पीएलएफआई के 7 सदस्यों के खिलाफ अनुपूरक आरोप-पत्र दाखिल

Must read

प्रधानमंत्री कृषि फसल बीमा को स्वैच्छिक बनाने को कैबिनेट की मंजूरी

नई दिल्ली, 19 फरवरी । केंद्रीय मंत्रिमंडल ने बुधवार को प्रधानमंत्री कृषि बीमा योजना (पीएमएफबीवाई) (Pradhan Mantri Fasal Bima Yojana) को किसानों के लिए स्वैच्छिक बनाने का फैसला...

बॉलीवुड सिंगर संतोख सिंह के ‘मोनालिसा’ व ‘दिल्ली की जाटणी’ ने मचाई धूम

-सपना चौधरी के साथ ‘मौजां...’ व ‘5 साल...’  बटोर रहे हैं सुर्खियां  @गुरजंट धालीवाल  जयपुर. म्युजिक डायरेक्टर, गीतकार व बॉलीवुड सिंगर संतोख सिंह इन दिनों हाल ही...

वापसी करने को लेकर प्रतिबद्ध था : चिंग्लेसाना

भुवनेश्वर, 19 फरवरी । भारतीय पुरुष हॉकी टीम का एफआईएच प्रो लीग में बीते चार मैचों में मिडफील्ड का प्रदर्शन शानदार रहा है। टीम...

दिल्ली महिला आयोग प्रमुख स्वाति ने पति नवीन से लिया तलाक

नई दिल्ली, 19 फरवरी । दिल्ली महिला आयोग (डीसीडब्ल्यू) (Delhi commission for women (dcw))की प्रमुख स्वाति मालीवाल (Swati Maliwal)ने बुधवार को कहा कि उन्होंने...
- Advertisement -

नई दिल्ली, 15 फरवरी । राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने पीएलएफआई के सात सदस्यों के खिलाफ अनुपूरक आरोप-पत्र दाखिल की है। एजेंसी ने शनिवार को इस बात की जानकारी दी।

पीपुल्स लिबरेशन फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएलएफआई) एक प्रतिबंधित माओवादी संगठन है। विदेश निर्मित हथियारों और गोला-बारूद की बरामदगी के संबंध में एनआईए द्वारा आरोप-पत्र दाखिल किए गए हैं।

- Advertisement -

आतंकवाद रोधी जांच एजेंसी ने झारखंड के रांची में विशेष एनआईए अदालत में शुक्रवार को सात आरोपियों के खिलाफ पहला अनुपूरक आरोप-पत्र दाखिल किया।

गुलाब कुमार यादव, रवि यादव, राकेश कुमार पासवान, संतोष यादव ए.के.ए. टाइगर, सुरेश यादव, परमजीत मोची और पवन कुमार यादव के खिलाफ आरोप-पत्र दाखिल किया गया है। पवन झारखंड के लातेहार का रहने वाला है, जबकि अन्य सभी चतरा जिले के निवासी हैं।

एनआईए ने कहा कि उन पर भारतीय दंड संहिता, गैरकानूनी गतिविधियां रोकथाम अधिनियम और आपराधिक कानून संशोधन अधिनियम की कई धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है।

दिल्ली में एनआईए के एक प्रवक्ता ने कहा कि जांच के दौरान इस बात का खुलासा हुआ कि सातों आरोपी पीएलएफआई के सदस्य हैं। वे सरकारी विकास परियोजनाओं और ट्रांसपोर्टरों के ठेकेदारों से धमकी देकर वसूली किया करते थे।

- Advertisement -

एनआईए अधिकारी ने दावा किया कि उनसे वसूली गई रंगदारी का इस्तेमाल न केवल आतंकी गतिविधियों के लिए किया गया था, बल्कि अचल संपत्तियों के अधिग्रहण के लिए भी इस धन का इस्तेमाल हुआ।

अधिकारी ने आगे कहा, आरोप-पत्र में नामजद छह आरोपियों को पहले ही गिरफ्तार कर लिया गया है और वे अभी न्यायिक हिरासत में हैं, जबकि एक आरोपी मोची अभी भी फरार है।

–आईएएनएस

- Advertisement -

Latest article

बिहार : प्रधानमंत्री के लिट्टी-चोखा खाने को विपक्ष ने चुनाव से जोड़कर किया कटाक्ष

पटना, 20 फरवरी । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) द्वारा बुधवार को दिल्ली में चल रहे हुनर हाट में बिहारी व्यंजन लिट्टी चोखा का स्वाद लिए...

जर्मनी : गोलीबारी में 11 लोगों की मौत, संदिग्ध का मिला शव (लीड-1)

बर्लिन, 20 फरवरी । जर्मनी के शहर हानाऊ में दो स्थानों में हुई गोलीबारी की अलग-अलग घटनाओं में कम से कम 11 लोगों की...

ईपीएल : मैनचेस्टर सिटी ने वेस्ट हैम को दी मात

मैनचेस्टर, 20 फरवरी । यूईएफए द्वारा लगाए गए दो साल के बैन का मैनचस्टर सिटी पर किसी तरह का असर नहीं दिखा और टीम...

राष्ट्रीय स्तर के हॉकी खिलाड़ी की गोली मारकर हत्या

चंडीगढ़, 20 फरवरी । राष्ट्रीय स्तर के हॉकी खिलाड़ी और उनके दोस्त की यहां बुधवार को पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के गृहनगर पटियाला...

आईफा अवार्ड (International Indian Film Academy Awards) के नाम पर 1 करोड़ की धोखाधड़ी करने वाला व्यक्ति गिरफ्तार

इंदौर, 20 फरवरी । मध्य प्रदेश के इंदौर में इस वर्ष मार्च के महीने में होने वाले आईफा आवार्ड के नाम पर एक करोड़...