अमृता देवी विश्नोई स्मृति पुरस्कार वर्ष 2016 एवं 2017 हेतु आवेदन आमंत्रित

Must read

लॉकडाउन से बोर होकर उर्वशी ने डाली अपनी एक नई तस्वीर

मुंबई, 4 अप्रैल (आईएएनएस)। अभिनेत्री उर्वशी रौतेला (Urvashi Rautela)आजकल कोविड-19 को फैलने से रोकने के चलते देशभर में बुलाए गए लॉकडाउन में घर पर...

आधी रात तबलीगियों को दौड़ा ग्रामीणों ने नहीं घुसने दिया क्वारंटाइन सेंटर

फरीदाबाद, 3 अप्रैल (आईएएनएस)। कोरोना के बहाने साथ-साथ मौत लेकर घूमने के आरोपी तबलीगी चारों ओर से घिरते जा रहे हैं। देश के तकरीबन...

बीकानेर में कोरोना पॉजिटिव के 2 केस सामने आए, फड़ बाजार और रानीसर क्षेत्रों में कर्फ्यू

बीकानेर। कोरोना संक्रमण के चलते चल रहे लाॅकडाउन के दौरान की जा रही स्क्रीनिंग के चलते हुई जांच की शुक्रवार को आई रिर्पोट में...

अनंतनाग में आतंकियों ने की नागरिक की हत्या

श्रीनगर, 3 अप्रैल (आईएएनएस)। कश्मीर के अनंतनाग जिले में आतंकवादियों ने एक नागरिक की गोली मारकर हत्या कर दी। पुलिस ने बुधवार को हुई...
- Advertisement -
जयपुर। वन विभाग ने अमृता देवी विश्नोई स्मृति पुरस्कार योजना (Amrita Devi Vishnoi Smriti Award Scheme) के तहत वन तथा वन्य जीवसंरक्षण तथा विकास के क्षेत्र में सराहनीय कार्य कर ने वाली वन सुरक्षा एवं प्रबन्ध समितियों पंचायतों ग्रामस्तरीय संस्थाओं व्यक्तियों को वर्ष 2016 एवं 2017 के लिए तीन-तीन राज्य स्तरीय पुरस्कार (State Level Prize) प्रदान करने हेतु संबधित संस्थाओं  व्यक्तियों से 30 जून, 2017 तक आवेदन आमंत्रित किये हैं ।
अतिरिक्त प्रधान मुख्य वन संरक्षक (ई.जी.एस.) मोहन लाल मीणा ने बताया कि वन विकास एवं वन्य जीव सुरक्षा में उत्कृष्ट कार्य करने वाली वन सुरक्षा एवं प्रबन्ध समिति पंचायत ग्रामस्तरीय संस्थाओं को एक लाख रुपये एवं प्रशस्ति पत्र, वन विकास, संरक्षण एवं वन सुरक्षा के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले व्यक्ति को 50 हजार रुपये एवं प्रशस्ति पत्र एवं वन्य जीव संरक्षण एवं सुरक्षा में उत्कृष्ट कार्य करने वाले व्यक्ति को 50 हजार रुपये एवं प्रशस्ति पत्र से सम्मानित किया जायेगा।
श्री मीणा ने बताया कि पुरस्कारों की पात्रता के संबध में विस्तृत जानकारी एवं निर्धारित आवेदन पत्र वन विभाग की वेबसाईट http://forest.rajasthan.gov.in से डाउनलोड किये जा सकते हैं तथा संबधित जिले के प्रादेशिक उप वन संरक्षक के कार्यालय से किसी भी कार्य दिवस में प्राप्त किये जा सकते हैं। वर्ष 2016 एवं 2017 के उक्त पुरस्कारों के नामांकन हेतु निर्धारित आवेदन पत्र संस्थाओं आवेदकों को सम्बधित जिले के प्रादेशिक उप वनसंरक्षक के कार्यालय में 30 जून, 2017 तक प्रस्तुत करने होगें । उन्होंने बताया कि लगभग 300 साल पूर्व ग्राम खेजड़ली में अमृता देवी विश्नोई के नेतृत्व में 363 स्त्री पुरूषों ने खेजड़ी के वृक्षों की रक्षा करते हुए अपने प्राणों का बलिदान दिया था। उनके बलिदान की स्मृति को अक्षुण्ण बनाये रखने के लिए राज्य सरकार द्वारा ये पुरस्कार प्रति वर्ष प्रदान किये जाते है।
- Advertisement -

Latest article

चूरू : कोरोना संक्रमित के सम्पर्क में आये दो लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव

चूरू। दिल्ली की निजामुद्दीन मरकज की तबलीगी जमात में शामिल हुए जिले के दो और युवक कोराना वायरस संक्रमित पाए गए हैं। जिला कलक्टर संदेश...

रमजान के महीने में कोई क्रिकेट नहीं : पीसीबी

लाहौर, 4 अप्रैल (आईएएनएस)। पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) ने शनिवार को कहा कि कोरोनावायरस को रोकने के लिए रमजान के महीने में वह किसी...

वार्नर और रोहित टी-20 के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज : मूडी

नई दिल्ली, 4 अप्रैल (आईएएनएस)। इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) फ्रेंचाइजी सनराइजर्स हैदराबाद के पूर्व कोच टॉम मूडी का मानना है कि डेविड वार्नर और...

दीया मिर्जा ने कोरोना महामारी पर चिंता जाहिर की

मुंबई, 4 अप्रैल (आईएएनएस)। अभिनेत्री-निर्माता दीया मिर्जा ने कई अन्य हस्तियों और उद्यमियों के साथ कोविड-19 के प्रकोप पर चिंता व्यक्त की है, जो...

युवराज ने वीडियो शेयर करके पुलिस के काम को सराहा

नई दिल्ली, 4 अप्रैल (आईएएनएस)। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व आलराउंडर युवराज सिंह लॉकडाउन के बीच सोशल मीडिया पर खुद को लगातार सक्रिय किए...