Monday, July 13, 2020

हाफिज सईद को सजा अफसोसनाक, सिर शर्म से झुक गया : पाकिस्तानी धार्मिक नेता

Must read

25 लाख के पुराने नोट बदलवाने आए चार जनों को पकड़ा

जयपुर। पुरानी करंसी को बदलवाने की समय सीमा समाप्त हो जाने के बाद भी लोग 500 व 1000 के पुराने नोट किसी भी स्थिति...

दिल्ली में कोरोना के मामले 90 हजार के पार, 2864 व्यक्तियों की मौत

नई दिल्ली, 2 जुलाई (आईएएनएस)। दिल्ली में कोरोना वायरस के मामले 90 हजार से अधिक हो चुके हैं। कोरोना के कारण मरने वाले व्यक्तियों...

कोरोनोवायरस मामलों की संख्या अब से दिन में एक बार अपडेट की जाएगी : स्वास्थ्य मंत्रालय

नई दिल्ली, 5 मई (आईएएनएस)। केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने मंगलवार को कहा कि देश में कोरोनावायरस मामलों का डेटा दिन में...

राजस्थान में संविदाकर्मियों के साथ मदरसा पैराटीचर्स भी होंगे नियमित

जयपुर। प्रदेशभर में मदरसों में पढ़ा रहे शिक्षकेां के लिए राहत भरी खबर है, कि अब जल्द ही राजस्थान सरकार उन्हे संविदाकर्मियों के साथ...
Vishal Rohiwal
Vishal Rohiwal
विशाल रोहिवाल पिछले दस वर्ष से कंटेट राईटिंग व स्वतंत्र पत्रकार के रुप में काम कर रहें है। वर्तमान में हैलो राजस्थान की वेब टीम में सीनियर कंटेंट एडिटर के रुप में अपनी सेवांए दे रहें है।
- Advertisement -

लाहौर, 14 फरवरी (आईएएनएस)। मुंबई पर हुए जघन्य आतंकी हमले के आरोपी व विश्व स्तर पर बदनाम आतंकवादी हाफिज सईद को पाकिस्तान की एक अदालत द्वारा दी गई महज साढ़े पांच साल कैद की सजा भी पाकिस्तान के धार्मिक नेताओं को रास नहीं आई है। उन्होंने इसे अफसोसनाक बताते हुए कहा है कि इससे देश का सिर शर्म से झुक गया है।

जंग की रिपोर्ट के मुताबिक, जमाते इस्लामी पाकिस्तान के प्रमुख व सीनेटर सिराजुल हक समेत कई धार्मिक नेताओं ने अपने बयान में सईद को दी गई सजा का विरोध किया है। इन नेताओं ने इस आतंकवादी को कश्मीरियों के हक में आवाज बुलंद करने वाला बताया है।

- Advertisement -

पाकिस्तान की अदालत ने आतंक वित्तपोषण के दो मामलों में जमात उद दावा सरगना सईद को साढ़े पांच-साढ़े पांच साल कैद की सजा सुनाई है (जो साथ-साथ चलेगी) लेकिन इन धार्मिक नेताओं का मानना है कि सईद और उसकी संस्था के खिलाफ कोई आरोप आजतक साबित नहीं हुआ है। उसे सजा देने से देश का सिर शर्म से झुक गया है।

इन नेताओं ने अपने बयान में कहा है कि भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को खुश करने के लिए हुकूमत द्वारा उठाए जाने वाले कदमों का समर्थन नहीं किया जा सकता। अंतर्राष्ट्रीय दबावों की वजह से लिए जाने वाले ऐसे फैसलों से कौमों को बहुत नुकसान उठाना पड़ता है।

सीनेटर सिराजुल हक ने कहा, सरकार ने चंद टकों के लिए एफएटीएफ (फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स) के दबाव में आकर हाफिज सईद को अदालतों के जरिए सजा सुनाकर न सिर्फ पाकिस्तानियों का दिल दुखाया है बल्कि कश्मीरियों का भी दिल दुखाया है। हम सईद और उसकी संस्था के साथ हैं।

–आईएएनएस

- Advertisement -

Latest article

गौतमबुद्धनगर : 4177 लोगों की हुई जांच 30 लोग मिले संक्रमित, कंटेटमेंट जोन की संख्या 328 हुई (लीड-1)

गौतमबुद्धनगर, 12 जुलाई (आईएएनएस)। गौतमबुद्धनगर में निवासियों को कोरोना वायरस के संक्रमण से सुरक्षित करने के उद्देश्य से जिला प्रशासन द्वारा विभिन्न स्तर पर...

नोएडा में नियमों के उल्लंघन पर 1904 वाहनों का चालान कटा, 64 लोग गिरफ्तार

गौतमबुद्धनगर, 13 जुलाई (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस की महामारी को फैलने से रोकने के लिए गौतमबुद्धनगर (नोएडा) में जारी धारा-144 व लॉकडाउन...

तराशे, पॉलिश किए गए हीरे के दोबारा आयात में 3 महीने की छूट

नई दिल्ली, 12 जुलाई (आईएएनएस)। कोरोना काल की विशेष परिस्थति को देखते हुए सरकार ने रत्न और आभूषण क्षेत्र को राहत प्रदान करते हुए...

तेलंगाना में टीआरएस कार्यकर्ताओं का भाजपा सांसद के काफिले पर हमला

हैदराबाद, 13 जुलाई (आईएएनएस)। तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के कार्यकर्ताओं ने भाजपा सांसद धर्मपुरी अरविंद के काफिले पर वारंगल जिले में रविवार को हमला...

राजस्थान संकट का हल जल्द निकाला जाए : सिंघवी

नई दिल्ली, 12 जुलाई (आईएएनएस)। राजस्थान में अपनी सरकार के लुढ़कने के कगार पर पहुंचती देखकर कांग्रेस के दिग्गजों ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत गुट...