Top

बांग्लादेश सरकार राहत सामग्री को सही तरीके से वितरित करने में विफल : अर्थशास्त्री

बांग्लादेश सरकार राहत सामग्री को सही तरीके से वितरित करने में विफल : अर्थशास्त्री

ढाका, 4 अगस्त (आईएएनएस)। प्रसिद्ध अर्थशास्त्री और श्रम अधिकार कार्यकर्ता एम. एम. आकाश ने दावा किया है कि बांग्लादेश सरकार राहत सामग्री के सही तरीके से वितरण करने में विफल रही है।

अर्थशास्त्री ने आईएएनएस के साथ एक विशेष साक्षात्कार में कहा, यह सच है कि बांग्लादेश सरकार राहत और अन्य स्वास्थ्य सामग्री को ठीक से लक्षित लोगों को वितरित करने में विफल रही है।

उन्होंने कहा, ऐसा इसलिए है, क्योंकि सरकार के पास अत्यधिक गरीबों की सूची है, लेकिन मध्यम गरीब या निम्न मध्यम वर्ग की नहीं है। मौजूदा कोविड-19 महामारी ने उन्हें (मध्यम गरीब या निम्न मध्यम वर्ग) एक बड़े संकट में पहुंचा दिया है। इन लोगों को राहत और अन्य स्वास्थ्य सामग्री के साथ बड़े समर्थन की आवश्यकता है।

अर्थशास्त्री ने कहा, लेकिन पहली समस्या यह है कि सूची नहीं है, दूसरी समस्या यह है कि इसे कैसे वितरित किया जाए। नकद सहायता किसी भी मोबाइल नेटवर्क प्रणाली के माध्यम से दी जा सकती है, लेकिन उन्हें लक्षित लोगों के मोबाइल नंबर की आवश्यकता होगी।

आकाश ने आईएएनएस को बताया कि सरकार सामाजिक विशेषज्ञों और सही कार्यकर्ताओं के साथ एक टीम तैयार कर सकती है, जो इस संकट को दूर करने में मदद कर सकती है।

उन्होंने कहा कि समन्वय की कमी भी एक समस्या है।

कोरोनावायरस फैलने के बाद लागू किए गए लॉकडाउन के कारण कम आय वाले लोगों की आजीविका बुरी तरह प्रभावित हुई है। इसलिए उनके बीच राहत सामग्री का वितरण सहायता प्रदाताओं के बीच समन्वय की कमी से कुप्रबंधन का सामना कर रहा है।

विभिन्न सरकारी और गैर-सरकारी एजेंसियां, सामाजिक संगठन और सभी क्षेत्रों के लोग निम्न-आय वाले लोगों और उन लोगों की मदद के लिए आगे आए हैं, जिनका चूल्हा रोजाना कुछ पैसे कमाने के बाद ही चल पाता है।

आकाश ने एक सुझाव के साथ निष्कर्ष निकाला: अगर अत्यंत गरीबों की सूची है और यद्यपि इसमें कुछ समस्या है, तो सरकार को पहले उन लोगों तक पहुंचने का प्रयास करना चाहिए।

उन्होंने कहा कि इसके लिए दोबारा से जांच (क्रॉस-चेक) भी होनी चाहिए। आकाश ने कहा, यदि सूची में कोई गलती पाई जाती है, तो इसे ठीक किया जाना चाहिए, ताकि अगले चरण में गलती न हो।

इस बीच सरकार कोरोनावायरस महामारी के बीच लोगों की पीड़ा को कम करने के लिए अपनी मानवीय सहायता के हिस्से के रूप में देश भर में राहत वितरण जारी रखे हुए है।

देशभर के 64 जिलों में कुल 11,017 मीट्रिक टन चावल पहले ही आवंटित किया जा चुका है।

एनडीआरसीसी का कहना है कि इसके अलावा बच्चों के भोजन और अन्य वस्तुओं की खरीद के लिए 122 करोड़ टका नकद वितरित किए गए हैं।

आपदा प्रबंधन और राहत मंत्रालय के माध्यम से दी जा रही सहायता बांग्लादेश के सभी जिलों और उप-जिला प्रशासन के माध्यम से वितरित की जा रही है।

--आईएएनएस

Next Story
Share it