Tuesday, July 7, 2020

वर्ल्ड नो टोबेको डे : युवाओं को तंबाकू इंडस्ट्री के हथकंडो से बचाने की अपील: स्वास्थ्य विशेषज्ञ

Must read

आयुष के पास वायरस का इलाज होने के निराधार दावे से निपटें : मोदी

नई दिल्ली, 28 मार्च (आईएएनएस)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोविड-19 के प्रकोप पर चर्चा करने के लिए मीडिया और रेडियो जॉकी से मिलने के...

देश में कोरोना पीड़ितों की संख्या पहुंची 37,336, मरने वालों की संख्या 1218 हुई

नई दिल्ली, 2 मई (आईएएनएस)। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक शनिवार सुबह तक देश मे कोरोना पीड़ितों की संख्या 37,336 हो गई है। इस...

सलमान खान चिंकारा शिकार प्रकरण:फैसला 18 जनवरी को

नई दिल्ली। बहुचर्चित हिरण शिकार मामले में फिल्म अभिनेता सलमान को 18 जनवरी को फैसला सुनाया जायेगा। मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट दलपतसिंह राजपुरोहित ने सोमवार...

कोरोनावायरस : ओडिशा में 4 संदिग्धों के टेस्ट नेगेटिव

नई दिल्ली, 3 फरवरी (आईएएनएस)। कोरोनावायरस से संक्रमित व्यक्तियों की जांच को लेकर ओडिशा के चार संदिग्धों के नमून लिए गए थे, सोमवार को...
- Advertisement -

जयपुर। प्रदेशभर का युवा वर्ग तंबाकू व अन्य धूम्रपान उत्पादों के जाल में फसता जा रहा है, जिससे इनको कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों का सामना करना पड़ रहा है। इसमें खासतौर पर युवाअेां (Youth)को तंबाकू इंड्रस्टी (Tobacco)के तंबाकू उत्पाद (Tobacco Product) बेचने के लुभावने हथकंडों से बचाने की जरुरत है, जिनकेा ये आसानी से अपना ग्राहक बना लेते है। वहीं चबाने वाले तंबाकू उपयोगकर्ता (Tobacco User) कोरोना संक्रमण (Corona Virus) फैलाने का भी इन दिनों कारण बन रहे है। राज्य में तंबाकू व अन्य धूम्रपान उत्पादों से होने वाले रोगों से प्रतिवर्ष 77 हजार से अधिक लेागों की मौत हेा जाती है और देशभर में 13.5 लाख व विश्वभर में 80 लाख लोगों की जान इससे जाती है। प्रदेशभर में 300 बच्चे और देशभर में 5500 बच्चे प्रतिदिन तंबाकू उत्पादों का सेवन शुरु करते है।

एकांतवास केंद्र बना मिसाल, संगीत व योग के साथ लोगों को मिल रहा उनकी पसंद का खाना

- Advertisement -

वर्ष 2020 में विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा ‘‘युवाओं को तंबाकू इंडस्ट्री के हथकंडे से बचाना और उन्हे तंबाकू और निकोटिन के इस्तेमाल से रोकना’’ की थीम रखी गई है। इस दौरान युवा वर्ग को किसी भी तरह के तम्बाकू का उपयोग करने से हतोत्साहित करने के लिए जागरुकता कार्यक्रम पर जोर देने पर जोर दिया जायेगा।

सवाई मान सिंह चिकित्सालय जयपुर (Swai Man Singh Hospital, Jaipur) के कान नाक गला विभाग के आचार्य डा. पवन सिंघल ने कहा कि ‘‘तंबाकू का धुआं इनडोर प्रदूषण का बहुत खतरनाक रूप है, क्योंकि इसमें 7000 से अधिक रसायन होते हैं, जिनमें से 69 कैंसर का कारण बनते हैं। तंबाकू का धुआं पांच घंटे तक हवा में रहता है, जो फेफड़ों के कैंसर, सीओपीडी और फेफड़ों के संक्रमण को बढ़ाता है।’’

