Thursday, July 9, 2020

कंगना का प्रशंसकों से चीनी उत्पादों का इस्तेमाल न करने की अपील

Must read

फराह खान अली के घर का स्टाफ सदस्य कोरोना संक्रमित

मुंबई, 15 अप्रैल (आईएएनएस)। अभिनेता संजय खान की बेटी, ऋतिक रोशन की पूर्व पत्नी सुजेन की बहन और जानी-मानी ज्यूलरी डिजाइनर फराह खान अली...

खास खबर : अनिता खत्री ने जीता ‘मिसेज यूनिवर्स ग्रेंड मां अर्थ’ का खिताब

जयपुर। कहते हैं कि इस संसार की सभी बुरी और अच्छी शक्तियाँ हमारे ही अंदर मौजूद हैं। जरुरत तो केवल उन अच्छी शक्तियों को...

पति रणवीर ने दीपिका को कहा चीजी लवर

मुंबई, 12 अप्रैल (आईएएनएस)। अभिनेता रणवीर सिंह ने अभिनेत्री व अपनी पत्नी दीपिका पादुकोण को एक चीजी लवर, कहा है, क्योंकि उन्होंने अपने...

खुद को चुनौती देने के लिए मुझे चीजों की तलाश रहती है : स्टीफन जेम्स

नई दिल्ली, 27 मई (आईएएनएस)। होमकमिंग स्टार स्टीफन जेम्स लॉकडाउन की इस अवधि का उपयोग उन चीजों को करने में कर रहे हैं, जिन्हें...
Vishal Rohiwal
Vishal Rohiwal
विशाल रोहिवाल पिछले दस वर्ष से कंटेट राईटिंग व स्वतंत्र पत्रकार के रुप में काम कर रहें है। वर्तमान में हैलो राजस्थान की वेब टीम में सीनियर कंटेंट एडिटर के रुप में अपनी सेवांए दे रहें है।
- Advertisement -

मुंबई, 30 जून (आईएएनएस)। बॉलीवुड की बेबाक अभिनेत्री अब चीन पर निशाना साधते हुए अपने प्रशंसकों से यहां के बने उत्पादों का इस्तेमाल न करने की अपील की है।

भारत सरकार द्वारा चीनी ऐप को ब्लॉक किए जाने के अंतरिम आदेश पर कंगना ने अपनी यह बात रखी है।

- Advertisement -

कंगना कहती हैं, सरकार ने चीनी ऐप्स पर प्रतिबंध लगा दिए हैं और मुझे लगता है कि ज्यादातर लोग इसका जश्न मना रहे हैं क्योंकि चीन कैसा है यह हम सभी जानते हैं। यह एक साम्यवादी देश है और जिस तरह से यह हमारी अर्थव्यवस्था और हमारी प्रणाली में गहराई से उतर गए हैं..यह डेटा डरा देने वाला है, किस कदर हमारे व्यवसाय चीन पर निर्भर हो गए हैं और इस साल कोरोना को फैलाने के साथ यह हाल के समय में दुनिया को सबसे मुश्किल घड़ी में डाल दिया है। इस प्रतिकूलता के बीच अब वे लद्दाख में हमारी सीमाओं के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं और वे सिर्फ लद्दाख नहीं चाहते हैं, बल्कि वे अरुणाचल प्रदेश और सिक्किम भी चाहते हैं। वे असम भी चाहते हैं और यह कभी खत्म नहीं होने वाला है।

वह आगे कहती हैं, आप इन लोगों की लालच को देख सकते हैं और बेशक दुनिया भी इनके तौर-तरीकों को देखकर हैरान है और वैसे ये जानवरों के साथ भी बहुत बुरा बर्ताव करते हैं। अगर आप मूर्ति पूजन करते हैं या किसी अन्य धर्म का पालन करते हैं, तो ये आप पर वार भी करते हैं। मैं कहती हूं कि इस तरह से चरमपंथी होना या कम्युनिस्ट होना दोनों अतिवादी है। आप क्यों यह मानना चाहते हैं कि कोई भगवान है या नहीं है? आप इतना सुनिश्चित क्यों होना चाहते हैं? आप यूं ही क्यों नहीं रह सकते। मैं उनके तौर-तरीकों से सहमत नहीं हूं।

कंगना और भी कई बातों का जिक्र करने के साथ आखिर में कहती हैं, मुझे लगता है कि हमें इस वक्त का लाभ उठाना चाहिए जब चीन को पूरी दुनिया से नफरत मिल रही है। हमें अपने कार्यभार संभालने चाहिए और हमें स्थानीय उत्पादों को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए और हमारे लोगों जो कर रहे हैं उसकी गुणवत्ता को समझना चाहिए। बेशक चीन आपको सबकुछ सस्ता और घटिया दे सकता है, लेकिन हमें उनका इस्तेमाल नहीं करना है। हमने सस्ते और घटिया के परिणामों को देखा है। हमें अपने लोगों को प्रेरित करने की आवश्यकता है और मुझे लगता है कि यही सही समय है।

–आईएएनएस

- Advertisement -

Latest article

बिहार में बाढ़ की आशंका को लेकर अलर्ट, बचाव के लिए होगा ड्रोन का उपयोग

पटना, 8 जुलाई (आईएएनएस)। बिहार में बाढ़ की आशंका को देखते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आपदा प्रबंधन विभाग को पूरी तरह अलर्ट रहने...

रीवा के सौर ऊर्जा संयंत्र से दिल्ली मेट्रो को मिलेगी बिजली

भोपाल, 8 जुलाई (आईएएनएस)। मध्य प्रदेश के रीवा जिले में स्थापित एशिया के सबसे बड़े सौर ऊर्जा संयंत्र रीवा अल्ट्रा मेगा सोलर प्रोजेक्ट की...

कानपुर मुठभेड़ पर बोले एडीजी प्रशांत, पुलिस की कार्रवाई बनेगी नज़ीर

लखनऊ 8 जुलाई (आईएएनएस)। कानपुर के चौबेपुर के बिकरू गांव मे उत्तर प्रदेश पुलिस के सीओ सहित आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद...

कभी कभी कड़वा घूंट पीकर करनी पड़ती है समाज सेवा : विजयवर्गीय

भोपाल/इंदौर 8 जुलाई (आईएएनएस)। भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कांग्रेस छोड़कर भाजपा में आए नेताओं के साथ काम करने का जिक्र करते...

पहले एलएसी तक पहुंचने में 14 दिन लगते थे, अब महज 1 दिन : लद्दाख स्काउट्स (आईएएनएस एक्सक्लूसिव)

लेह, 8 जुलाई (आईएएनएस)। वर्ष 1962 में जहां भारतीय सेना को वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) तक पहुंचने में 16 से 18 दिन का समय...