डब्यूएचओ के विशेषज्ञ ने चीन में महामारी रोधक कोशिशों की समीक्षा की

Must read

लॉकडाउन से बोर होकर उर्वशी ने डाली अपनी एक नई तस्वीर

मुंबई, 4 अप्रैल (आईएएनएस)। अभिनेत्री उर्वशी रौतेला (Urvashi Rautela)आजकल कोविड-19 को फैलने से रोकने के चलते देशभर में बुलाए गए लॉकडाउन में घर पर...

अब माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने विद्यार्थियेां के लिए जारी किया ऑनलाइन कंटेंट

जयपुर। देशभर में लाॅकडाउन के दौरान विद्यार्थियेां को समय पर पढ़ाई से जोड़ा जा सके इसके लिए आनलाइन कक्षाएं लगाई जा रही है तो...

वेब सीरीज के लिए अपनी डायट पर मेहनत कर रही हैं लिजा मलिक

मुंबई, 3 अप्रैल (आईएएनएस)। अभिनेत्री लिजा मलिक अपनी वेब सीरीज हू इज योर डैडी? में अपने किरदार के लिए भिन्न डायट चार्ट को फॉलो...

चूरू : कर्फ़्यू के दौरान डोर टू डोर सामान उपलब्ध करा रही मोबाइल वैन

चूरू। जिले के चूरू नगरीय क्षेत्र में धारा 144 अंतर्गत लगाए गए कर्फ़्यू के दौरान आमजन को चूरू सहकारी उपभोक्ता होलसेल भंडार की मोबाइल...
- Advertisement -

बीजिंग, 25 फरवरी (आईएएनएस)। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के महानिदेशक के वरिष्ठ सलाहकार ब्रुस एल्वार्ड ने कहा कि हमारी जानकारी के अनुसार चीन ने महामारी से निपटने के लिए महत्वपूर्ण कदम उठाए हैं।

पेइचिंग में आयोजित चीन-विश्व स्वास्थ्य संगठन संयुक्त विशेषज्ञ दल की न्यूज ब्रीफिंग में विशेषज्ञों ने कहा कि चीन द्वारा उठाए गए कदम से महामारी के विस्तार को रोका गया है। उन्होंने दूसरे देशों को चीन द्वारा उठाए गए कदमों सीख लेने की सलाह दी है।

- Advertisement -

इस संयुक्त दल के वैदेशिक नेता ब्रुस एल्वार्ड ने कहा कि चीन का दृष्टिकोण यही है कि चूंकि कोई दवा और कोई टीका नहीं है, तो आपके पास जो भी हो, उसका उपयोग करना आना चाहिए और जीवन को बचाने के लिए आवश्यकतानुसार समायोजित करना चाहिए।

कुल नौ दिनों के भीतर 12 विशेषज्ञों के दल ने पेइचिंग, क्वांगतुंग, सछ्वान और हूपेइ का दौरा किया। उन्होंने पाया कि चीन ने वुहान शहर को बन्द किया और इस शहर में कुछ विशेष अस्पताल का निर्माण किया। सेना और दूसरे राज्यों में से 330 दल और 40 हजार चिकित्सक भेजे गए। महामारी की रोकथाम में चीन की गति, पैमाना और कार्य क्षमता साबित हुई है।

अमेरिकी लेखक सारा फ्लोंडर्स ने लिखा कि महामारी की रोकथाम के लिये चीन द्वारा उठाया गया कदम पूंजीवादी देश में कभी नहीं दिखता है। उधर अमेरिका के द खुन फाउंडेशन के अध्यक्ष रोबर्ट लॉरेंस खुन ने कहा कि चीन सरकार की संगठनात्मक क्षमता वैश्विक स्वास्थ्य के इतिहास में कोई मिसाल नहीं है, और विश्व के दूसरे देश ऐसा करने में असमर्थ हैं।

नये कोरोना वायरस संक्रमण के बारे में काफी जानकारी नहीं है, इसलिए इसे रोकने वाले कदमों को ढीला नहीं बनाया जाएगा। पर विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक ने कहा कि सभी देशों को आशा, साहस और विश्वास दिलाने सूचना यही है कि इस वायरस को नियंत्रित किया जा सकेगा। चीन उपयोगी दवाइयों और टीके का अनुसंधान करने की कोशिश करेगा और चीन भी दूसरे देशों को यथासंभव मदद देगा।

- Advertisement -

(साभार-चाइना रेडियो इंटरनेशनल, पेइचिंग)

— आईएएनएस

- Advertisement -

Latest article

बरबोसा की चाहत, फ्लेमिंगो के लिए खेलें नेमार

रियो डी जनेरियो, 7 अप्रैल (आईएएनएस)। ब्राजील के सेरी-ए क्लब फ्लेमिंगो के स्टाइकर गेब्रियल बरबोसा का मानना है कि पेरिस सेंट जर्मेन (पीएसएजी) के...

सिंगापुर में भारतीय मूल के गिल उच्च न्यायालय के न्यायाधीश नियुक्त

सिंगापुर, 7 अप्रैल (आईएएनएस)। सिंगापुर के राष्ट्रपति ने भारतीय मूल के दीदार सिंह गिल को 1 अगस्त से उच्च न्यायालय का न्यायाधीश नियुक्त किया...

भूखों को अन्न, जरूरतमंदों को धन देने को गोरक्षपीठ ने खोला भंडार

गोरखपुर, 07 अप्रैल (आईएएनएस)। कोरोना के बढ़ रहे संकट से लोगों को उबारने को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मदद में हर...

बिहार में सामाजिक कार्यकर्ता की गोली मारकर हत्या

सीवान, 7 अप्रैल (आईएएनएस)। बिहार के सीवान जिले के आंदर थाना क्षेत्र में लॉकडाउन के बीच मंगलवार को सामाजिक कार्यकर्ता शेषनाथ द्विवेदी उर्फ टिंकू...

सैनिटाइजेशन के लिए इलेक्ट्रोस्टेटिक मशीन

नई दिल्ली, 7 अप्रैल (आईएएनएस)। कोविड-19 के संक्रमण को रोकने में केंद्रीय वैज्ञानिक उपकरण संगठन (सीएसआईओ) के वैज्ञानिकों द्वारा विकसित इलेक्ट्रोस्टेटिक डिस्इन्फेक्शन मशीन प्रभावी...