डेल्टा हत्याकांड की सीबीआई जांच हो- डडूी

जयपुर। राजस्थान विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष रामेश्वर  डूडी ने बीकानेर जिले के नोखा में दुष्कर्म और हत्या की शिकार दलित छात्रा डेल्टा मेघवाल के प्रकरण की सीबीआई जांच कराने की मागं की है। डडूी ने कहाकिनोखा के श्रीजैनआदर्षषिक्षकप्रषिक्षणसस्ंथानमें अध्ययनरत डेल्टा की जिन परिस्थितियों में मौत हुई है, वह उसके साथ दुष्कर्म और सबूत मिटाने के लिए की गई हत्या के साक्ष्यांे को पुख्ता करती है। लेकिन स्थानीय पुलिस डेल्टा हत्याकाडं की निष्पक्ष जाचं नहीं कर रही है इसलिए इस मामले की सीबीआई जांच आवश्यक है।

नेता प्रतिपक्ष रामेश्वर डूडी ने कहा है कि 28 मार्च 2016 को डेल्टा शव कॉलेज परिसर स्थित पानी के कुंड से पुलिस ने बरामद किया था। इससे पहले डेल्टा ने अपने पिता को फोन कर अपने साथ हुए दुष्कर्म के हादसे और जान के खतरे के बारे में सुचना दी थी। डेल्टा के पिता ने बाडम़ेर के गडरा रोड स्थित अपने गावं से नोखा आकर कॉलेज प्रबध्ंक, पीटीआई, हॉस्टल की महिला वार्डन आदि के खिलाफ दुष्कर्म और हत्या का मामला दर्ज कराया था। लेकिन स्थानीय पुलिस शुरू से इस मामले को लेकर गभ्ंाीर नहीं है। पुलिस इस प्रकरण में आरोपियों की तरफदारी करती प्रतीत हो रही है। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि यह मामला विधानसभा के बजट सत्र में उन्होंने सदन में उठाया था। प्रदेश के मानवाधिकार, महिला और दलित सगंठन इस मामले को लगातार उठा रहे हैं। इसके बावजदू स्थानीय पुलिस डेल्टा हत्याकाडं की निष्पक्ष जाचं नहीं कर रही है।डूडी ने कहा कि अतएव यह मामला तत्काल सीबीआई को जाचं के लिए सौंपना चाहिए अन्यथा इस प्रकरण के साक्ष्य सुनियोजित रूप से नष्ट किये जाने का अंदेशा बढ रहा है। नेता प्रतिपक्ष रामेश्वर डूडी ने कहा कि वे 7 अप्रैल को प्रदेश कागं्रेस कमेटी के अध्यक्ष सचिन पायलट के साथ मृतका के बाडम़ेर जिले के गडरा रोड स्थित गावं त्रिमोही भी जाकर आये हैं। मृतका के पिता भी सीबीआई जाचं की मांग कर रहे हैं। डूडी ने कहा कि डेल्टा हत्याकाडं प्रकरण में मुख्यमंत्री श्रीमतीवसुंधराराजे की खामोशी आश्चर्यजनक है। डूडी ने कहा कि मुख्यमंत्री को याद होना चाहिए कि डेल्टा वही छात्रा है जिसने वर्ष 2006 में सातवीं कक्षा में अध्ययन करते हुए एक चित्र बनाया था, जिसके लिए उसे बाडम़ेर जिला प्रशासन ने न केवल सम्मानित किया था बल्कि मुख्यमंत्री ने इस चित्र को जयपुर में सचिवाल स्थित अपने मुख्यमंत्री कार्यालय की दीर्घा में भी लगवाया था। इतनी प्रतिभाशाली छात्रा की दुष्कर्म के बाद हत्या कर दी गई लेकिन राज्य सरकार ने खामोशी ओढ़ ली है। वहीं स्थानीय पुलिस की कार्यशैली दुर्भाग्यपूर्ण है।