वेटरनरी विश्वविद्यालय और कृषि की आत्मा परियोजना के तहत पशुपालन से आय में वृद्धि के लिए किसानों को प्रशिक्षण

0
Farmers to increase income, Farmers to increase income details, animal husbandry , Veterinary University Training , वेटरनरी विश्वविद्यालय ,SKRAU Bikaner, Bikaner SKRAU University, Agriculture University News, Agriculture University Results, Agriculture University Latest News, Bikaner Hindi News, Bikaner ke trending news, Bikaner live news, Veternary Bikaner Rajasthan university of Veterinary and animal sciences, university of Veterinary and animal sciences,, Bikaner university of Veterinary and animal sciences,, RAJUVAS Bikaner, Bikaner Hindi News, Bikaner ke trending news, Bikaner live news, Vice Chancellor Prof. Vishnu Sharma Bikaner , Today trending news, Today news, India latest news, ताजा खबर, मुख्य समाचार, बड़ी खबरें, आज की ता जा खबरें, Google News,

बीकानेर। वेटरनरी विश्वविद्यालय (Veterinary University) और कृषि की “आत्मा“ परियोजना के तत्वावधान में पशुपालन से आय में वृद्धि विषय पर कृषकों का दो दिवसीय प्रशिक्षण संपन्न हो गया। राजुवास के पशुधन चारा संसाधन प्रबन्धन एवं तकनीक केन्द्र के मुख्य अन्वेषक डाॅ. दिनेश जैन ने बताया कि पशुपालन आय में वृद्धि की उन्नत तकनीकों के बारे में विषय विशेषज्ञों की वार्ताएं आयोजित की गई। प्रशिक्षण में लूणकरनसर तहसील के 30 कृषक शामिल हुए।

Farmers to increase income, Farmers to increase income details, animal husbandry , Veterinary University Training , वेटरनरी विश्वविद्यालय ,SKRAU Bikaner, Bikaner SKRAU University, Agriculture University News, Agriculture University Results, Agriculture University Latest News, Bikaner Hindi News, Bikaner ke trending news, Bikaner live news, Veternary Bikaner Rajasthan university of Veterinary and animal sciences, university of Veterinary and animal sciences,, Bikaner university of Veterinary and animal sciences,, RAJUVAS Bikaner, Bikaner Hindi News, Bikaner ke trending news, Bikaner live news, Vice Chancellor Prof. Vishnu Sharma Bikaner , Today trending news, Today news, India latest news, ताजा खबर, मुख्य समाचार, बड़ी खबरें, आज की ता जा खबरें, Google News,इस शिविर के समापन सत्र में निदेशक पी.एम.ई., राजुवास की प्रो. अन्जु चाहर ने पशुपालकों का बताया कि वे अपने पशुओं को कृमिनाशी दवा का सेवन अवश्य कराएं जिससे कि पशुओं के दुग्ध उत्पादन में कमी नहीं आयेगी। उपनिदेशक कृषि एवं पदेन परियोजना निदेशक “आत्मा“ डाॅ. राजेश कुमार नेनावत ने बताया कि कृषि क्षेत्र की आय को दुगुना करने के लिए हमें पशुपालन तथा खेती में लागत कम करने तथा उत्पादन बढ़ाने पर विशेष ध्यान देना होगा।

उन्होनें प्रशिक्षणार्थियों को खेती की लागत कम करने के उपाय जैसे कि मृदा जाँच, बीजोपचार तथा फसल चक्र अपनाने को कहा। नाबार्ड के जिला विकास प्रबन्धक रमेश ताम्बिया ने नाबार्ड की सहायता एवं योजनाओं की जानकारी दी। नेस्ले कम्पनी के क्षेत्रीय प्रबन्धक अहमद फजील तथा डाॅ. राहुल जाँगिड़ भी उपस्थित रहे।

इस दो दिवसीय प्रशिक्षण शिविर में राजुवास के डाॅ. राधेश्याम आर्य, डाॅ. राजेश नेहरा, डाॅ. तारा बोथरा, डाॅ. विरेन्द्र नेत्रा, टीचिंग एसोसिएट दिनेश आचार्य तथा महेन्द्र सिंह मनोहर द्वारा इस शिविर में व्याख्यान दिये गये। प्रश्नोत्तरी विजेताओं को पुरस्कार वितरित किए गये जिसमें प्रथम पुरस्कार गोपालराम, द्वितीय पुरस्कार प्रभुराम तथा ततृीय पुरस्कार रूपाराम को दिया गया।

 

www.hellorajasthan.com की ख़बरेंफेसबुकट्वीटर और सोशल मीडिया पर पाने के लिए हमें Follow करें.