Tuesday, July 14, 2020

तिब्बत में इस साल 312 गरीबी उन्मूलन परियोजनाएं चलाई जाएंगी

Must read

मुख्यमंत्री योगी ने 56 हजार से अधिक लोगों को 2 हजार करोड़ का लोन बांटा

लखनऊ ,14 मई (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को राज्य के 56 हजार 754 उद्यमियों को एकमुश्त दो हजार दो...

अपने आउट होने का वीडियो जब देखूंगा, पछताऊंगा : सैनी

ऑकलैंड, 8 फरवरी (आईएएनएस)। नवदीप सैनी और रवींद्र जडेजा ने आठवें विकेट के लिए 76 रनों की साझेदारी कर भारत को न्यूजीलैंड के खिलाफ...

ऊंट गाड़े पर बारात पहुंची दुल्हन के घर

चुरु। आधुनिकता के दौर में जंहा विवाह समारोह में लेाग नए नए उदाहरण पेश कर रहें है। वंही मंहगी लग्जरी कार, घोडे, हाथी, हेलीकाप्टर...

चूरू : संकट की घड़ी में सरकार किसानों के साथ – डॉ गर्ग

जिले के ओलावृष्टि प्रभावित खेतों में पहुंचे प्रभारी मंत्री डॉ गर्ग चूरू। तकनीकी एवं संस्कृत शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार), चिकित्सा एवं स्वास्थ्य, सूचना एवं जनसंपर्क राज्य...
Vishal Rohiwal
Vishal Rohiwal
विशाल रोहिवाल पिछले दस वर्ष से कंटेट राईटिंग व स्वतंत्र पत्रकार के रुप में काम कर रहें है। वर्तमान में हैलो राजस्थान की वेब टीम में सीनियर कंटेंट एडिटर के रुप में अपनी सेवांए दे रहें है।
- Advertisement -

बीजिंग, 30 जून (आईएएनएस)। तिब्बत स्वायत्त प्रदेश के गरीबी उन्मूलन कार्यालय से प्राप्त खबर के अनुसार इस साल देश के भीतरी इलाकों और केंद्रीय उद्योगधंधों द्वारा तिब्बत में 312 गरीबी उन्मूलन परियोजनाएं चलायी जाएंगी जिनका निवेश 15.9 अरब युआन तक रहेगा। उन में ल्हासा शहर में 44 परियोजनाएं शुरू की जाएंगी जिनका निवेश 4.45 अरब युआन तक रहेगा।

हाल ही में तिब्बत के शाननान शहर में आयोजित गरीबी उन्मूलन कार्य सभा में तिब्बत स्वायत्त प्रदेश ने देश के भीतरी इलाकों तथा केंद्र के कारोबारों के साथ गरीबी उन्मूलन सहयोग समझौतों पर हस्ताक्षर किये।

- Advertisement -

सभा में तिब्बत स्वायत्त प्रदेश की पार्टी कमेटी के सचिव वू ईंग च्ये ने कहा कि तिब्बत में विकास का असंतुलन होने की समस्या अभी भी मौजूद है। उच्च गुणवत्ता वाले गरीबी उन्मूलन लक्ष्य साकार करने के लिए पूरे प्रदेश को कठोर संघर्ष करना चाहिये। तिब्बत के गरीबी उन्मूलन कार्यालय से प्राप्त खबर के अनुसार 312 परियोजनाओं में बुनियादी उपकरण, शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगारी, उपभोग और विज्ञान व तकनीक के मुद्दे शामिल हैं।

ल्हासा शहर को छोड़रकर शिगात्से, शाननान, न्यिंग-ची और नाछू आदि शहरों में भी कुछ परियोजनाएं लागू की जाएंगी। गरीबी उन्मूलन कार्य शुरू करने से अभी तक केंद्र सरकार वित्त, कर-वसूली, पूंजी और मुद्दे आदि के संदर्भ में तिब्बत को अधिमान्य नीतियां दी हैं। इधर के सालों में केंद्र और दूसरे प्रांतों ने भी तिब्बत की सहायता में भारी निवेश किया। वर्ष 2016 से बाहर की सहायता से तिब्बत में कुल 1696 परियोजनाएं समाप्त की गयी हैं और पूंजी निवेश की मात्रा 16.2 अरब युआन तक रही है।

( साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग )

— आईएएनएस

- Advertisement -

Latest article

एकता कपूर ने सुशांत के लिए कहा : टूटता हुआ तारा देख मांगेंगे विश

मुंबई, 14 जुलाई (आईएएनएस)। एकता कपूर ने मंगलवार को दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के लिए एक भावात्मक नोट साझा किया। आज से ठीक...

देशभर में 14 जुलाई तक औसत 11 फीसदी ज्यादा हुई बारिश : आईएमडी

नई दिल्ली, 14 जुलाई (आईएएनएस)। देश की राजधानी दिल्ली समेत उत्तर भारत में मानसून की बेरुखी जारी है, लेकिन पूरे देश में मानसूनी बारिश...

पाकिस्तान : शीर्ष जेयूडी सरगनाओं के बैंक खातों को बहाल करने की रिपोर्ट से विवाद

इस्लामाबाद, 14 जुलाई (आईएएनएस)। एक मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि पाकिस्तान सरकार ने मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद समेत जमात-उद-दावा...

राजस्थान : वंशवाद की परम्परा से ग्रस्त है कांग्रेस पार्टी – केंद्रीय राज्य मंत्री अर्जुन राम मेघवाल

बीकानेर। केंद्रीय भारी उद्योग एवं एवं संसदीय कार्य राज्य मंत्री अर्जुन राम मेघवाल (Arjun Ram Meghwal)ने राजस्थान की ताजा परिस्थितियों पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त...

मुफ्त वितरण के लिए चने की कमी नहीं, दालों का भी पर्याप्त भंडार : नेफेड महानिदेशक

नई दिल्ली, 14 जुलाई (आईएएनएस)। देश में कृषि उत्पादों के सबसे बड़ा सहकारी विपणन संगठन-नेफेड के पास चना समेत तमाम दलहनों का पर्याप्त भंडार...