पाकिस्तान में मानवाधिकार की स्थिति बेहद चिंताजनक : रिपोर्ट

Must read

इम्तियाज अली ने विजय वर्मा की तारीफ की

मुंबई, 21 मार्च (आईएएनएस)। गली बॉय, बागी 3 में दर्शकों को चकित करने के बाद अभिनेता विजय वर्मा अब नेटफ्लिक्स की फिल्म शी में...

सड़क से सोशल मिडिया तक महिला कांग्रेस मौर्चा संभाले : पायलट

वार्ड़ एवं ब्लाक स्तर तक महिला कांग्रेस संगठन का विस्तार करेंगी जयपुर। महिला कांग्रेस राज्य में आगामी विधानसभा चुनावों के मददेनजर वार्ड़ एवं ब्लांक स्तर...

कोरोना की गिरफ्त में विश्व की प्रमुख हस्तियां

नई दिल्ली, 25 मार्च (आईएएनएस)। कोरोनावायरस से पूरी दुनिया जूझ रही है। लगभग सभी देश इस संकट का सामना कर रहे हैं और अब...

जमशेदपुर को 5-0 से हराकर गोवा एएफसी चैंपियंस लीग के ग्रुप चरण में

जमशेदपुर, 19 फरवरी (आईएएनएस)। हीरो इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) के छठे सीजन के सेमीफाइनल में पहले ही जगह बना चुकी एफसी गोवा बुधवार को...
- Advertisement -

इस्लामाबाद, 30 अप्रैल (आईएएनएस)। पाकिस्तान के मानवाधिकार आयोग (एचआरसीपी) ने कहा है कि साल 2019 में देश में मानवाधिकार की स्थिति बेहद चिंताजनक रही और मौजूदा कोरोना वायरस महामारी के कारण देश में मानवाधिकार की स्थिति के और खराब होने की आशंका है। यह महामारी समाज में पहले से ही हाशिये पर पड़े वंचित तबकों की तकलीफों को और बढ़ाएगी।

आयोग ने 2019 में मानवाधिकारों की स्थिति पर अपनी रिपोर्ट गुरुवार को जारी की। इसमें आयोग के मानद प्रवक्ता आई. ए. रहमान ने साल 2019 में पाकिस्तान में मानवाधिकारों की स्थिति को बेहद चिंताजनक करार दिया।

- Advertisement -

रिपोर्ट को जारी करने के मौके पर आयोग के महासचिव हारिस खलीक ने कहा कि बीता साल देश में राजनैतिक असहमतियों पर पाबंदी, प्रेस की आजादी पर रोक व आर्थिक तथा सामाजिक अधिकारों की गंभीर उपेक्षा के लिए याद रखा जाएगा।

उन्होंने कहा कि रिपोर्ट में इस बात को सुनिश्चित किया गया है कि कोई भी क्षेत्र छूटने नहीं पाए।

एचआरसीपी की निदेशक फरह जिया ने कहा कि देश में धार्मिक अल्पसंख्यकों को आस्था की आजादी नहीं है जिसकी गारंटी उन्हें संविधान देता है। अल्पसंख्यकों के धर्मस्थलों पर हमले हुए, उनकी महिलाओं का जबरन धर्मपरिवर्तन कराया गया और रोजगार देने में उनके साथ भेदभाव किया गया।

आयोग की साल 2019 की रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान अपने सर्वाधिक कमजोर नागरिकों को सुरक्षा देने में नाकाम रहा। बलूचिस्तान की खानों में बच्चे काम कर रहे हैं और बीते साल इन बच्चों के यौन शोषण की कई घटनाएं सामने आईं। बच्चों का यौन शोषण और उन्हें मारकर फेंक देने की घटनाएं रोजाना की आम घटनाओं जैसी बनकर रह गईं हैं।

- Advertisement -

रिपोर्ट में कहा गया है कि महिलाओं को इज्जत के नाम पर तबाह और बर्बाद कर देने और उन्हें जान से मार देने की घटनाओं में कोई कमी नहीं आई और इस मामले में पंजाब सबसे आगे रहा। इस तरह पाकिस्तानी राज्य उन लोगों को सुरक्षा नहीं दे सका है जिनकी सुरक्षा उसकी जिम्मेदारी है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान की जेलों में कैदियों को अमानवीय हालात में रखा जा रहा है जिनमें बड़ी संख्या उन विचाराधीन कैदियों की है जिनका कोई जुर्म साबित नहीं हुआ है। इसमें कहा गया कि पत्रकारों ने बताया कि सरकार की नीतियों की आलोचना करना अब पहले से अधिक मुश्किल हो गया है।

–आईएएनएस

- Advertisement -

Latest article

बीकानेर से मेड़ता रोड स्पेेशल ट्रेन, जोधपुर-हावड़ा स्पेशल रेल सेवा शुरू

बीकानेर(Bikaner News)। बीकानेर से हावड़ा (Bikaner to Howrah Train) जाने के लिए अब मेड़ता रोड़ से सीधी रेल सेवा मिल (Merta Road to Bikaner...

आवासन मण्डल का बडा तोहफा : कर्मचारियों के लिए लॉंच होगी मुख्यमंत्री राज्य कर्मचारी आवासीय योजना

जयपुर के प्रताप नगर में बनेंगे 2 व 3 बीएचके साइज के 624 फलैट्स जयपुर(Jaipur News)। आवासन (Rajasthan Housing Board scheme) आयुक्त पवन अरोड़ा ने...

अब इस योजना में बैंकों से 90 प्रतिशत तक मिलेगी ऋण सुविधा, ऋण चुकाने पर 30 प्रतिशत सब्सिडी

देशी नस्ल के गौवंश की डेयरी स्थापना के लिए मिलेगा ऋण जयपुर। जिला कलक्टर एवं जिला गौपालन समिति के अध्यक्ष डॉ.जोगाराम ने बताया कि ‘‘कामधेनू...

बीकानेर : राजीव गांधी पंचायती राज संगठन का ‘काम मांगो’अभियान प्रारम्भ

पहले दिन 71 ग्रामीणों ने किया आवेदन तथा 37 ने मांगा काम बीकानेर। राजीव गांधी पंचायती राज संगठन (Rajiv Gandhi Panchyatraj Organization) का ‘काम मांगो’...

Rajasthan Weather Alert : राजस्थान में निसर्ग का असर, 20 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी

जयपुर। महाराष्ट्र (Maharashtra)और गुजरात (Gujarat) की और आ रहे हाई स्पीड साईक्लोन निसर्ग (Cyclone Nisarga) का असर अब राजस्थान (Rajasthan) में भी देखने को...