हाफिज सईद को सजा अफसोसनाक, सिर शर्म से झुक गया : पाकिस्तानी धार्मिक नेता

Must read

राजस्थान के परिवहन विभाग में ACB कार्रवाई, सभी 15 आरोपियों से पूछताछ जारी

राजस्थान के RTO में मासिक बंधी का खेल जयपुर। प्रदेश में चल रहे भ्रष्ट्राचार के खेल में शामिल परिवहन विभाग के अधिकारी व दलालों पर...

भारतीय छात्रों ने कहा, चीन में हालात बेहद गंभीर

मानेसर, 18 फरवरी । भारतीय छात्रों ने मंगलवार को कहा कि कोरोनावायरस का केंद्र बन चुके चीन के वुहान प्रांत में स्थिति बेहद गंभीर...

रन लोला रन के देसी संस्करण में नजर आएंगे ताहिर, तापसी

मुंबई, 18 फरवरी । अभिनेत्री तापसी पन्नू और अभिनेता ताहिर राज भसीन जर्मन फिल्म रन लोला रन के हिंदी रूपांतरण में साथ नजर आएंगे।साल...

सीबीएसई सैंपल पेपर्स में गलती बताने वाली याचिका खारिज (लीड-1)

नई दिल्ली, 18 फरवरी । दिल्ली हाईकोर्ट ने मंगलवार को केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के कक्षा 12वीं के अकाउंटेंसी के सैंपल प्रश्नपत्रों में...
- Advertisement -

लाहौर, 14 फरवरी । मुंबई पर हुए जघन्य आतंकी हमले के आरोपी व विश्व स्तर पर बदनाम आतंकवादी हाफिज सईद को पाकिस्तान की एक अदालत द्वारा दी गई महज साढ़े पांच साल कैद की सजा भी पाकिस्तान के धार्मिक नेताओं को रास नहीं आई है। उन्होंने इसे अफसोसनाक बताते हुए कहा है कि इससे देश का सिर शर्म से झुक गया है।

जंग की रिपोर्ट के मुताबिक, जमाते इस्लामी पाकिस्तान के प्रमुख व सीनेटर सिराजुल हक समेत कई धार्मिक नेताओं ने अपने बयान में सईद को दी गई सजा का विरोध किया है। इन नेताओं ने इस आतंकवादी को कश्मीरियों के हक में आवाज बुलंद करने वाला बताया है।

- Advertisement -

पाकिस्तान की अदालत ने आतंक वित्तपोषण के दो मामलों में जमात उद दावा सरगना सईद को साढ़े पांच-साढ़े पांच साल कैद की सजा सुनाई है (जो साथ-साथ चलेगी) लेकिन इन धार्मिक नेताओं का मानना है कि सईद और उसकी संस्था के खिलाफ कोई आरोप आजतक साबित नहीं हुआ है। उसे सजा देने से देश का सिर शर्म से झुक गया है।

इन नेताओं ने अपने बयान में कहा है कि भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) (Narendra Modi) को खुश करने के लिए हुकूमत द्वारा उठाए जाने वाले कदमों का समर्थन नहीं किया जा सकता। अंतर्राष्ट्रीय दबावों की वजह से लिए जाने वाले ऐसे फैसलों से कौमों को बहुत नुकसान उठाना पड़ता है।

सीनेटर सिराजुल हक ने कहा, सरकार ने चंद टकों के लिए एफएटीएफ (फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स) के दबाव में आकर हाफिज सईद को अदालतों के जरिए सजा सुनाकर न सिर्फ पाकिस्तानियों का दिल दुखाया है बल्कि कश्मीरियों का भी दिल दुखाया है। हम सईद और उसकी संस्था के साथ हैं।

–आईएएनएस

- Advertisement -

Latest article

बवाली वीडियो का असर : एसआईटी पहुंची जामिया यूनिवर्सिटी

नई दिल्ली, 18 फरवरी । तीन चार दिन में एक साथ कई संदिग्ध वीडियो बाहर आने से दिल्ली पुलिस में भी खलबली मची हुई...

ऑनलाइन चाइल्ड पोर्नोग्राफी का खात्मा बड़ी चुनौती : कैलाश सत्यार्थी

नई दिल्ली, 18 फरवरी । बच्चों का बचपन बचाने के अभियान में लगे नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी ने यहां मंगलवार को कहा कि...

पाकिस्तान ने क्रूज मिसाइल का सफल परीक्षण किया : आईएसपीआर

इस्लामाबाद, 18 फरवरी । पाकिस्तान ने हवा से दागी जाने वाली क्रूज मिसाइल राड-2 का सफलतापूर्वक परीक्षण किया है। पाकिस्तान के इंटर-सर्विसिस पब्लिक रिलेशंस...

एशियाई कुश्ती चैंपियनशिप : सुनील ने ग्रीको रोमन में स्वर्ण जीतकर रचा इतिहास (राउंडअप)

नई दिल्ली, 18 फरवरी । भारत के सुनील कुमार ने मंगलवार से यहां शुरू हुई एशियाई कुश्ती चैंपियनशिप के पहले दिन ग्रीको रोमन के...

कोरोना वायरस (Corona Virus) की रोकथाम में अच्छे परिणाम मिले : चीनी स्वास्थ्य आयोग

बीजिंग, 18 फरवरी । चीनी राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग की अधिकारी क्वो यानहोंग ने सोमवार को पेइचिंग में कहा कि नए कोरोना वायरस (Corona Virus) निमोनिया की...