महाशिवरात्रि पर विशेष : भगवान आशुतोष का रखें व्रत, करें दर्शन-पूजन और रात्रि जागरण – ज्योतिषविद् विमल जैन

Must read

लॉकडाउन से बोर होकर उर्वशी ने डाली अपनी एक नई तस्वीर

मुंबई, 4 अप्रैल (आईएएनएस)। अभिनेत्री उर्वशी रौतेला (Urvashi Rautela)आजकल कोविड-19 को फैलने से रोकने के चलते देशभर में बुलाए गए लॉकडाउन में घर पर...

अब माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने विद्यार्थियेां के लिए जारी किया ऑनलाइन कंटेंट

जयपुर। देशभर में लाॅकडाउन के दौरान विद्यार्थियेां को समय पर पढ़ाई से जोड़ा जा सके इसके लिए आनलाइन कक्षाएं लगाई जा रही है तो...

वेब सीरीज के लिए अपनी डायट पर मेहनत कर रही हैं लिजा मलिक

मुंबई, 3 अप्रैल (आईएएनएस)। अभिनेत्री लिजा मलिक अपनी वेब सीरीज हू इज योर डैडी? में अपने किरदार के लिए भिन्न डायट चार्ट को फॉलो...

चूरू : कर्फ़्यू के दौरान डोर टू डोर सामान उपलब्ध करा रही मोबाइल वैन

चूरू। जिले के चूरू नगरीय क्षेत्र में धारा 144 अंतर्गत लगाए गए कर्फ़्यू के दौरान आमजन को चूरू सहकारी उपभोक्ता होलसेल भंडार की मोबाइल...
Vimal Jain
Vimal Jain
विमल जैन राष्ट्रीय, अंर्तराष्ट्रीय स्तर के ख्यातिनाम ज्योतिषाचार्य है, जेकि सटीक भविष्यवाणी, अंक विज्ञान, वास्तुशास्त्र एंव तंत्र मंत्र, जन सामान्य की निजी एंव व्यवसायिक और व्यवहारिक समस्याओं का समाधान प्रस्तुत करते है। जैन की भविष्यवाणी व राशिफल नियमित रुप से राष्ट्रीय व अंर्तराष्ट्रीय स्तर की पत्र -पत्रिकाअेां में हो रहा है।
- Advertisement -

शिव-पार्वती के मिलन का महापर्व महाशिवरात्रि(Maha Shivratti 2020)
भगवान शिवजी की महिमा में फाल्गुन मास की कृष्णपक्ष की चतुर्दशी तिथि के दिन महाशिवरात्रि का पर्व हर्ष व उल्लास के साथ मनाया जाता है। शिवपुराण के अनुसार प्रजापति दक्ष की कन्या सती का विवाह भगवान शिवजी से इसी दिन हुआ था। व्रत 21 फरवरी, शुक्रवार को रखा जाएगा जबकि व्रत का पारण 22 फरवरी, शनिवार को होगा। पौराणिक मान्यता है कि चतुर्दशी तिथि के दिन निशा बेला में भगवान शिव ज्योर्तिलिंग के रूप में अवतरित हुए थे जिसके फलस्वरूप महाशिवरात्रि का पर्व मनाया जाता है।

एसे करें शिव आराधना
प्रख्यात ज्योतिषविद् विमल जैन ने बताया कि फाल्गुन कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि 21 फरवरी, शुक्रवार को सायं 5 बजकर 22 मिनट पर लगेगी जो कि अगले दिन 22 फरवरी, शनिवार की रात्रि 7 बजकर 03 मिनट तक रहेगी। चन्द्रोदय व्यापिनी चतुर्दशी तिथि (महानिशीथकाल) में मध्यरात्रि में भगवान शिवजी की पूजा विशेष फलदायी रहती है।

