Top

स्वीडन ने भारत में विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी पर ध्यान केंद्रित किया

स्वीडन ने भारत में विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी पर ध्यान केंद्रित किया

नई दिल्ली, 30 नवंबर (आईएएनएस)। स्वीडन का लक्ष्य भारत के साथ विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में अपने संबंधों को मजबूत करना है। दोनों देश महान आविष्कारक अल्फ्रेड नोबेल की याद में नोबेल मेमोरियल सप्ताह मना रहे हैं।

भारत में स्वीडन के राजदूत क्लास मोलिन ने प्रौद्योगिकी और ज्ञान पर जोर देते हुए कहा, इस साल के नोबेल सप्ताह के दौरान, हमने शी एसटीईएम की योजना बनाई है, ताकि प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में महिलाओं की पहचान और लड़कियों और महिलाओं को सशक्त बनाया जा सके।

स्वीडन भारत नोबेल मेमोरियल सप्ताह का 13वां वार्षिक आयोजन होने जा रहा है। यह वार्षिक आयोजन भारत में स्वीडन के दूतावास, मुंबई में स्वीडन के महावाणिज्य दूतावास द्वारा किया जाता है। इसमें भारत में स्वीडन के प्रमुख व्यवसाय सहयोग देते हैं। सप्ताह की शुरूआत आविष्कारक-दार्शनिक अल्फ्रेड नोबेल की याद में की गई थी और इस दौरान नवाचार, रचनात्मकता और उद्यमशीलता का जश्न मनाया जाता है।

दोनों देशों ने आगामी सप्ताह में कई कार्यक्रम ऑनलाइन आयोजित करने का फैसला किया है। कोरोनावायरस महामारी के कारण कार्यक्रम में होने वाली गतिविधियां पूरी तरह से ऑनलाइन होंगी।

2020 के कार्यक्रम में प्रथम पुरस्कार विजेता के लिए एक लाख रुपये के साथ कॉलेज के छात्रों के लिए एक ऑनलाइन प्रश्नोत्तरी (क्विज) शामिल की गई है। अन्य विजेताओं और प्रतिभागियों को भी विभिन्न पुरस्कारों से नवाजा जाएगा। क्विज डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू डॉट स्वीडन इन इंडिया डॉट कॉम पर लाइव होगी। कार्यक्रम का ग्रैंड फिनाले नौ दिसंबर को आयोजित होगा।

इस वर्ष का नोबेल व्याख्यान (लेक्च र) लड़कियों और युवतियों को विज्ञान पढ़ने का प्रोत्साहन देने की महत्ता पर केंद्रित होगा। इसका शीर्षक शी एसटीईएम! वीमेन लीडिंग द वे होगा। यह लेक्चर सीरीज विज्ञान में महिलाओं के महत्व पर प्रकाश डालेगा और इसके बाद स्वीडन और भारत की महिला वैज्ञानिकों और उद्यमियों के एक पैनल के साथ चर्चा की जाएगी।

स्वीडन इंडिया हेल्थ टॉक्स के तहत कई कार्यक्रमों की योजना बनाई गई है, जिसमें भारत-स्वीडन हेल्थकेयर इनोवेशन सेंटर का जश्न और हेल्थ इनोवेशन चैलेंज के विजेताओं की घोषणा भी शामिल है। इसके अलावा स्टार्टअप को सफल उद्यम बनाने पर एक विमर्श होगा। भारत में स्टार्ट-अप के विकास की बाधाओं पर भी चर्चा होगी।

स्वीडिश व्यापार मंत्री अन्ना हॉलबर्ग और भारत में 200 से अधिक स्वीडिश कंपनियों के बीच एक वर्चुअल बातचीत की भी योजना है। मंत्री वैश्विक व्यापार और निवेश परिदृश्य पर अपना दृष्टिकोण रखेंगे। भारत में स्टार्ट-अप के विकास की बाधाओं पर चर्चा के अलावा स्वीडन-भारत स्वास्थ्य वार्ता भी होगी, जो संक्रमण नियंत्रण पर केंद्रित होगी।

--आईएएनएस

एकेके/एएनएम

Next Story
Share it