धूम्रपान करने वालेां को केारोना के संक्रमण खतरा भी अधिक रहता है, क्योकि वह बार बार सिगरेट व बिड़ी को मुंह में लगाते है। धूम्रपान करने वालों के फैंफड़ों की क्षमता भी कम हो जाती है, जिससे केारोेना संक्रमण हेाने पर मौत की संभावना कई गुणा तक बढ़ जाती है।

इसी तरह, छोटे बच्चों को जो घर पर निष्क्रिय धूम्रपान के संपर्क में आते हैं, उन्हें अस्थमा, निमोनिया और ब्रोंकाइटिस, कान में संक्रमण, खांसी और जुकाम के बार-बार होने वाले संक्रमण और बार – बार श्वसन संबधी समस्याएं होती हैं।

- Advertisement -

स्वास्थ्य के लिए बेहद हानिकारक
डा.सिंघल बतातें है कि जब कोई व्यक्ति सिगरेट का सेवन करता है, तो उसका धुंआ शरीर के अच्छे कोलेस्ट्रॉल को घटा देता है और बुरे कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को बढ़ा देता है। इस कारण हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है। वहीं तंबाकू के सेवन से पुरुषों के शुक्राणु और महिलाओं के अंडाणु बनाने की क्षमता कमजोर होती है। वहीं, प्रेगनेंसी के दौरान अगर माता-पिता सिगरेट पीते हैं या तंबाकू का सेवन करते हैं तो इससे बच्चे के दिमाग और स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ता है।

हर दिन नए कस्टमर की जरुरत
देश दुनियां में प्रतिदिन तंबाकू इंडस्ट्री को नए उपयोगकर्ता की जरुरत हेाती है, जिसके चलते वे तंबाकू उत्पादों केा नए रुप रंग में लेकर आते है। ताकि वे युवाओं को सीधे तौर पर आकर्षित कर सकें। पूरी दुनियंा में 80 लाख कस्टमर प्रतिवर्ष मर रहे है, इसलिए ये लोग नए कस्टमटर को जेाड़ने के लिए भी इस तरह के हथकंडे अपनाते है।

झारखंड के बाद अब इस राज्य में Zomato घर तक पहुंचाएगी शराब

कोरोना संक्रमण का बढ़ता खतरा
चबाने वाले तंबाकू यूजर इन दिनो कोरोना संक्रमण केा फैलाने में भी बढावा दे रहे है। तंबाकू चबाने वाला यूजर बार बार पीक थूकता है। इसी पीक में लंबे समय तक कोरोना का संक्रमण रहता है। सरकार के द्वारा सार्वजनिक स्थानेंा पर थूकने पर प्रतिबंध लगाया हुआ है।

- Advertisement -

राजस्थान एक नजर
डा.सिंघल ने बताया कि ग्लोबल एडल्ट टोबैको सर्वे 2017 के अनुसार राजस्थान में वर्तमान में 24.7 प्रतिशत लोग (5 में से 2 पुरुष, 10 में से 1 महिला यूजर) किसी न किसी रुप में तंबाकू उत्पादों का उपभोग करते है।
उन्होने बताया कि राज्य सरकार के सार्थक प्रयासेंा से तंबाकू नियंत्रण में हो रहे कार्यों से युवाअेां में इनके सेवन की औसत उम्र अब 18 वर्ष है, जोकि 2009-10 में 17 वर्ष थी। जिसमें 13.2 प्रतिशत लोग धूम्रपान के रुप में तंबाकू का सेवन करते है, जिसमें 22.0 प्रतिशत पुरुष, 3.7 प्रतिशत महिलांए शामिल है। यंहा पर 14.1 प्रतिशत लेाग चबाने वाले तंबाकू उत्पादों का प्रयोग करते हुए है, जिसमें 22.0 प्रतिशत पुरुष व 5.8 प्रतिशत महिलाए है। इसके साथ ही सबसे अधिक प्रदेश में 38.8 प्रतिशत लोग घरेां में सेकंड हैंड स्मोक का शिकार हेाते है।

भारत की स्थिति
डा.सिंघल ने बताया कि ग्लोबल एडल्ट टोबैको सर्वे 2017 के अनुसार, भारत में 15 वर्ष से अधिक उम्र के युवा वर्तमान में किसी न किसी रूप में तम्बाकू का उपयोग करते हैं ऐसे वयस्कों की संख्या 28.6 प्रतिशत (27 करोड़) है।