- Advertisement -

व्रत में क्या करें
ऐसे करें शिव आराधना ज्योतिषविद् विमल जैन बतातें है कि व्रत कर्ता को चतुर्दशी तिथि के दिन व्रत उपवास रखकर भगवान शिवजी की पूजा-अर्चना करनी चाहिए। त्रयोदशी तिथि के दिन एक बार सात्विक भोजन करना चाहिए। तिल, बेलपत्र व खीर से हवन करने के पश्चात् किया जाएगा। भगवान शिवजी का दूध व जल से अभिषेक करके उन्हें वस्त्र, चन्दन, यज्ञोपवीत, आभूषण, सुगन्धित द्रव्य के साथ बेलपत्र, कनेर, धतूरा, मदार, ऋतुपुष्प, नैवेद्य आदि अर्पित करके धूप-दीप के साथ पूर्वाभिमुख या उत्तराभिमुख होकर ही पूजा करनी चाहिए। शिवभक्त अपने मस्तिष्क पर भस्म और तिलक लगाकर शिवजी की पूजा करें तो पूजा विशेष फलदायी होती है।
मनोकामना की पूर्ति के लिए रात्रि के चारों प्रहर में करें विशेष पूजा-अर्चना
प्रथम प्रहर
भगवान शिव जी का दूध से अभिषेक करें एवं ॐ हृीं ईशान्य नमः-मन्त्र का जप करें।
द्वितीय प्रहर
भगवान शिव जी का दही से अभिषेक करें तथा ॐ हृीं अघोराय नम-मन्त्र का जप करें।
तृतीय प्रहरकृभगवान शिव जी का शुद्ध देशी घी से अभिषेक करें साथ ही ॐ हृीं वामदेवाय नमः-मन्त्र का जप करें।
चतुर्थ प्रहर
भगवान शिव जी का शहद से अभिषेक करें एवं ॐ हृीं सध्योजाताय नमः-मन्त्र का जाप करें।
भगवान् शिवजी की महिमा में शिव-स्तुति, शिव-सहस्रनाम, शिव महिम्नस्तोत्र, शिवताण्डव स्तोत्र, शिव चालीसा, रुद्राष्टक, शिवपुराण आदि का पाठ करना चाहिए तथा शिवजी के प्रिय पंचाक्षर मन्त्र ॐ नमः शिवाय्य का मानसिक जप करना चाहिए। शिवपुराण के अनुसार ॐ नमः शिवाय शुभं शुभं कुरु कुरु शिवाय नमः ॐ इस मन्त्र के जप से सर्वविध कल्याण होता है।
महाशिवरात्रि के पर्व पर शिवजी की पूजा-अर्चना करके रात्रि जागरण करने पर ही व्रत पूर्ण फलदायी माना गया है। व्रत के दिन अपनी दिनचर्या नियमित संयमित रखते हुए भगवान शिवजी की पूजा-अर्चना करके विशेष पुण्यलाभ उठाना चाहिए। महाशिवरात्रि से ही मासिक शिवरात्रि का व्रत प्रारंभ किया जाता है। ऐसी मान्यता है कि मासिक शिवरात्रि व्रत से सुख-समृद्धि सफलता मिलती है।
महाशिवरात्रि पर जन्मराशि या नामराशि के अनुसार कैसे करें पूजा
मेष
भगवान शिव की पूजा गुलाल से करें। ॐ ममलेश्वराय नमः मन्त्र का जप करें तथा लाल वस्त्र, लाल चंदन, गेहूं, गुड़, तांबा, लाल फूल आदि का दान करें।
वृष
शिवजी का अभिषेक दूध से करें। ॐ नागेश्वराय नमरू्य मन्त्र का जप करें तथा सफेद फूल, सफेद चंदन, चावल, चांदी, घी, सफेद वस्त्र आदि का दान करें।
मिथुन
शिवजी का अभिषेक गन्ने के रस से करें। ॐ भूतेश्वराय नमरू्य मन्त्र का जप करें तथा मूंग, कस्तूरी, कांसा, हरा वस्त्र, पन्ना, सोना, मूंगा, घी का दान करें।
कर्क
शिवजी का अभिषेक पंचामृत से करें। महादेव जी के द्वादश नाम का स्मरण करें तथा सफेद फूल, सफेद वस्त्र, चावल, चीनी, चांदी, मोती, दही का दान करें।
सिंह
शिवजी का अभिषेक शहद से करें। ॐनमः शिवाय्य मन्त्र का जप करें तथा लाल फूल, लाल वस्त्र, माणिक्य, केशर, तांबा, घी, गेहूँ, गुड़ आदि का दान करें।
कन्या
शिवजी का अभिषेक गंगाजल या शुद्ध जल से करें। श्रीशिव चालीसा का पाठ करें तथा हरा फूल, कस्तूरी, कांसा, मूंग, हरा वस्त्र, घी, हरा फल का दान करें।
तुला
शिवजी का अभिषेक दही से करें। श्रीशिवाष्टक का पाठ करें तथा सुगंध, सफेद चंदन, सफेद फूल, चावल, चांदी, घी, सफेद वस्त्र आदि का दान करें।
वृश्चिक
शिवजी का अभिषेक दूध व घी से करें। ॐ अंगारेश्वराय नमरू्य मन्त्र का जप करें तथा गेहूँ, गुड़, तांबा, मूंगा, लाल वस्त्र, लाल चंदन, मसूर का दान करें।
धनु
शिवजी का अभिषेक दूध से करें। ॐ रामेश्वराय नमरू्य मन्त्र का जप करें तथा पीला वस्त्र, चने की दाल, हल्दी, पीला फल, फूल, सोना, देशी घी का दान करें।
मकर
शिवजी का अभिषेक अनार के रस से करें। श्रीशिवसहस्रनाम का पाठ करें तथा उड़द, काला तिल, तेल, काले वस्त्र, लोहा, कस्तूरी, कुलथी आदि का दान करें।
कुम्भ
शिवजी का अभिषेक पंचामृत से करें। ॐ नमरू शिवाय्य मन्त्र का जप करें तथा काले वस्त्र, काला तिल, उड़द, तिल का तेल, छाता आदि का दान करें।
मीन
शिवजी का अभिषेक ऋतुफल से करें। ॐभौमेश्वराय नमरू्य मन्त्र का जप करें तथा चने की दाल, पीला वस्त्र, हल्दी, फूल, पीला फल, सोना आदि का दान करें।

