Thursday, July 9, 2020

चीन : सीपीसी सदस्यों की संख्या 9.19 करोड़ पहुंची

Must read

दिल्ली के रोहिणी में दूध, ब्रेड और जरूरी समानों की कमी

नई दिल्ली, 25 मार्च (आईएएनएस)। पूरे देश मे संपूर्ण लॉक डाउन का आज पहला दिन है। राजधानी दिल्ली में भी मंगलवार आधी रात से...

कोरोना से निपटने कोरोना टाइगर्स रिलीफ फोर्स स्थापित करेगा पाक

इस्लामाबाद, 28 मार्च (आईएएनएस)। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा कि उनकी सरकार ने कोरोना टाइगर्स रिलीफ फोर्स स्थापित करने का फैसला किया...

आयुष्मान, ताहिरा दिल्ली में महिला रैगपिकर्स की मदद के लिए आगे आए

मुंबई, 1 अप्रैल (आईएएनएस)। अभिनेता आयुष्मान खुराना और उनकी पत्नी, लेखिका व फिल्मकार ताहिरा कश्यप कोरोनावायरस के खिलाफ इस जंग के बीच दिल्ली में...

भारतीय टीम में नॉकआउट को लेकर विश्वास की कमी : गंभीर

नई दिल्ली, 13 जून, (आईएएनएस)। भारतीय टीम के पूर्व सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर को लगता है कि मौजूदा टीम में बड़े टूर्नामेंट्स में नॉकआउट...
Vishal Rohiwal
Vishal Rohiwal
विशाल रोहिवाल पिछले दस वर्ष से कंटेट राईटिंग व स्वतंत्र पत्रकार के रुप में काम कर रहें है। वर्तमान में हैलो राजस्थान की वेब टीम में सीनियर कंटेंट एडिटर के रुप में अपनी सेवांए दे रहें है।
- Advertisement -

बीजिंग, 30 जून (आईएएनएस)। 1 जुलाई को चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की स्थापना की 99वीं वर्षगांठ है। वर्ष 2019 के अंत तक सीपीसी सदस्यों की संख्या 9 करोड़ 19 लाख 14 हजार तक जा पहुंची है। नए चीन की स्थापना के बाद सीपीसी के नेतृत्व में चीनी लोगों ने विकास की बड़ी उपलब्धियां हासिल कीं। चीन का लक्ष्य है कि वर्ष 2020 में समग्र तौर पर खुशहाल समाज का निर्माण पूरा किया जाए।

अब कोविड-19 महामारी दुनिया भर में फैल रही है। महामारी की रोकथाम में सीपीसी की श्रेष्ठता दिखाई गई है। चीन के वुहान शहर में सबसे पहले कोविड-19 के मामले सामने आए। अचानक से फैली महामारी की स्थिति में, विशेषकर लॉकडॉउन के बाद वुहान में चिकित्सकों, चिकित्सा सामग्रियों और दैनिक आवश्यकताओं में कमी आई। इस समस्या का समाधान करने के लिए सीपीसी ने पूरे देश के संसाधन को इकट्ठा कर वुहान की सहायता की। इससे वुहान में महामारी की रोकथाम और नियंत्रण के लिए बेहतर आधार तैयार हुआ।

- Advertisement -

महामारी की रोकथाम में सीपीसी हमेशा से जनता की जान और स्वास्थ्य को प्राथमिकता देती रही है और नागरिकों पर निर्भर रहते हुए महामारी की रोकथाम करती है। सभी चीनी लोगों ने एक साथ वायरस के साथ लड़ाई की और अंतत: विजय पाई। अब चीन में जीवन और उत्पादन धीरे से बहाल हो रहा है। उद्देश्य है कि महामारी की वजह से हुआ नुकसान निम्न स्तर तक कम किया जाएगा। इससे सीपीसी का मजबूत नेतृत्व प्रतिबिंबित हुआ।

(साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)

— आईएएनएस

- Advertisement -

Latest article

बिहार में बाढ़ की आशंका को लेकर अलर्ट, बचाव के लिए होगा ड्रोन का उपयोग

पटना, 8 जुलाई (आईएएनएस)। बिहार में बाढ़ की आशंका को देखते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आपदा प्रबंधन विभाग को पूरी तरह अलर्ट रहने...

रीवा के सौर ऊर्जा संयंत्र से दिल्ली मेट्रो को मिलेगी बिजली

भोपाल, 8 जुलाई (आईएएनएस)। मध्य प्रदेश के रीवा जिले में स्थापित एशिया के सबसे बड़े सौर ऊर्जा संयंत्र रीवा अल्ट्रा मेगा सोलर प्रोजेक्ट की...

कानपुर मुठभेड़ पर बोले एडीजी प्रशांत, पुलिस की कार्रवाई बनेगी नज़ीर

लखनऊ 8 जुलाई (आईएएनएस)। कानपुर के चौबेपुर के बिकरू गांव मे उत्तर प्रदेश पुलिस के सीओ सहित आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद...

कभी कभी कड़वा घूंट पीकर करनी पड़ती है समाज सेवा : विजयवर्गीय

भोपाल/इंदौर 8 जुलाई (आईएएनएस)। भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कांग्रेस छोड़कर भाजपा में आए नेताओं के साथ काम करने का जिक्र करते...

पहले एलएसी तक पहुंचने में 14 दिन लगते थे, अब महज 1 दिन : लद्दाख स्काउट्स (आईएएनएस एक्सक्लूसिव)

लेह, 8 जुलाई (आईएएनएस)। वर्ष 1962 में जहां भारतीय सेना को वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) तक पहुंचने में 16 से 18 दिन का समय...