इस तरह हो सकेगा निंयत्रण

उन्होेन बताया कि युवाओं को इससे बचाने के लिए तंबाकू उद्योगों द्वारा अपने उत्पादों के प्रति आकर्षित करने के प्रयासेंा पर प्रभावी अंकुश, बच्चों व युवाओं केा निंरतर तंबाकू से होने वाले दुष्प्रभाव के प्रति निंरतर जागरुक करने तथा तंबाकू उत्पादों के विज्ञापनों पर भी रोक लगाने की जरुरत है।

अधिकतर युवा वर्ग शैक्षणिक संस्थानों में शिक्षा ग्रहण करते समय ही इन तंबाकू उत्पादो का सेवन शुरु कर देता है। इसलिए शिक्षण संस्थाओं को तंबाकू मुक्त बनाने की महती आवश्यकता है।

इसके साथ बच्चों व युवाअेां को तंबाकू की पहुंच से दूर रखने के लिए तंबाकू निंयत्रण अधिनियम 2003 तथा किशोर न्याय अधिनियम की धारा 77 की प्रभावी अनुपालना कराने की जरुरत है। सिगरेट की खुली बिक्री पर प्रतिबंध है लेकिन इसकी भी पालना नही हो पा रही है। खुली सिगरेट खरीदना युवाओं के लिए सुगम है, इसलिए खुली सिगरेट की बिक्री पर प्रतिबंध को प्रभावी बनाये जाने की जरुरत है।

बढ़ती तकनीक से बढ़ा खतरा
युवाओं को तंबाकू व अन्य धूम्रपान उत्पादेां की शुरुआत कराने के लिए तंबाकू कंपनियां हर दिन नए हथकंडे अपना रही है। जिसमें अभी ई सिगरेट मुख्य है। जिसके कई तरह के सुगंधित फलेवर बाजार में मिल रहे है। जिसमें नए नए निकोटिन उत्पाद शामिल है, जो युवाओं को आकर्षित करते है। जबकि भारत सरकार द्वारा सितंबर 2019 में ई सिगरेट पर प्रतिबंध लगाया गया जा चुका है। इस पर प्रतिबंध के बावजूद भी इसकी बिक्री जारी है।

www.hellorajasthan.com की ख़बरें फेसबुकट्वीटर और सोशल मीडिया पर पाने के लिए हमें Follow करें.

- Advertisement -

Latest article

श्रीदेवी अभिनीत मॉम की रिलीज को 3 साल पूरे

मुंबई, 7 जुलाई (आईएएनएस)। दिवंगत बॉलीवुड सुपरस्टार श्रीदेवी की आखिरी फिल्म मॉम की रिलीज को मंगलवार को तीन साल पूरे हो गए। यह 7...

उत्तराखंड के मंत्री सतपाल महाराज ने चीनी राष्ट्रपति को रामायण भेज कर किया आगाह (संशोधित)

देहरादून, 7 जुलाई (आईएएनएस)। उत्तराखंड के पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने मंगलवार को चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग को प्राचीन ग्रन्थ रामायण भेजकर उन्हें...

दोस्ती एकमात्र ऐसा सीमेंट है जो दुनिया को जोड़े रखता है : विद्युत जामवाल

मुंबई, 7 जुलाई (आईएएनएस)। अभिनेता विद्युत जामवाल, अमित साध, श्रुति हासन, विजय वर्मा, केनी बसुमतारी और संजय मिश्रा इस बात से काफी रोमांचित हैं...

मप्र की राजनीति और चंपक वन

भोपाल, 7 जुलाई (आईएएनएस)। बच्चों की पसंदीदा कहानी पत्रिकाओं में से एक है चंपक। इस पत्रिका में चंपक वन की कहानियां बच्चों को खूब...

कोविड19 : सीबीएसई के सिलेबस में 30 प्रतिशत कटौती (लीड-1)

नई दिल्ली, 7 जुलाई (आईएएनएस)। कोरोना महामारी संक्रमण को देखते हुए कक्षा 9 से 12 तक छात्रों के सिलेबस में कटौती की गई है।...