भवन एवं अन्य निर्माण श्रमिकों के कल्याण से जुड़ी योजनाओं का हो प्रभावी क्रियान्वयन

0

संभागीय आयु€त ने ली संभाग स्तरीय बैठक, दिए आवश्यक दिशा निर्देश
बीकानेर। संभागीय आयु€त सुवालाल ने कहा कि भवन एवं अन्य निर्माण श्रमिकों को लाभ पहुंचाने की समस्त योजनाओं का प्रभावी क्रियान्वयन हो। प्रत्येक पात्र व्य€ित को इनका लाभ मिले, इसकी नियमित मॉनिटरिंग की जाए।

संभागीय आयु€त शुक्रवार को सीएडी सभागार में भवन एवं अन्य संनिर्माण कर्मकार कल्याण उपकर अधिनियम के तहत उपकर संग्रहण के संबंध में आयोजित संभाग स्तरीय बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। उन्होंने कहा कि राजस्थान भवन एवं अन्य संनिर्माण कर्मकार मंडल द्वारा निर्माण श्रमिकों की कल्याणकारी योजनाओं के वित्त पोषण के लिए अधिनियम बनाया गया है तथा उपकर लगाने, एकत्र करने एवं उसकी प्रक्रिया के संबंध में प्रावधान निर्धारित किए गए हैं। साथ ही विभिन्न स्तरों पर ‘निर्धारण अधिकारी’ व ‘उपकर संग्रहक’ नियु€त किए गए हैं। इन अधिकारियों को अधिनियम के प्रावधानों की जानकारी हो तथा इनके अनुरूप प्रभावी कार्यवाही की जाए। उन्होंने कहा कि इसके लिए जिला स्तर पर प्रभावी मॉनिटरिंग सिस्टम लागू किया जाए तथा इससे जुड़े सभी अधिकारियों को प्रशिक्षण दिए जाएं।

प्रत्येक श्रमिक का हो पंजीयन
संभागीय आयु€त ने कहा कि निर्माण श्रमिकों को अधिनियम के प्रावधानों का लाभ मिले, इसके लिए उनका पंजीयन जरूरी है। इसे ध्यान रखते हुए प्रत्येक पंजीयन प्राधिकारी गंभीरतापूर्वक कार्य करें। प्राधिकारी कार्यालयों में आवेदन पत्र का प्रारूप उपलŽध रहे तथा भवन एवं अन्य निर्माण श्रमिकों को हिताधिकारी के रूप में पंजीकृत करने तथा उन्हें परिचय पत्र जारी करने का कार्य प्राथमिकता से किया जाए। उन्होंने कहा कि नगरीय और ग्रामीण निकायों की साधारण सभा की बैठकों में इसका व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाए।

वसूला जाएगा एक प्रतिशत उपकर
अतिरि€त श्रम आयु€त धनराज शर्मा ने कहा कि अधिनियम के तहत राजकीय एवं निजी सभी प्रकार के निर्माण कार्यों पर लागत के एक प्रतिशत की दर से उपकर वसूले जाने का प्रावधान है, लेकिन दस लाख रूपये की लागत तक के निजी आवास के निर्माण कार्यों को इसमें सम्मिलित नहीं किया गया है। उन्होंने बताया कि नियम अनुसूचित किए जाने के पश्चात् वर्ष 2009 में राजस्थान भवन एवं अन्य संनिर्माण कर्मकार कल्याण मंडल का गठन किया गया। इसके तहत श्रमिक कल्याण की अनेक योजनाएं संचालित की जा रही हैं।

संयु€त श्रम आयु€त पी. पी. शर्मा ने उपकर संग्रहण के प्रावधानों, उपकर निर्धारण एवं संग्रहण के दायित्वों के बारे में बताया तथा प्रत्येक निकाय क्षेत्र में उपकर संग्रहण पर विशेष ध्यान देने की बात कही। भवन एवं अन्य संनिर्माण श्रमिक कल्याण मंडल के सदस्य गौरी शंकर व्यास ने कहा कि उपकर का लाभ निर्माण श्रमिकों को मिले, इसके लिए प्रभावी व्यवस्था हो। कोई भी निर्माण श्रमिक बिना पंजीयन निर्माण कार्य ना करें, इसके लिए ठेकेदारों को भी पाबंद करने का सुझाव उन्होंने दिया। बैठक में संयु€त निदेशक (सांख्यिकी) इंदीवर दूबे सहित संभाग के विभिन्न नगरीय निकायों के प्रतिनिधि मौजूद थे।

 

www.hellorajasthan.com की ख़बरेंफेसबुकट्वीटर और सोशल मीडिया पर पाने के लिए हमें Follow करें.