फतवे व राष्ट्रपति की अपील के बावजूद पाकिस्तानी उलेमा मस्जिदें बंद न करने पर अड़े

Must read

लॉकडाउन से बोर होकर उर्वशी ने डाली अपनी एक नई तस्वीर

मुंबई, 4 अप्रैल (आईएएनएस)। अभिनेत्री उर्वशी रौतेला (Urvashi Rautela)आजकल कोविड-19 को फैलने से रोकने के चलते देशभर में बुलाए गए लॉकडाउन में घर पर...

चूरू : कर्फ़्यू के दौरान डोर टू डोर सामान उपलब्ध करा रही मोबाइल वैन

चूरू। जिले के चूरू नगरीय क्षेत्र में धारा 144 अंतर्गत लगाए गए कर्फ़्यू के दौरान आमजन को चूरू सहकारी उपभोक्ता होलसेल भंडार की मोबाइल...

अब माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने विद्यार्थियेां के लिए जारी किया ऑनलाइन कंटेंट

जयपुर। देशभर में लाॅकडाउन के दौरान विद्यार्थियेां को समय पर पढ़ाई से जोड़ा जा सके इसके लिए आनलाइन कक्षाएं लगाई जा रही है तो...

वेब सीरीज के लिए अपनी डायट पर मेहनत कर रही हैं लिजा मलिक

मुंबई, 3 अप्रैल (आईएएनएस)। अभिनेत्री लिजा मलिक अपनी वेब सीरीज हू इज योर डैडी? में अपने किरदार के लिए भिन्न डायट चार्ट को फॉलो...
- Advertisement -

इस्लामाबाद, 26 मार्च (आईएएनएस)। कोरोना वायरस खतरे के मद्देनजर मस्जिदों में जुमा व अन्य सामूहिक नमाजें नहीं पढ़ने के मिस्र के प्रसिद्ध अल अजहर विश्वविद्यालय के फतवे और राष्ट्रपति आरिफ अल्वी की अपील का पाकिस्तान के उलेमा पर कोई असर नहीं हुआ है। उन्होंने साफ कहा है कि कुछ एहतियात के साथ मस्जिदों में सामूहिक नमाजें जारी रहेंगी।

जियो न्यूज की रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान के राष्ट्रपति डॉ आरिफ अल्वी ने मिस्र के विश्व प्रसिद्ध धार्मिक अल अजहर विश्वविद्यालय के मुख्य मुफ्ती व सर्वोच्च परिषद द्वारा दिए गए फतवे के मद्देनजर पाकिस्तान में सामूहिक नमाजों को बंद करने पर विचार का उलेमा से आग्रह किया था।

- Advertisement -

अल अजहर विश्वविद्यालय के मुख्य मुफ्ती व सर्वोच्च परिषद द्वारा दिए गए फतवे में कहा गया है कि किसी देश की सरकार जुमे समेत अन्य सामूहिक नमाजों को रोक सकती है। कोरोना वायरस के प्रकोप से निपटने के लिए सरकार पूरे देश में लोगों के जमावड़े को रोक सकती है।

फतवे में मुहम्मद साहब के इस कथन (हदीस) का हवाला दिया गया है कि किसी प्राकृतिक आपदा में नमाजें घर में पढ़ी जानी चाहिए।

इसी फतवे के संदर्भ में पाकिस्तानी राष्ट्रपति ने देश के उलेमा से इस पर विचार करने और देश को कोरोना से बचाने में मदद देने का आग्रह किया।

लेकिन, उलेमा ने साफ कर दिया कि ऐसा मुमकिन नहीं है। मुफ्ती मुनीब उर रहमान व कई अन्य मुफ्तियों ने एक प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि जो भी कोरोना संदिग्ध या अस्वस्थ नहीं है, वह मस्जिदों में आएगा और पांचों वक्त की फर्ज नमाजें व जुमे की नमाज सामूहिक रूप से अदा करेगा। फर्ज के अलावा जो अन्य सुन्नत नमाजें हैं, उन्हें मस्जिद के बजाए घरों में पढ़ा जाए।

- Advertisement -

–आईएएनएस

- Advertisement -

Latest article

न्यूयार्क के ब्रोंक्स चिड़ियाघर में कोविड-19 से संक्रमित हुआ बाघ

न्यूयॉर्क, 6 अप्रैल (आईएएनएस)। न्यूयॉर्क शहर स्थित वाइल्डलाइफ कंजर्वेशन सोसाइटी के ब्रोंक्स जू (चिड़ियाघर) में एक बाघ कोविड-19 से संक्रमित पाया गया है। बीबीसी...

ऑमलेट पलटने में बेहतरीन हुए विक्की कौशल

मुंबई, 6 अप्रैल (आईएएनएस)। एक ऑमलेट को पलटने की कई असफल कोशिशों के बाद आखिरकार अभिनेता विक्की कौशल ने इसमें महारत हासिल कर ली।इंस्टाग्राम...

एडम लेविन ने पत्नी के गर्भवती होने की खबर को अफवाह कहा

लॉस एंजेलिस, 6 अप्रैल (आईएएनएस) मरून 5 के फ्रंटमैन एडम लेविन ने अपनी पत्नी के गर्भवती होने की खबरों को अफवाह बताते हुए कहा...

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन अस्पताल में भर्ती

लंदन, 6 अप्रैल (आईएएनएस)। कोरोनावायरस से संक्रमित ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन को अस्पताल में भर्ती करना पड़ा। मीडिया ने रविवार को इस बात...

लॉकडाउन : 1000 करोड़ रुपये के फसल बीमा दावों का भुगतान

नई दिल्ली, 5 अप्रैल (आईएएनएस)। कोरोनावायरस के प्रकोप की रोकथाम के मकसद से सरकार द्वारा घोषित देशव्यापी लॉकडाउन के दौरान देश के विभिन्न राज्यों...