रेलवे का एक्शन प्लान 100 और पुश पुल से बढ़ेगी रेल गाड़ियेां की स्पीड

0
Indian railway Come up with ‘Push Pull’, Indian railway Push Pull Technology, railway Push Pull Technology, Indian Railways, Indian Railways latest News, Indian Railway Hindi News, Today trending news, Today news, Latest news, Google Latest News, Google News, IRCTC News, Indian Railway news, IRCTC LATEST NEWS, ताजा खबर, मुख्य समाचार, बड़ी खबरें, आज की ताजा खबरें, indian railway enquiry, indian railway information, indian railway info, indian railways pnr, indian railway pnr status , indian railway Latest news, indian railway information, indian railways pnr, indian railway reservation, indian railway gov, indian railway booking, indian railway minister, indian railway running status, indian railway app, indian railway map, indian railway ticket booking, indian railway recruitment, indian railway enquiry system, indian railway time

@श्याम मारु
नई दिल्ली। भारतीय रेलवे (Indian Railway) यात्रियों को अधिक सेवाएं उपलब्ध कराने के लिए हर संभव प्रयास कर रहा है। जहां एक और कई रेलगाड़ियेां के संचालन का काम को निजी हाथों में सौंप दिया वंही भारतीय रेलवे वैश्विक स्तर पर मुकाबला करने के लिए बुलेट ट्रेन चलाने पर काम चल रहा है। इसके साथ ही रेलगाड़ियों की गति बढ़ाने के लिए नित नए प्रयोग किए जा रहे हैं। अब खासतौर पर इनमें नवीनतम तकनीकी है पुश-पुल। इस टेक्नोलोजी को अपनाकर रेलवे ट्रेनों की स्पीड बढ़ा रहा है। प्रारंभिक तौर पर इसके परिणाम भी सकारात्मक मिलने लगे है। पुश-पुल टेक्नोलोजी से भारतीय रेलों की स्पीड 130 किलोमीटर प्रतिघंटा हो गई है। रेल प्रशासन का देश की रेल पटरियों पर प्रत्येक ट्रेन की गति 225 किलोमीटर प्रति घंटा करने का लक्ष्य है।

ये है पुश-पुल टेक्नोलोजी
भारतीय रेलवे अपने यात्रियों को समय पर गंत्वय स्थानेां पर पहुंचाने के लिए पुश-पुल टेक्नोलोजी का प्रयोग कर रहा है। जिसमें इस टेक्नोलोजी में रेलगाड़ी चलाने के लिए दो इंजन लगाए जाते हैं एक इंजन ट्रेन के आगे और दूसरा पीछे की तरफ लगेगा। ये इजन लगाने से ट्रेनों की गति बढ़ जायेगी। इसमें आगे वाला इंजन अपनी पूरी ताकत से ट्रेन को खींचता है तो दूसरा इंजन पीछे से धक्का लगाता है। जब रेलवे ने पहली बार इसका प्रयोग करके देखा तो इसके उत्साहजनक परिणाम मिले। इस तकनीक का खासतौर पर पहाड़ी क्षेत्र में मैदानी इलाकों की अपेक्षा ज्यादा फायदा मिला है। खासकर चढ़ाई के दौरान पीछे वाले इंजन से ट्रेन को चलाने में काफी मदद मिली।

पुश-पुल टेक्नोलोजी का भारतीय रेलवे में सबसे पहले पहाड़ी क्षेत्रों में चढ़ाई के लिए ट्रेन के पीछे इंजन लगाकर प्रयोग किया गया। लेकिन ये प्रयोग मांग के आधार पर ही किया जाता था। यानि किसी खण्ड में ट्रेन चढ़ाई के दौरान खड़ी हो गई तब अतिरिक्त इंजन भेजकर पीछे से धकेला जाता। लेकिन अब इसे व्यवस्थित और सभी रास्तों पर इस्तेमाल करने की योजना बनाई गई। इसका सबसे पहले प्रयोग पिछले साल 7 अक्टूबर 2018 को दिल्ली के हजरत निजामुद्दीन स्टेशन से मुम्बई के बान्द्रा टर्मिनस तक किया गया। पीछे से इंजन लगाने के बाद इस खण्ड पर यह पाया गया कि इस टेक्नोलोजी से इन दोनों स्टेशनों के बीच सफर में 83 मिनट कम लगे। इसके बाद 13 फरवरी 2019 को मुम्बई के छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस से हजरत निजामुद्दीन तक चलने वाली सीआर गाड़ी संख्या 22221 राजधानी एक्सप्रेस में इस टेक्नोलोजी का इस्तेमाल किया गया। इसमें सफर का लगभग 95 मिनट कम लगे। अब भारतीय रेलवे दोनों टेक्नोलोजी होने का फायदा उठाने की समीक्षा की गई है। विदेशों में इस टेक्नोलोजी का कई बार इस्तेमाल किय गया। फ्रांस के टीजीवी सिस्टम, यूरो स्टार, अमेरिका की एसेला ट्रेन और पश्चिमी देशों में कई ट्रेनों में इसका इस्तेमाल किया जा रहा है।