काशी में भी विराजते हैं द्वादश ज्योतिर्लिंग
काशी में द्वादश ज्योतिर्लिंग इस प्रकार हैं

1-सोमनाथ (मानमन्दिर), 2-मल्लिकार्जुन (सिगरा), 3-महाकालेश्वर (दारानगर), 4-केदारनाथ (केदारघाट), 5-भीमशंकर (नेपाली खपड़ा), 6-विश्वेश्वर (विश्वनाथ गली), 7-र्त्यम्बकेश्वर (हौजकटोरा, बाँसफाटक), 8-वैद्यनाथ (बैजनत्था), 9-नागेश्वर (पठानी टोला), 10-रामेश्वरम् (रामकुण्ड), 11-घुश्मेश्वर (कमच्छा), 12-ओंकारेश्वर (छित्तनपुरा) में स्थित है।

(हस्तरेखा विशेषज्ञ, रत्न – परामर्शदाता, फलित अंक ज्योतिषी एंव वास्तुविद्, एस.2/1/-76 ए, द्वितीय तल, वरदान भवन, टैगौर टाउन एक्सटेंशन, भोजूबीर, वाराणसी 22002- M.09335414722)

- Advertisement -

अमेजन इंडिया पर आज का शानदार ऑफर देखें , घर बैठे सामान मंगवाए  : Click Here

www.hellorajasthan.com से जुड़े सभी अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.

- Advertisement -

Latest article

एटलेटिको मेड्रिड, बार्सिलोना के पूर्व कोच एंटिक का निधन

नई दिल्ली, 7 अप्रैल (आईएएनएस)। स्पेनिश क्लब रियल मेड्रिड, एटलेटिको मेड्रिड और बार्सिलोना के पूर्व मुख्य कोच रेडोमिर एंटिक का लंबी बीमारी के बाद...

इंग्लैंड के पूर्व ऑलराउंडर पीटर वॉल्कर का निधन

लंदन, 7 अप्रैल (आईएएनएस)। इंग्लैंड के पूर्व हरफनमौला खिलाड़ी पीटर वॉल्कर का 84 साल की उम्र में निधन हो गया। उन्होंने इंगलैंड के लिए...

विश्व स्वास्थ्य दिवस पर मेडिकल ड्रामा पर करें गौर

नई दिल्ली, 7 अप्रैल (आईएएनएस)। आज (मंगलवार) विश्व स्वास्थ्य दिवस है, ऐसे में इस मौके पर आइए हम अपने डॉक्टर्स, नर्स व अन्य स्वास्थ्य...

कोविड-19 के मरीजों के लिए सुपर स्पेशलिटी सेंटर पर की गई अलग व्यवस्था

जिला कलेक्टर ने निरीक्षण कर लिया व्यवस्थाओ का जायजा बीकानेर। जिला कलेक्टर कुमार पाल गौतम में मंगलवार को कोविड-19 के लिए सरदार पटेल मेडिकल कॉलेज...

महबूबा सरकारी आवास में हुईं शिफ्ट, जारी रहेगी हिरासत

श्रीनगर, 7 अप्रैल (आईएएनएस)। जम्म एवं कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती को अधिकारियों ने मंगलवार को यहां उच्च सुरक्षा वाले गुप्कर रोड स्थित...