अन्तर्राष्ट्रीय ऊंट उत्सव में लेजर एवं साउंड शो और कोलायत मेले में महाआरती और दीपदान

International Camel Festival,

@आर.कुमार,Bikaner News। अगले वर्ष 11 व 12 जनवरी को अन्तर्राष्ट्रीय ऊंट उत्सव ( International Camel Festival) मनाया जायेगा। अन्तर्राष्ट्रीय ऊंट उत्सव में इस बार कुछ नवाचार किए जायेंगे। पहली बार लेजर एवं साउंड शो (Laser and Sound Show) का आयोजन किया जायेगा। इस शो में बीकानेर (Bikaner) की ऐतिहासिक इमारतों एवं महत्वपूर्ण घटनाओं तथा सूर गाथाओं, साहित्यक रचनाओं का प्रदर्शन सूरसागर व जूनागढ की दीवारों पर किया जायेगा।


जिला कलक्टर कुमार पाल गौतम की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में जिला पर्यटन विकास स्थायी समिति की बैठक में ’ऊंट-उत्सव’ 2020 के संबंध में यह निर्णय लिया। जिला कलक्टर ने नगर विकास न्यास के अधिकारी को निर्देशित किया कि इस संबंध में पूरी तैयारी करे कि जिसमें जूनागढ़ व सूरसागर को जोड़ते हुए लेजर व साउण्ड प्रोग्राम का उद्घाटन किया जा सके।

ऊंट उत्सव का प्रचार-प्रसार किया जाये-जिला कलक्टर ने कहा कि 11 व 12 जनवरी को होने वाले ऊंट उत्सव में ज्यादा से ज्यादा पर्यटकों की भागीदारी हो, इसके लिए व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाए। पर्यटक विभाग इसका सोशल मीडिया और विभिन्न होटलों की वेबसाइटस पर बीकानेर की ऐतिहासिकता, सांस्कृतिक, साहित्यक, कला और व्यंजन और अन्य विशेषताओं को प्रदर्शित करें। उन्होंने कहा कि देश के बड़े शहरों की होटलों, ऐयरपोर्ट पर बैनर व पोस्टर के माध्यम से ऊंट उत्सव का प्रचार किया जाए। साथ ही सिनेमा घरों में स्लाइड के माध्यम से प्रचार किया जाए। उन्होंने ख्यातनाम कलाकारों से सम्पर्क कर, बीकानेर पर छोटे-छोटे वीडियों क्लिप तैयार कर, सोशल मीडिया पर प्रचारित करे।

शहर के विभिन्न क्षेत्रों में होंगे आयोजन-जिला कलक्टर ने  कहा कि बीकानेर शहर में ऊंट उत्सव के दौरान विभिन्न प्रकार के आयोजन किए जाएं। इसके लिए उन्होंने  उस्ता गैलरी, पेंटिंग,राजस्थानी वेशभूषा की स्टाल  लगाने के निर्देश दिए। साथ ही डाॅ.करणी सिंह स्टेडियम में उद्योग मेला का भी आयोजन किया जाए। इस मेले में स्थानीय उत्पाद का प्रदर्शन किया जाए। उन्होंने कहा कि लोकयात्रा निकाली जाए जिसमें आमजन को जोड़ा जाए। उन्होंने कहा कि ऊंट उत्सव पर हैरिटेज वाॅक का आयोजन होगा। इससे पहले इस मार्ग को सही करवाया जाए। उन्होंने कहा कि हैरिटेज वाॅक को कलरफुल बनाने के प्रयास किए जाए। उन्होंने कहा कि वाॅक में शामिल पर्यटकों पर पुष्प वर्षा की जाए। साथ ही ऊंट के साथ पर्यटक फोटो ले सके इसके लिए डाॅ.करणी सिंह स्टेडियम और राष्ट्रीय उष्ट्र अनुसंधान केंद्र में सेल्फी प्वाइंट बनाया जाए। उन्होंने निगम आयुक्त से कहा कि हैरिटेज स्थलों की साफ-सफाई की व्यवस्था सुनिश्चित होनी चाहिए। उन्होंने यूआईटी के अधीक्षण अभियन्ता से कहा कि वे ऐतिहासिक स्थलों को रोशन करवाने की व्यवस्था करें। उन्होंने बीकाजी की टेकरी की सफाई करवाने के भी निर्देश दिए।

पर्यटक फ्रैंडली रायसर गांव में होगा आयोजन– जिला कलक्टर ने कहा कि रायसर गांव में बड़ी संख्या में ऊंट पालक है। प्रतिदिन कैमल सफारी के लिए यहां पर्यटक पहुंचते हैं। अतः इस गांव में 12 जनवरी को कार्यक्रम आयोजित किया जायेगा। उन्होंने कहा कि ग्रामीण परिधान में ग्रामीण इसमें शामिल हो तो विदेशी पर्यटकों को गांव की संस्कृति से रूब-रू होने का मौका मिलेगा। उन्होंने कहा कि रायसर गांव में बालू के टीले है, उनपर कार्यक्रम आयोजित होने से पर्यटकों को आनन्द की अनुभूति होगी।


