वांग यी ने जयशंकर के साथ फोन पर बात की

Must read

लॉकडाउन से बोर होकर उर्वशी ने डाली अपनी एक नई तस्वीर

मुंबई, 4 अप्रैल (आईएएनएस)। अभिनेत्री उर्वशी रौतेला (Urvashi Rautela)आजकल कोविड-19 को फैलने से रोकने के चलते देशभर में बुलाए गए लॉकडाउन में घर पर...

अब माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने विद्यार्थियेां के लिए जारी किया ऑनलाइन कंटेंट

जयपुर। देशभर में लाॅकडाउन के दौरान विद्यार्थियेां को समय पर पढ़ाई से जोड़ा जा सके इसके लिए आनलाइन कक्षाएं लगाई जा रही है तो...

चूरू : कर्फ़्यू के दौरान डोर टू डोर सामान उपलब्ध करा रही मोबाइल वैन

चूरू। जिले के चूरू नगरीय क्षेत्र में धारा 144 अंतर्गत लगाए गए कर्फ़्यू के दौरान आमजन को चूरू सहकारी उपभोक्ता होलसेल भंडार की मोबाइल...

वेब सीरीज के लिए अपनी डायट पर मेहनत कर रही हैं लिजा मलिक

मुंबई, 3 अप्रैल (आईएएनएस)। अभिनेत्री लिजा मलिक अपनी वेब सीरीज हू इज योर डैडी? में अपने किरदार के लिए भिन्न डायट चार्ट को फॉलो...
- Advertisement -

बीजिंग, 25 मार्च (आईएएनएस)। चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने भारतीय विदेश मंत्री जयशंकर के साथ फोन पर बात की। वांग यी ने कहा कि भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चीनी जनता के कोविड-19 के साथ मुकाबले के नाजुक वक्त में राष्ट्रपति शी चिनफिंग को पत्र लिखकर संवेदना व्यक्त की। भारतीय पक्ष ने चीनी जनता को मदद भी दी। हम इसके आभारी हैं।

वांग यी ने कहा कि इस समय महामारी विश्व के कई क्षेत्रों में फैल रही है। भारत में पुष्ट मामले भी बढ़ गए हैं। चीनी पक्ष भारत के महामारी विरोधी कदमों और इसमें मिले स्पष्ट परिणामों की प्रशंसा करता है। विश्वास है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारतीय जनता जरूर इस महामारी को यथाशीघ्र ही पराजित करेगी। मैत्रीपूर्ण पड़ोसी देश होने के नाते चीन भारत के साथ महामारी के मुकाबले के अनुभवों को साझा करने और भारत को हर संभव मदद देने को तैयार है।

- Advertisement -

वांग यी ने कहा कि विश्व में एक अरब से अधिक आबादी वाले दो बड़े देश होने के नाते चीन और भारत को महामारी के निपटारे में पारस्परिक समर्थन देकर एक साथ कठिनाई को दूर करना चाहिए। चीन और भारत को जी 20 तथा ब्रिक्स देशों समेत मंचों पर सहयोग मजबूत बनाकर अंतरराष्ट्रीय समुदाय की एकता और समन्वय बढ़ाकर वैश्विक और क्षेत्रीय सार्वजनिक स्वास्थ्य की सुरक्षा करनी चाहिए।

जयशंकर ने कहा कि भारत ने महामारी के फैलाव को रोकने और आर्थिक विकास पर उस का प्रभाव कम करने के लिए संपूर्ण और सख्त कदम उठाये। भारत चीन की संवेदना और चिकित्सक राहत सामग्री का आभारी है, महामारी की रोकथाम में चीन की उल्लेखनीय उपलब्धियों की प्रशंसा करता है और चीन के अनुभवों से सीखना चाहता है। भारत वायरस को लेबलिंग करने का विरोध करता है। भारत का विचार है कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय को महामारी के मुकाबले के इस नाजुक दौर में एकतापूर्ण, सुदृढ़ ,शक्तिशाली सकारात्मक संकेत देना चाहिए।

(साभार—चाइना रेडियो इंटरनेशनल, पेइचिंग)

-आईएएनएस

- Advertisement -

Latest article

मप्र में कोरोना पीड़ितों की संख्या ढाई सौ के पार, 14 मौत

भोपाल, 6 अप्रैल (आईएएनएस)। मध्य प्रदेश में कोरोना वायरस पीड़ितों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है। राज्य में पीड़ितों का आंकड़ा...

भाजपा हुई 40 साल की, जनता पार्टी में वर्चस्व की लड़ाई के बाद बनी थी

नई दिल्ली, 6 अप्रैल (आईएएनएस)। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सोमवार को 40 साल की हो गई। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के पुराने कार्यकर्ता रहे...

लॉकडाउन : प्रेमी जोड़े ने फांसी लगाकर आत्महत्या की

फतेहपुर (उप्र), 6 अप्रैल (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश में फतेहपुर जिले के मलवां थाना क्षेत्र एक गांव से रविवार की शाम भागे प्रेमी जोड़े के...

बिहार से बाहर फंसे 1 लाख लोगों के बैंक खाते में भेजे गए 1000 रुपये

पटना, 6 अप्रैल (आईएएनएस)। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार मुख्यमंत्री विशेष सहायता के तहत बाहर फंसे बिहार के लोगों को 1,000 रुपये...

कोविड-19 : मरकज से लौटे बांदा के पहले कोरोना मरीज की दूसरी रिपोर्ट निगेटिव

बांदा, 6 अप्रैल (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश के बांदा जिले के पहले कोरोना मरीज साजिद अली की दूसरी रिपोर्ट सोमवार को निगेटिव आई। उसे दिल्ली...