Thursday, July 9, 2020

हिमालय एयरलाइंस और हुआवे के बीच क्लाउड रणनीतिक सहयोग शुरू

Must read

नानी ने वी के पहले दिन की शूटिंग की तस्वीर साझा की

हैदराबाद, 13 जून (आईएएनएस)। तेलुगू स्टार नानी ने अपनी आगामी फिल्म वी के पहले दिन की शूटिंग तस्वीर शेयर की।नानी ने इंटाग्राम पर एक...

1970 मेरी जिदगी का एक काला दौर : अल पचिनो

लॉस एंजेलिस, 22 फरवरी (आईएएनएस)। हॉलीवुड के वरिष्ठ अभिनेता अल पचिनो को 1970 का दशक याद करना पसंद नहीं है, क्योंकि इस काल को...

शख्स ने गलती से 28 टेस्ला कार खरीदी

बर्लिन, 29 जून (आईएएनएस)। जर्मनी के एक व्यक्ति ने टेस्ला कार कंपनी के वेबसाइट पर गलती से टेस्ला मॉडल 3 की 28 कारें खरीद...

शाहीन बाग प्रदर्शन : चौथे दिन भी बेनतीजा रही बातचीत, वापस लौटीं वार्ताकार साधना

नई दिल्ली, 22 फरवरी (आईएएनएस)। दिल्ली के शाहीन बाग में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे प्रदर्शनकारियों से सुप्रीम कोर्ट की...
Vishal Rohiwal
Vishal Rohiwal
विशाल रोहिवाल पिछले दस वर्ष से कंटेट राईटिंग व स्वतंत्र पत्रकार के रुप में काम कर रहें है। वर्तमान में हैलो राजस्थान की वेब टीम में सीनियर कंटेंट एडिटर के रुप में अपनी सेवांए दे रहें है।
- Advertisement -

बीजिंग, 29 जून (आईएएनएस)। हिमालय एयरलाइंस और हुआवे कंपनी ने 28 जून को नेपाल की राजधानी काठमांडू में क्लाउड रणनीतिक सहयोग ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए, जिससे तहत दोनों पक्ष स्मार्ट एविएशन के निर्माण को आगे बढ़ाएंगे, और साथ ही यात्री व माल परिवहन प्रणाली के व्यापक सहयोग के अवसर तलाशेंगे।

हिमालय एयरलाइंस के अध्यक्ष चाओ एनयोंग ने हस्ताक्षर रस्म में भाषण देते हुए कहा कि हुआवे कंपनी के साथ सामरिक सहयोग साझेदारी संबंध की स्थापना से एयरलाइंस के डिजिटलीकरण में गति देने, यात्रियों के पर्यटन अनुभव को बेहतर बनाने में बड़ी मदद मिलेगी।

- Advertisement -

वहीं, हुआवे कंपनी के एशिया-प्रशांत क्लाउड और कम्प्यूटिंग व्यवसाय के अध्यक्ष चाओ तानचिन के मुताबिक, डिजिटल प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल विमानन उद्योग के विकास की नई प्रवृत्ति है। हुआवे कंपनी हिमालय एयरलाइंस की स्पर्धा शक्ति को उन्नत करने में मदद देगी।

नेपाल स्थित चीनी दूतावास में वाणिज्य मामला काउंसलर चांग फान ने वीडियो के माध्यम से हस्ताक्षर समारोह में भाग लिया। उन्होंने कहा कि महामारी के बाद के युग में चीनी पूंजी वाले उद्योगों को पारंपरिक विचारधारा बदल कर नए वातावरण के अनुकूल व्यापार मॉडल स्थापित करना चाहिए, ताकि चीन और नेपाल के बीच हिमालय-पार त्रिआयामी आपसी संपर्क वाले नेटवर्क का निर्माण किया जा सके और बेल्ट एंड रोड के सह-निर्माण के लिए योगदान दिया जा सके।

जानकारी के मुताबिक, चीन और नेपाल की संयुक्त पूंजी वाली कंपनी हिमालय एयंरलाइंस की स्थापना 2014 में हुई, जिसका मुख्यालय काठमांडू में है।

( साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग )

- Advertisement -

— आईएएनएस

- Advertisement -

Latest article

बिहार में बाढ़ की आशंका को लेकर अलर्ट, बचाव के लिए होगा ड्रोन का उपयोग

पटना, 8 जुलाई (आईएएनएस)। बिहार में बाढ़ की आशंका को देखते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आपदा प्रबंधन विभाग को पूरी तरह अलर्ट रहने...

रीवा के सौर ऊर्जा संयंत्र से दिल्ली मेट्रो को मिलेगी बिजली

भोपाल, 8 जुलाई (आईएएनएस)। मध्य प्रदेश के रीवा जिले में स्थापित एशिया के सबसे बड़े सौर ऊर्जा संयंत्र रीवा अल्ट्रा मेगा सोलर प्रोजेक्ट की...

कानपुर मुठभेड़ पर बोले एडीजी प्रशांत, पुलिस की कार्रवाई बनेगी नज़ीर

लखनऊ 8 जुलाई (आईएएनएस)। कानपुर के चौबेपुर के बिकरू गांव मे उत्तर प्रदेश पुलिस के सीओ सहित आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद...

कभी कभी कड़वा घूंट पीकर करनी पड़ती है समाज सेवा : विजयवर्गीय

भोपाल/इंदौर 8 जुलाई (आईएएनएस)। भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कांग्रेस छोड़कर भाजपा में आए नेताओं के साथ काम करने का जिक्र करते...

पहले एलएसी तक पहुंचने में 14 दिन लगते थे, अब महज 1 दिन : लद्दाख स्काउट्स (आईएएनएस एक्सक्लूसिव)

लेह, 8 जुलाई (आईएएनएस)। वर्ष 1962 में जहां भारतीय सेना को वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) तक पहुंचने में 16 से 18 दिन का समय...