पहलीबार नवाचार-डाॅ.करणी सिंह स्टेडियम में अन्तर्राष्ट्रीय ऊंट उत्सव पर बीकानेर की विभिन्न विशेषताओं को समेटे हुए ’काफी बुक’ को प्रकाशन किया जायेगा। इस बुक में बीकानेरी व्यंजन, संस्कृति, हस्तकलाएं, वास्तुकला आदि के फोटोग्राफस शामिल किए जायेंगे। इसका प्रकाशन नगर विकास न्यास द्वारा करवाया जायेगा।
जिला कलक्टर ने बैठक में ऊंट उत्सव पर मुख्य आकर्षण पर आधारित पोस्टर का विमोचन भी किया।

कोलायत मेला – जिला कलक्टर ने कोलायत मेला पर आयोजित कार्यक्रमों की जानकारी ली और कहा कि 11 व 12 नवम्बर को आयोजित इस मेले को भव्यता प्रदान की जायेगी। रंगीन फव्वारे और रंगबिरंगी रोशनी से कपिल मुनी सरोवर को सजाया जायेगा। उन्होंने कहा कि 11 नवम्बर को राजस्थानी लोक संस्कृति और भजनों पर आधारित सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया जायेगा। इस कार्यक्रम में राजस्थान के विेभिन्न अंचलों से आए कलाकार अपनी कला की प्रस्तुति देंगे। उन्होंने उपखण्ड अधिकारी कोलायत को निर्देश दिए कि पूरे कोलायत को साफ-सुथरा रखा जाए। कही पर भी गंदगी नहीं होनी चाहिए।

महाआरती का आयोजन-जिला कलक्टर ने कहा कि गंगामाता जी की आरती की तर्ज पर कोलायत के पवित्र सरोवर के घाटों पर महाआरती का आयोजन किया जायेगा। सभी घाटों पर घन्टे, नगाडे़ बजाए जायेंगे। करीब 10 मिनट तक सरोवर की आरती के लिए लगभग 500 पुजारियों को शामिल किया जायेगा। इसमें साधु-संतों की भागीदारी करवाई जायेगी। उन्होंने कहा कि महाआरती के बाद कपिल मुनी मंदिर परिसर में (घाट) पर अन्य मंदिरों में भी आरती करवाई जायेगी। उन्होंने कहा कि कपिल सरोवर और उसके घाटों पर बड़ी संख्या में दीपदान का कार्यक्रम होगा। उन्होंने कहा कि पूर्णिमा की शाम को भव्य व दिव्य बनाने के सभी प्रयास किए जायेंगे।

योगा- जिला कलक्टर ने बताया कि पूर्णिमा की सुबह योगा व म्युजिक का कार्यक्रम मुख्य घाट पर रखा जायेगा। उन्होंने ने कपिल सरोवर के मुख्य घाट पर इसी रोज रात्रि को कपिल मुनि पर थ्री-डी का प्रदर्शन करवाने के निर्देश दिए।


बैठक में सहायक निदेशक पर्यटन विभाग किसन कुमार ने आगामी अन्तर्राष्ट्रीय ऊंट उत्सव और कोलायत मेले में विभाग द्वारा की जानेवाली गतिविधयों के बारे में बताया। उन्होंने जिले में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए श्रीकोडमदेसर भैंरू मंदिर को पर्यटन की दृष्टि से विकसित करने, शिवबाड़ी मंदिर से राष्ट्रीय उष्ट्र अनुसंधान केन्द्र तक की रोड को ठीक तथा पर्यटक स्थलों की समय-समय पर सफाई करवाने पर बल दिया। बैठक में नगर निगम आयुक्त डाॅ. प्रदीप के गवांडे, अतिरिक्त जिला पुलिस अधीक्षक पवन कुमार मीना, सहायक पर्यटन अधिकारी पुष्पेन्द्र ंिसंह, निदेशक राजस्थान राज्य अभिलेगार महेन्द्र सिंह खडगावत, एडीईओ सुनील बोडा सहित होटल ऐसोशियेशन के पदाधिकारी, जिला उद्योग संघ के अध्यक्ष द्वारका प्रसाद पचीसिया आदि उपस्थि थे।

अमेजन इंडिया पर आज का शानदार ऑफर देखें , घर बैठे सामान मंगवाए  : Click Here

www.hellorajasthan.com की ख़बरें फेसबुकट्वीटर और सोशल मीडिया पर पाने के लिए हमें Follow करें.