उप्र विधानसभा में भाजपा (BJP) के 37 प्रतिशत विधायक आपराधिक पृष्ठभूमि वाले

Must read

बीकानरे से सियालदाह दुरंतों एक्सप्रेस 24 फरवरी से

-श्याम मारू बीकानेर। बीकानेर से सियालदाह दुरंतो एक्सप्रेस (12259/12260 Sealdah – Bikaner - Sealdah Duronto Express) 24 फरवरी को रवाना होगी। इस ट्रेन के उद्घाटन...

सिद्धार्थ शुक्ला ने की बुजुर्ग प्रशंसक से मुलाकात

मुंबई, 23 फरवरी । बिग बॉस (Big Boss) 13 के विजेता सिद्धार्थ शुक्ला शो के फिनाले के बाद पहली बार रविवार को आम लोगों के बीच...

दिल्ली में फिर 72 रुपये हुआ पेट्रोल, डीजल भी महंगा

नई दिल्ली, 23 फरवरी । पेट्रोल के दाम में रविवार को लगातार दूसरे दिन वृद्धि हुई जिसके बाद देश की राजधानी दिल्ली में फिर...

गोवा में मिग-29के दुर्घटनाग्रस्त, पायलट सुरक्षित : भारतीय नौसेना

पणजी, 23 फरवरी । भारतीय नौसेना का मिग-29 के (MIG 29K)लड़ाकू विमान रविवार को प्रशिक्षण उड़ान के दौरान यहां दुर्घटनाग्रस्त हो गया। भारतीय नौसेना...
- Advertisement -

लखनऊ, 14 फरवरी । सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) (Supreme court) द्वारा राजनीतिक दलों से विधानसभा और लोकसभा चुनावों में अपने उम्मीदवारों के आपराधिक इतिहास को प्रकाशित करने के लिए कहने के साथ ही एक बार फिर से राजनीति के अपराधीकरण पर ध्यान केंद्रित हो गया है।

एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) के अनुसार, भाजपा (BJP) (BJP) आपराधिक इतिहास वाले 37 प्रतिशत विधायकों के साथ इस सूची में सबसे ऊपर है।

- Advertisement -

2017 में 17वीं विधानसभा में चुने गए कुल 403 में से 143 विधायकों का आपराधिक इतिहास है।

भाजपा (BJP) (BJP) ने 2017 में 312 सीटें जीती थीं, 114 ने घोषित किया था कि उन्हें आपराधिक मामलों का सामना करना पड़ा है और 83 के खिलाफ जघन्य अपराध के मामले दर्ज हो चुके थे।

समाजवादी पार्टी पिछले विधानसभा चुनावों में केवल 47 सीटें जीतने में सफल रही थी और नवनिर्वाचित सपा विधायकों में से 14 ने अपने हलफनामों में आपराधिक मामला दर्ज होने की बात स्वीकार की थी।

बहुजन समाज पार्टी के विधानसभा में 19 विधायक हैं, जिनमें से पांच की आपराधिक पृष्ठभूमि है।

- Advertisement -

सात विधायकों वाली कांग्रेस के केवल एक विधायक का आपराधिक इतिहास है।

उत्तर प्रदेश विधानसभा में तीन निर्दलीय विधायक हैं और तीनों पर गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं।

मुख्तार अंसारी, कुलदीप सेंगर और बृजेश सिंह जैसे उत्तर प्रदेश के कुछ विधायक फिलहाल जेल में हैं।

राजनीति में अपराधियों को शामिल करने की प्रवृत्ति 1980 के दशक में शुरू हुई जब पूर्वी उत्तर प्रदेश के दो माफिया डॉन – हरि शंकर तिवारी और वीरेंद्र प्रताप शाही ने चुनाव लड़ा और जीत हासिल की।

- Advertisement -

इसके बाद, सभी दलों ने उन अपराधियों को चुनावी मैदान में उतारना शुरू कर दिया जो चुनाव लड़ने के लिए पार्टी संगठनों पर निर्भर नहीं थे और उनके पास पर्याप्त धन और अपना रसूख था।

आज, यह लाइन धुंधली सी हो गई है, यह कहना मुश्किल हो गया है कि एक राजनेता अपराध में है या एक अपराधी राजनीति में है।

–आईएएनएस

- Advertisement -

Latest article

दक्षिण अफ्रीका में गिरफ्तार अंडरवर्ल्ड डॉन रवि पुजारी बेंगलुरू लाया गया

बेंगलुरू, 24 फरवरी । अंडरवर्ल्ड डॉन रवि पुजारी को दक्षिण अफ्रीका से बेंगलुरू के लिए लाया गया। डॉन को रविवार को दक्षिण अफ्रीका में...

ट्रंप के स्वागत के लिए पूरी तरह से तैयार है आगरा

आगरा, 24 फरवरी । अमेरिकी राष्ट्रपति (President of the United States) डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) के स्वागत के लिए ऐतिहासिक शहर आगरा पूरी तरह से तैयार है। ट्रंप की यात्रा के...

पेट्रोल, डीजल के भाव स्थिर, 3 फीसदी टूटा कच्चा तेल

नई दिल्ली, 24 फरवरी । पेट्रोल और डीजल के दाम में सोमवार को कोई बदलाव नहीं हुआ, लेकिन कच्चे तेल में करीब तीन फीसदी...

आगरा हवाईअड्डे पर योगी, आनंदीबेन पटेल करेंगे ट्रंप का स्वागत

आगरा, 24 फरवरी । उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री (UttarPradesh Chief minister) योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) और राज्यपाल आनंदीबेन पटेल सोमवार को यहां आगरा हवाईअड्डे पर अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड...

बीकानेर : बॉलीवुड अभिनेत्री सोनाक्षी सिन्हा ने शूटिंग शुरु की

@नवरतन सोनी बीकानेर। बॉलीवुड अभिनेत्री सोनाक्षी सिन्हा ने बीकानेर जैसलमेर राष्ट्रीय राजमार्ग पर सोमवार सुबह शूटिंग शुरु की। जिसमें वह पुलिस की वर्दी पहने बुलेट...