मालगाड़ी में भी हो चुका है प्रयोग
साथ ही यह तकनीक पहाड़ी इलाकों में तो काफी उपयोगी है। इस तकनीक से ट्रेन आसानी से पहाड़ों पर चढ़ सकेगी। खासकर मालगाड़ियों के लिए। इसके लिए रेलवे ने मालगाड़ी पर प्रयोग करके देखा। दक्षिण पूर्वी रेलवे के चक्रधरपुर डिविजन के बंडामुंडा सेक्शन पर मालगाड़ी के दोनों दिशाओं में इंजन लगाकर इसे चलाया गया। इस खण्ड में चढ़ाई होने के बावजूद किसी तरह की कोई परेशानी नहीं बल्कि अपेक्षाकृत ज्यादा आसानी से परिचालन हुआ। बंडामुंडा सेक्शन दक्षिण पूर्व रेलवे के चक्रधरपुर मंडल में है। उत्तर दिशा में यह रांची और हटिया को जोड़ता है। जबकि पूर्व दिशा में चक्रधरपुर को जोड़ता है। बंडामुंडा सेक्शन में पुश व पुल तकनीक से मालगाड़ी का ट्रायल के तौर पर परिचालन किया गया है। यह पूरी तरह सफलतापूर्वक किया गया है।

बरसात में भी कारगर
बरसात के दिनों में भी यह तकनीक काफी कारगर साबित होने की बात कही जा रही है। बारिश की बूदों के कारण चढ़ाई के दौरान ट्रेन का चक्का स्लिप हो सकता है। पहले कई बार पहाड़ी क्षेत्रो में बरसात के दौरान अचानक ब्रेक लगाने की स्थिति में ट्रेन पीछे लुढ़कने लगती। या फिर चढ़ाई के दौरान ट्रेन खड़ी हो सकती है। ऐसे में सेक्शन ब्लाॅक हो जाए तो यातायात बाधित हो सकता है। पुल-पुश सिस्टम स्वतः ही इस पर नियंत्रण कर लेता है।

पुश-पुल का उद्देश्य
पुल-पुश सिस्टम का मुख्य उद्देश्य ट्रेन को अधिक एक्सीलेरेशन देना है। इस तकनीकी में ब्रेक भी तेजी से लगता है। पश्चिमी भारत के घाट, पहाड़ियों में सफर सुरक्षित हो रहा है। खतरनाक मोड़ व चढ़ाव के दौरान कई बार ट्रेन पटरी से उतर जाती थी। पुराने सिस्टम मे कसारा या करजत के घाट में पीछे से इंजन जोड़ने के बाद ट्रेन आसानी से चलती थी। बाद में पीछे लगे इंजन को इगतपुरी या लोनावाला में हटा लिया जाता था। इसमें समय लगता था। पुश-पुल सिस्टम में स्पीड कभी भी कम या ज्यादा की जा सकती है। सबसे बड़ी बात दोनों छोर पर लोको मोटिव लगाने से एक साथ नाकाम होने की सम्भावना न के बराबर है।

इनका कहना है
रेलवे बोर्ड (पूर्व मंडल रेल प्रबंधक, बीकानेर) की अतिरिक्त सदस्य मंजू गुप्ता ने बताया कि भारतीय रेलवे के द्वारा पुश-पुल टेक्नोलोजी से रेलगाड़ियों की स्पीड बढ़ाई जाएगी। प्रारंभिक तौर पर इसका प्रयोग सफल रहा है। लम्बी दूरियों के सफर में 90 से 120 मिनट तक समय घट सकता है। इसका यात्रियों को फायदा मिलेगा। पहाड़ी क्षेत्रों के साथ-साथ पूरे देश में इसे लागू किया जाएगा। साथ ही इससे उर्जा में भी बचत होगी।

रेलवे का एक्शन प्लान-100
भारतीय रेलवे ने अपनी सेवाअेां खासतौर पर गाड़ियों की गति सीमा बढ़ाने के लिए एक्शन प्लान 100 तैयार किया है। अब आरडीएसओ हजरत निजामुद्दीन-मुंबई रूट की तरह मानकों पर खरा उतरने वाले देश के सभी जोन के रूट पर पुशपुल तकनीक से स्पेशल राजधानी और एलएचबी बोगियों वाली ट्रेनों को दौड़ाकर उनका ट्रायल करेगा। इस तकनीक से एक से पांच घंटे का समय ट्रेनें बचाएंगी। रेलवे के एक्शन प्लान-100 के तहत कई जोन में ट्रेनों की गति बढ़ाने की तैयारी है। इसके लिए आरडीएसओ जेनरिक स्पीड सर्टिफिकेट प्रदान करेगा।

इंजन पुश पुल तकनीक में डब्ल्यूएपी-सात और डब्ल्यूएपी-पांच श्रेणी का इलेक्ट्रिक इंजन 20 एलएचबी बोगियों वाले हजरत निजामुद्दीन-मुंबई स्पेशल राजधानी रैक के आगे लगकर उसे खींचता है। जबकि, इसी श्रेणी का एक इंजन पीछे लगाकर ट्रेन को पुश (धक्का) किया जाता है। इससे ट्रेन की गति 130 किलोमीटर प्रति घंटा हो गई है। आरडीएसओ ने अब तक केवल इसी रूट को स्पीड प्रमाण पत्र दिया है।

अमेजन इंडिया पर आज का शानदार ऑफर देखें , घर बैठे सामान मंगवाए  : Click Here

 

www.hellorajasthan.com की ख़बरेंफेसबुकट्वीटर और सोशल मीडिया पर पाने के लिए हमें Follow करें.