गोवा में कोई आतंकी खतरा नहीं, धारा 144 लगाना सामान्य प्रक्रिया : अधिकारी

Must read

लॉकडाउन से बोर होकर उर्वशी ने डाली अपनी एक नई तस्वीर

मुंबई, 4 अप्रैल (आईएएनएस)। अभिनेत्री उर्वशी रौतेला (Urvashi Rautela)आजकल कोविड-19 को फैलने से रोकने के चलते देशभर में बुलाए गए लॉकडाउन में घर पर...

अब माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने विद्यार्थियेां के लिए जारी किया ऑनलाइन कंटेंट

जयपुर। देशभर में लाॅकडाउन के दौरान विद्यार्थियेां को समय पर पढ़ाई से जोड़ा जा सके इसके लिए आनलाइन कक्षाएं लगाई जा रही है तो...

वेब सीरीज के लिए अपनी डायट पर मेहनत कर रही हैं लिजा मलिक

मुंबई, 3 अप्रैल (आईएएनएस)। अभिनेत्री लिजा मलिक अपनी वेब सीरीज हू इज योर डैडी? में अपने किरदार के लिए भिन्न डायट चार्ट को फॉलो...

चूरू : कर्फ़्यू के दौरान डोर टू डोर सामान उपलब्ध करा रही मोबाइल वैन

चूरू। जिले के चूरू नगरीय क्षेत्र में धारा 144 अंतर्गत लगाए गए कर्फ़्यू के दौरान आमजन को चूरू सहकारी उपभोक्ता होलसेल भंडार की मोबाइल...
- Advertisement -

पणजी, 15 फरवरी (आईएएनएस)। गोवा में इस सप्ताह की शुरुआत में धारा 144 सीआरपीसी के तहत निषेधाज्ञा के आदेशों पर विपक्ष और पर्यटन उद्योग से जुड़े लोगों द्वारा बवाल मचाने के बाद उत्तर गोवा जिला प्रशासन ने शनिवार को स्पष्ट किया कि आदेश का एलान सामान्य प्रक्रिया है। प्रशासन ने इससे नहीं घबराने की सलाह दी है।

उत्तर गोवा की डीएम आर. मेनका ने शनिवार को स्पष्टीकरण में कहा, आम जनता को नहीं घबराने की सलाह दी जाती है, क्योंकि ये आदेश पूर्व में भी सामान्य तैयारियों के तहत पूरे राज्य के लिए दोनों जिला अधिकारियों (गोवा में दो प्रशासनिक जिले हैं) जारी किए गए थे।

- Advertisement -

उन्होंने यह भी कहा, यह आदेश चार से अधिक लोगों के एकत्र होने को नहीं रोकता है, जैसा कि कहा जा रहा है। पर्यटकों, कार्निवाल, शिग्मो और अन्य समारोहों पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। कार्निवाल और शिग्मो क्रमश: दो प्रमुख पारंपरिक कैथोलिक और हिंदू पर्व हैं।

इस सप्ताह के शुरू में 60 दिनों के लिए धारा 144 लागू होने के बाद, विपक्ष ने गोवा सरकार पर धारा 144 के लंबे समय तक लागू होने से तटीय राज्य में कश्मीर जैसी स्थिति बनाने का आरोप लगाया था।

उत्तर गोवा जिला प्रशासन द्वारा इस सप्ताह की शुरुआत में जारी आदेश में कहा गया था कि पश्चिमी तट के आसपास संभावित आतंकी खतरों और असामाजिक तत्वों द्वारा अपराध करने की आशंका के मद्देनजर निषेधात्मक प्रावधानों को लागू किया गया है।

पर्यटन उद्योग के हितधारकों ने भी निषेधात्मक आदेश को लागू करने की आलोचना यह कहते हुए की थी कि इस कदम ने गोवा के भीतर पर्यटकों के बीच दहशत पैदा कर दी है। गोवा का पारंपरिक पर्यटन सीजन अक्टूबर से मार्च तक रहता है।

- Advertisement -

मेनका ने शनिवार को अपने स्पष्टीकरण में यह भी कहा कि निरोधात्मक आदेश उत्तर गोवा प्रशासन द्वारा किराएदार सत्यापन अभियान चलाने से पहले केवल एहतियाती कदम के रूप में जारी किए गए।

–आईएएनएस

- Advertisement -

Latest article

थरूर ने ट्रंप के बयान की निंदा की

नई दिल्ली, 7 अप्रैल (आईएएनएस)। मलेरिया की दवा हाइड्रोक्सीक्लोरोक्विन के अमेरिका निर्यात को लेकर विवाद बढ़ता ही जा रहा है। इस मुद्दे पर कांग्रेस...

न्यूयॉर्क की सड़कों पर दिखा सारा का मस्ती भरा अंदाज

मुंबई, 7 अप्रैल (आईएएनएस)। कोरोवायरस के प्रभाव को रोकने के चलते बुलाए गए लॉकडाउन के इन दिनों में बॉलीवुड अभिनेत्री सारा अली खान आजकल...

श्रीनगर के एक और घनी आबादी वाला इलाका रेड जोन घोषित

श्रीनगर, 7 अप्रैल (आईएएनएस)। अधिकारियों ने मंगलवार को श्रीनगर शहर की घनी आबादी वाले ईदगाह इलाके को रेड जोन घोषित कर दिया।ईदगाह इलाके से...

अफ्रीका में कोविड-19 के खिलाफ टीके का परीक्षण नहीं किया जाएगा : डब्ल्यूएचओ

जेनेवा, 7 अप्रैल (आईएएनएस)। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के महानिदेशक ट्रेडोस अदनोम घेब्रेयसस ने कहा कि अफ्रीका कोविड-19 महामीर के संक्रमण के खिलाफ किसी...

कोहली के व्यवहार ने टीम बनाने में मदद की : गावस्कर

नई दिल्ली, 7 अप्रैल (आईएएनएस)। भारतीय क्रिकेट के दिग्गज बल्लेबाजों में शुमार सुनील गावस्कर ने कहा है कि पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी और...