Thursday, July 9, 2020

दिल्ली में कोरोना संक्रमण ठीक होने की दर अब 67 फीसदी, पर रोजाना 60-65 मौतें

Must read

जबरन धर्मातरण के खिलाफ कराची में रविवार को भूख हड़ताल करेंगे छात्र

कराची/नई दिल्ली, 25 जनवरी (आईएएनएस)। पाकिस्तान में अल्पसंख्यक लड़कियों के जबरन धर्मातरण के खिलाफ सिंधी हिंदू स्टूडेंट्स फेडरेशन ऑफ पाकिस्तान की ओर से रविवार...

राज्यसभा में आज के कामकाज

नई दिल्ली, 11 फरवरी (आईएएनएस)। संसद के बजट सत्र में मंगलवार को राज्यसभा में कई केंद्रीय मंत्री दस्तावेज पेश करेंगे। संसदीय समितियां कई रपटें...

भारती इंफ्राटेल ने इंडस टावर्स में विलय की समय-सीमा 31 अगस्त तक बढ़ाई

नई दिल्ली, 24 जून (आईएएनएस)। भारती इंफ्राटेल-इंडस टावर्स के विलय में अभी और देरी होगी, क्योंकि भारती इंफ्राटेल ने विलय पूरा होने की समय-सीमा...

कोविड-19 से अरबों लोगों की जान बचाने वाला मसीहा साबित हुआ प्लास्टिक

जरा सोचिए कि अगर हमारे पास प्लास्टिक से बनी कोई वस्तु मौजूद नहीं होती, तो क्या हम सभी कोविड-19 के घातक हमले से जिंदा...
Vishal Rohiwal
Vishal Rohiwal
विशाल रोहिवाल पिछले दस वर्ष से कंटेट राईटिंग व स्वतंत्र पत्रकार के रुप में काम कर रहें है। वर्तमान में हैलो राजस्थान की वेब टीम में सीनियर कंटेंट एडिटर के रुप में अपनी सेवांए दे रहें है।
- Advertisement -

नई दिल्ली, 1 जुलाई (आईएएनएस)। दिल्ली में प्रतिदिन सामने आने वाले कोरोना पॉजिटिव मामलों की संख्या में कमी आई है। संक्रमण से मुक्त होने की दर अब 67 फीसदी है, जबकि एक महीना पहले तक मुक्तिदर 38 फीसदी था। मगर अफसोस की बात यह कियहां

कोरोना से प्रतिदिन 60-65 व्यक्तियों की मौत हो रही है।

- Advertisement -

दिल्ली सरकार कोरोना वायरस के कारण होने वाली मौतों को कम करने का प्रयास करेगी। हालांकि सरकार का कहना है कि अब स्थिति इतनी गंभीर नजर नहीं आ रही, जितना कि एक महीना पहले थी।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा, पहले जो आकलन किया गया था, उसके मुताबिक 30 जून तक दिल्ली में कोरोना के एक लाख मामले हो सकते थे। इनमें से 60,000 एक्टिव कोरोना रोगी हो सकते थे, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। दिल्ली में 30 जून तक कोरोना के केवल 26 हजार एक्टिव रोगी हैं, जो पहले के आकलन से लगभग एक तिहाई हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि एक महीना पहले तक दिल्ली में किए जा रहे प्रत्येक 100 कोरोना टेस्ट में से 31 व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव पाए जा रहे थे। आज की स्थिति में 100 टेस्ट किए जाने पर केवल 13 व्यक्ति ही कोरोना पॉजिटिव निकल रहे हैं। कुल मिलाकर आज स्थिति इतनी भयावह नजर नहीं आ रही, जितना कि एक महीना पहले थी।

स्थिति पहले से बेहतर होने के बावजूद दिल्ली सरकार ने स्पष्ट तौर पर कहा है कि अभी पूरी सावधानी बरतनी होगी। किसी भी प्रकार की लापरवाही नहीं बरती जा सकती। यह एक नया वायरस है, इसके बर्ताव का अभी कोई विशेष ज्ञान किसी को नहीं है। हो सकता है कि आज जो स्थिति है कल की स्थिति उससे अलग हो।

- Advertisement -

केजरीवाल ने अस्पतालों में बेडों की उपलब्धता के बारे में बताते हुए कहा, पहले अस्पतालों में प्रतिदिन 250 नए रोगी भर्ती हो रहे थे, लेकिन अब स्थिति उल्टी हो गई है। पिछले 1 हफ्ते के अंदर अस्पतालों में 450 मरीज कम हुए हैं। दिल्ली सरकार ने फिलहाल पंद्रह हजार बेड का इंतजाम किया है, लेकिन अभी अस्पतालों में केवल 5800 रोगी ही भर्ती हैं।

बीते 24 घंटे के दौरान कोरोना से 62 व्यक्तियों की मौत हुई है। दिल्ली में अभी तक कोरोना से कुल 2742 व्यक्तियों की मौत हो चुकी है। वहीं 24 घंटे के दौरान ही 2199 नए कोरोना पॉजिटिव मामले सामने आए हैं। दिल्ली में अब तक 87,360 लोग कोरोना पॉजिटिव हो चुके हैं।

–आईएएनएस

- Advertisement -

Latest article

बिहार में बाढ़ की आशंका को लेकर अलर्ट, बचाव के लिए होगा ड्रोन का उपयोग

पटना, 8 जुलाई (आईएएनएस)। बिहार में बाढ़ की आशंका को देखते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आपदा प्रबंधन विभाग को पूरी तरह अलर्ट रहने...

रीवा के सौर ऊर्जा संयंत्र से दिल्ली मेट्रो को मिलेगी बिजली

भोपाल, 8 जुलाई (आईएएनएस)। मध्य प्रदेश के रीवा जिले में स्थापित एशिया के सबसे बड़े सौर ऊर्जा संयंत्र रीवा अल्ट्रा मेगा सोलर प्रोजेक्ट की...

कानपुर मुठभेड़ पर बोले एडीजी प्रशांत, पुलिस की कार्रवाई बनेगी नज़ीर

लखनऊ 8 जुलाई (आईएएनएस)। कानपुर के चौबेपुर के बिकरू गांव मे उत्तर प्रदेश पुलिस के सीओ सहित आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद...

कभी कभी कड़वा घूंट पीकर करनी पड़ती है समाज सेवा : विजयवर्गीय

भोपाल/इंदौर 8 जुलाई (आईएएनएस)। भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कांग्रेस छोड़कर भाजपा में आए नेताओं के साथ काम करने का जिक्र करते...

पहले एलएसी तक पहुंचने में 14 दिन लगते थे, अब महज 1 दिन : लद्दाख स्काउट्स (आईएएनएस एक्सक्लूसिव)

लेह, 8 जुलाई (आईएएनएस)। वर्ष 1962 में जहां भारतीय सेना को वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) तक पहुंचने में 16 से 18 दिन का समय...