Top

मप्र में कोरोना के बढ़ते मरीजों ने सरकार की चिंता बढ़ाई

मप्र में कोरोना के बढ़ते मरीजों ने सरकार की चिंता बढ़ाई

भोपाल, 22 नवंबर (आईएएनएस)। मध्यप्रदेश में लगता है कि कोरोना की दूसरी लहर आ गई है और यही कारण है कि मरीजों की संख्या में भी बेतहाशा बढ़ोतरी हो रही है। इन हालातों ने सरकार की चिंता बढ़ा दी है। महामारी पर काबू पाने के लिए सरकार की ओर से एहतियाती कदम उठाए जा रहे हैं।

राज्य में बीते कुछ समय से 24 घंटों में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में 1000 से कम की बढ़ोतरी हो रही थी, मगर बीते चार दिनों में स्थितियां तेजी से बदली हैं और अब तो बीते 24 घंटों में डेढ़ हजार से ज्यादा मरीज सामने आए हैं। बदले मौसम के साथ मरीजों की संख्या में हुई बढ़ोतरी ने सरकार की चिंताओं को बढ़ा दिया है। यही कारण है कि राज्य के पांच प्रमुख जिलों -- इंदौर, भोपाल, ग्वालियर, विदिशा और रतलाम में रात का कर्फ्यू भी लगाना पड़ा है।

एक तरफ पांच जिलों जहां मरीज सबसे ज्यादा सामने आ रहे हैं, वहां रात का कर्फ्यू लगाया गया है तो दूसरी ओर बिना मास्क निकलने वालों पर सख्त कार्रवाई भी की जा रही है। उज्जैन सहित कई जिलों में तो बिना मास्क लगाने वालों को कुछ घंटों की जेल भी हो रही है इसके अलावा जुर्माना भी ऐसे लोगों पर लगाए जा रहा है।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी आम लोगों से कोरोना को लेकर एहतियात बरतने की अपील की है। उन्होंने कहा है कि कोरोना को हराने से बचाव की गाइडलाइन का पालन करें। मास्क का आवश्यक रूप से उपयोग करें। साथ ही बार-बार हाथ धोएं और सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखें। स्वयं के साथ देश के लिए संवेदनशील रहना और कोरोना से बचाव के प्रति सजग और सतर्क रहना जरूरी है।

वहीं राज्य का आयुष विभाग भी इस बीमारी से निपटने के लिए तैयार है। राज्य के आयुष राज्य मंत्री रामकिशोर कावरे ने सभी आयुष औषधालयों में दवाइयों की उपलब्धता और मरीजों को उपचार उपलब्ध कराने हेतु आवश्यक कदम उठाने को कहा है।

एक तरफ जहां सरकार की ओर से एहतियाती कदम उठाए जा रहे हैं, मास्क का उपयोग न करने वालों को दंडित किया जा रहा है, तो वहीं जनजागृति अभियान भी चलाए जा रहे हैं। भोपाल में तो रोको टोको अभियान फिर से शुरू किया गया है। इस अभियान के तहत टोलियां बाजार में घूम रही हैं। इन दलों के सदस्य यमराज और चित्रगुप्त बनकर लोगों को हिदायत दे रहे हैं कि अगर उन्हें स्वस्थ रहना है, बीमारी से बचना है तो वे मास्क का उपयोग करें, इतना ही नहीं इस दल के सदस्य मास्क भी वितरित कर रहे हैं।

--आईएएनएस

एसएनपी-एसकेपी

Next Story
Share it