस अवसर पर संस्था अध्यक्ष विजय मालू, पूनम चौरड़िया, लूणकरण सामसुखा, अरिहंत नाहटा, चंद्र प्रकाश उपाध्याय, कमल चंद बोथरा तथा गौरीशंकर सुथार के अलावा पार्षद शिवकुमार रंगा, नरेश जोशी, गिरिराज जोशी, भगवती प्रसाद गौड़, अरविंद किशोर आचार्य, युधिष्ठिर सिंह भाटी, विजय मोहन जोशी, सलीम भाटी, शिवराज बिश्नोई, विजय उपाध्याय, बीकानेर व्यापार उद्योग मंडल के कन्हैया लाल बोथरा, जिला उद्योग केन्द्र के आर. के. सेठिया सहित जनप्रतिनिधि, संस्था पदाधिकारी एवं स्थानीय नागरिक बड़ी संख्या में मौजूद रहे।