आर्थिक समीक्षा 2018-19: भारतीय रेलवे में 2018-19 में रेल दुर्घटनाएं हुई शून्य

Indian Railways, Indian Railways latest News, Train Diverted, Indian Railway Hindi News, Today trending news, Today news, Latest news, Google Latest News, Google News, IRCTC News, Indian Railway news, IRCTC LATEST NEWS, ताजा खबर, मुख्य समाचार, बड़ी खबरें, आज की ताजा खबरें, indian railway enquiry, indian railway information, indian railway info, indian railways pnr, indian railway pnr status , indian railway indian railway information, indian railways pnr, indian railway reservation, indian railway gov, indian railway booking, indian railway minister, indian railway running status, indian railway app, indian railway map, indian railway ticket booking, indian railway recruitment,

नई दिल्ली। भारतीय रेलवे में 2018-19 के दौरान रेल दुर्घटनाअेां के मामलों में कमी आई है। पहले की अपेक्षा अब ये मामले शून्य के बराबर हो गए है।

केंद्रीय वित्त और कॉरपोरेट मामलों की मंत्री निर्मला सीतारमण ने संसद में आर्थिक समीक्षा पेश करते हुए बताया कि हादसों से संबंधित रेलवे के आंकड़े बताते हैं कि 2018-19 के दौरान ट्रेनों के टकराने के मामले शून्य हो गए और रेलगाड़ियों के बेपटरी होने की घटना 2016-17 के 78 से घटकर 2018-19 में 46 हो गए है।

रेलवे में माल ढुलाई से राजस्व में वृद्वि
रेलवे में माल ढुलाई से राजस्व में 5.33 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई भारतीय रेलवे द्वारा विद्युतीकरण के बड़े कार्यः 2021 तक 38,000 किलोमीटर रेललाइन का विद्युतीकरण किया जाएगा। जिससे ब्रॉडगेज का 100 प्रतिशत विद्युतीकरण का लक्ष्य हासिल हो जाएगा, 10 रेलवे स्टेशनों, 34 वर्कशापों और 4 उत्पादक ईकाइयों को ग्रीन इंडस्ट्रिज सर्टिफिकेट मिला।

आर्थिक समीक्षा के मुताबिक 2018-19 के दौरान रेलवे ने 1159.55 मिलियन टन की माल ढुलाई (कोंकण रेलवे द्वारा किए गए लदान को छोड़कर) से राजस्व हासिल किए जबकि 2016-17 की अवधि में यह आंकड़ा 1106.15 मिलियन टन दर्ज किया गया था। यानी 2016-17 के मुकाबले 2018-19 में 53.49 मिलियन टन, 4.83 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई।

आर्थिक समीक्षा के अनुसार भारतीय रेलवे ने 1221.39 मिलियन टन का राजस्व अर्जक माल भाड़ा लदान किया था जो वर्ष 217-18 के माल भाड़ा यातायात से 61.84 मिलियन टन की वृद्धि दर्शाता है, अर्थात इसमें 5.33 प्रतिशत की वृद्धि हुई थी। 2016-17 की तुलना में वर्ष 2017-18 के दौरान भारतीय रेलवे से यात्रा करने वाले यात्रियों की संख्या में 2.09 प्रतिशत की वृद्धि हुई थी। इसी प्रकार 2017-18 की तुलना में वर्ष 2018-19 में भारतीय रेलवे में यात्रा करने वालों की संख्या में 0.64 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई।

100 प्रतिशत विद्युतीकरण करने के लिए विशेष कार्यक्रम की शुरुआत
भारतीय रेलवे ने अपने ब्रॉडगेज नेटवर्क के 100 प्रतिशत विद्युतीकरण करने के लए एक प्रमुख कार्यक्रम की शुरुआत की है। इससे आयातित डीजल तेल पर देश की निर्भरता कम होगी। 01 अप्रैल 2019 की स्थिति के अनुसार भारतीय रेलवे के पास विद्युत चालित 35,488 किलोमीटर मार्ग का नेटवर्क है, जो कुल नेटवर्क का 51.85 प्रतिशत है और 64.50 प्रतिशत माल ढुलाई करता है जबकि 53.70 प्रतिशत कोचिंग ट्रैफिक का वहन करता है। विद्युतीकरण की गति में वृद्धि हुई है और वर्ष 2021 तक इसे बढ़ाकर 38000 किलोमीटर करना तय किया गया है।

स्वच्छ रेलवे, स्वच्छ भारत, मिशन स्वच्छता
आर्थिक समीक्षा में कहा गया है कि स्वच्छ रेलवे, स्वच्छ भारत, मिशन स्वच्छता पर केंद्रित है। स्वच्छ रेलवे पोर्टल के अनुसार क श्रेणी के स्टेशनों में स्वच्छता के मामले में भारत में ब्यास रेलवे स्टेशन को प्रथम स्थान हासिल हुआ है और क-1 की सूची वाले रेल स्टेशनों में ‘विशाखापत्तनम’ शीर्ष पर रहा। ऊर्जा और जल संरक्षण के क्षेत्र में भी रेलवे ने वास्तविक प्रयास किए हैं और ग्रीन रेटिंग हासिल करने के लिए रेलवे स्टेशनों में होड़ लगी हुई है।

रेलवे उत्पादक ईकाइयों और वर्कशॉपों के ग्रीन सर्टिफिकेट
इसी प्रकार ग्रीन इंडस्ट्रिज सर्टिफिकेट के जरिय भारतीय रेलवे उत्पादक ईकाइयों और वर्कशॉपों के ग्रीन सर्टिफिकेट को बढ़ावा दे रहा है। भारतीय रेलवे इस काम को भारतीय उद्योग परिसंघ के सहयोग से अंजाम दे रहा है। अभी तक सीआईआई द्वारा 10 रेलवे स्टेशनों, 34 वर्कशापों और 4 उत्पादक ईकाइयों को ग्रीन इंडस्ट्रिज सर्टिफिकेट मिला है।

आर्थिक समीक्षा 2018-19 में कहा गया है कि लागत प्रभावी लंबी दूरी के परिवहन के क्षेत्र में रेलवे ने उल्लेखनीय प्रगति की है। यात्रियों की सुरक्षित यात्रा को सुनिश्चित करने के लिए रेलवे ने लिफ्ट, स्केलेटर, प्लास्टिक बोटल क्रशर मशीन, मशीन से साफ-सफाई और हाउस कीपिंग जैसे कई कदम उठाए हैं।

www.hellorajasthan.com की ख़बरें फेसबुकट्वीटर और सोशल मीडिया पर पाने के लिए हमें Follow करें.