गूगल मैप्स में कश्मीर भारत के बाहर विवादित क्षेत्र

Must read

राजस्थान के परिवहन विभाग में ACB कार्रवाई, सभी 15 आरोपियों से पूछताछ जारी

राजस्थान के RTO में मासिक बंधी का खेल जयपुर। प्रदेश में चल रहे भ्रष्ट्राचार के खेल में शामिल परिवहन विभाग के अधिकारी व दलालों पर...

भारतीय छात्रों ने कहा, चीन में हालात बेहद गंभीर

मानेसर, 18 फरवरी । भारतीय छात्रों ने मंगलवार को कहा कि कोरोनावायरस का केंद्र बन चुके चीन के वुहान प्रांत में स्थिति बेहद गंभीर...

रन लोला रन के देसी संस्करण में नजर आएंगे ताहिर, तापसी

मुंबई, 18 फरवरी । अभिनेत्री तापसी पन्नू और अभिनेता ताहिर राज भसीन जर्मन फिल्म रन लोला रन के हिंदी रूपांतरण में साथ नजर आएंगे।साल...

सीबीएसई सैंपल पेपर्स में गलती बताने वाली याचिका खारिज (लीड-1)

नई दिल्ली, 18 फरवरी । दिल्ली हाईकोर्ट ने मंगलवार को केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के कक्षा 12वीं के अकाउंटेंसी के सैंपल प्रश्नपत्रों में...
- Advertisement -

सैन फ्रांसिस्को, 15 फरवरी । गूगल मैप्स भारत के भीतर कश्मीर को भारत का हिस्सा दिखाता है, लेकिन बाहर अन्य देशों के लोगों को इस क्षेत्र की सीमाएं अलग से डॉटेड लाइन में दिखाई देती है, जो इसे विवादित क्षेत्र बताती है। द वाशिंगटन पोस्ट ने इस बात की जानकारी दी।

सिर्फ कश्मीर ही नहीं, कई अन्य देशों की सीमाएं गूगल मैप्स में अलग दिखाई देती हैं। यह इस बात पर निर्भर करता है कि आप गूगल मैप्स का इस्तेमाल संबंधित देश के भीतर से कर रहे हैं या बाहर से।

- Advertisement -

ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि गूगल सहित अन्य ऑनलाइन मैप मेकर उन्हें बदल देते हैं।

गूगल के अनुसार, यह स्थानीय कानूनों का अनुसरण करता है, जहां गूगल मैप्स के स्थानीय संस्करण उपलब्ध हैं।

द वाशिंगटन पोस्ट ने गूगल मैप के प्रोडक्ट मैनेजमेंट के डायरेक्टर एथन रसेल के हवाले से कहा, हमारा लक्ष्य हमेशा जमीनी सच्चाई के आधार पर सबसे व्यापक और सटीक नक्शा उपलब्ध कराना है।

रसेल ने आगे कहा, विवादित क्षेत्रों और सीमाओं के मुद्दों पर हम तटस्थ रहते हैं। हम डैश्ड ग्रे बॉर्डर लाइन के माध्यम से विवाद को अपने नक्शे में प्रदर्शित करने का हर संभव प्रयास करते हैं।

- Advertisement -

उन्होंने कहा, जिन देशों में हमारे पास गूगल मैप के स्थानीय संस्करण हैं, हम नाम और सीमाओं को प्रदर्शित करते समय स्थानीय कानून का पालन करते हैं।

हालांकि, रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि राजनयिकों, नीति निर्माताओं और अपने स्वयं के अधिकारियों के स्थानांतरण से भी गूगल मैप मेकिंग प्रभावित होती है।

15 साल पहले इसकी शुरुआत हुई थी और अब करीब 1 अरब लोग दुनिया की जानकारी लेने के लिए गूगल मैप्स का इस्तेमाल करते हैं।

–आईएएनएस

- Advertisement -

Latest article

बवाली वीडियो का असर : एसआईटी पहुंची जामिया यूनिवर्सिटी

नई दिल्ली, 18 फरवरी । तीन चार दिन में एक साथ कई संदिग्ध वीडियो बाहर आने से दिल्ली पुलिस में भी खलबली मची हुई...

ऑनलाइन चाइल्ड पोर्नोग्राफी का खात्मा बड़ी चुनौती : कैलाश सत्यार्थी

नई दिल्ली, 18 फरवरी । बच्चों का बचपन बचाने के अभियान में लगे नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी ने यहां मंगलवार को कहा कि...

पाकिस्तान ने क्रूज मिसाइल का सफल परीक्षण किया : आईएसपीआर

इस्लामाबाद, 18 फरवरी । पाकिस्तान ने हवा से दागी जाने वाली क्रूज मिसाइल राड-2 का सफलतापूर्वक परीक्षण किया है। पाकिस्तान के इंटर-सर्विसिस पब्लिक रिलेशंस...

एशियाई कुश्ती चैंपियनशिप : सुनील ने ग्रीको रोमन में स्वर्ण जीतकर रचा इतिहास (राउंडअप)

नई दिल्ली, 18 फरवरी । भारत के सुनील कुमार ने मंगलवार से यहां शुरू हुई एशियाई कुश्ती चैंपियनशिप के पहले दिन ग्रीको रोमन के...

कोरोना वायरस (Corona Virus) की रोकथाम में अच्छे परिणाम मिले : चीनी स्वास्थ्य आयोग

बीजिंग, 18 फरवरी । चीनी राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग की अधिकारी क्वो यानहोंग ने सोमवार को पेइचिंग में कहा कि नए कोरोना वायरस (Corona Virus) निमोनिया की...