मप्र : संघ का चेहरा हैं नए प्रदेश भाजपा (BJP) अध्यक्ष वी.डी. शर्मा

Must read

बीकानेर : बॉलीवुड अभिनेत्री सोनाक्षी सिन्हा ने शूटिंग शुरु की

@नवरतन सोनी बीकानेर। बॉलीवुड अभिनेत्री सोनाक्षी सिन्हा ने बीकानेर जैसलमेर राष्ट्रीय राजमार्ग पर शूटिंग शुरु की। जिसमें वह ब्लैक कलर के कपड़े पहने बुलेट मेाटरसाइकिल...

भारतीयों के साथ होने को लेकर उत्सुक हूं : ट्रंप

न्यूयॉर्क, 24 फरवरी । अमेरिकी राष्ट्रपति (President of the United States) डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने कहा है कि वह भारत के लोगों के साथ होने को लेकर उत्सुक हैं। वे...

अमेरिकी राष्ट्रपति (President of the United States) के खाने में होगा गुजरात का विशेष व्यजंन

अहमदाबाद, 24 फरवरी । अमेरिकी राष्ट्रपति (President of the United States) डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) अपनी पत्नी मेलानिया के भारत आज पहुंच रहे हैं। राष्ट्रपति ट्रंप गुजरात के अहमदाबाद में लैंड...

अमेरिका भारत को सबसे आधुनिक हथियार देने को तैयार : ट्रंप

अहमदाबाद, 24 फरवरी । मोटेरा स्टेडियम (Motera Stadium) में अमेरिकी राष्ट्रपति (President of the United States) डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने कहा कि अमेरिका भारत को सबसे परिष्कृत (आधुनिक) हथियारों की आपूर्ति करने...
- Advertisement -

भोपाल, 15 फरवरी । भारतीय जनता पार्टी (Bharatiya Janata Party) (Bharatiya Janata Party) (भाजपा (BJP) (BJP)) ने लंबी जद्दोजहद और खींचतान के बाद मध्य प्रदेश में पार्टी इकाई प्रमुख के रूप में सांसद वी.डी. शर्मा की ताजपोशी कर दी है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) (RSS) (RSS) के रास्ते से पार्टी में आए शर्मा की इस नियुक्ति ने एक बात साफ कर दी है कि आने वाले दिनों में राज्य में संघ के एजेंडे को लेकर पार्टी आगे बढ़ेगी। शर्मा का भाजपा (BJP) (BJP) में सियासी सफर मुश्किल से सात साल का है।

चंबल इलाके के मुरैना से नाता रखने वाले वी.डी. शर्मा ने प्रारंभिक शिक्षा अपने गांव में ही हासिल की और उसके बाद कृषि में स्नातकोत्तर किया। वह अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) में 1986 में सक्रिय हुए, जहां वह 2013 तक रहे। इस दौरान राष्ट्रीय मंत्री, राष्ट्रीय महामंत्री, प्रदेश संगठन मंत्री जैसे पदों की जिम्मेदारी उन्होंने संभाली। वर्ष 2013 मंे उन्होंने भाजपा (BJP) (BJP) की सदस्यता ली।

- Advertisement -

शर्मा का बीते सात साल का सियासी सफर बड़ा दिलचस्प रहा। भाजपा (BJP) (BJP) की प्रदेश इकाई में वह वर्ष 2016 से प्रदेश महामंत्री बने। इसके अलावा उन्हें झारखंड की छह लोकसभा सीटों का प्रभारी बनाया गया। दिल्ली, बिहार, असम आदि प्रदेश के विधानसभा चुनाव में कार्य संचालन एवं प्रबंधन की जिम्मेदारी उन्हें दी गई। नेहरू युवा केंद्र के वह उपाध्यक्ष रहे हैं।

पिछले लोकसभा चुनाव में शर्मा को उम्मीदवार बनाने की बात आई तो तमाम दिग्गज नेताओं ने उनका खुलकर विरोध किया। विदिशा, भोपाल, मुरैना, ग्वालियर से विरोध के चलते उन्हें उम्मीदवार नहीं बनाया गया। संघ का दवाब होने पर शर्मा को खजुराहो से उम्मीदवार बनाना ही पड़ा और वहां से उनके खाते में जीत आई। शर्मा की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) (Narendra Modi) और गृहमंत्री अमित शाह से नजदीकी किसी से छिपी नहीं है।

भाजपा (BJP) (BJP) के सूत्रों का कहना है कि शर्मा को अध्यक्ष बनाए जाने को लेकर तमाम बड़े नेता विरोध कर रहे थे, मगर संघ के वीटो के आगे किसी की नहीं चली। शर्मा की जहां संघ प्रमुख से नजदीकी है, तो वहीं वह पार्टी के प्रमुखों के बीच भी गहरी पैठ रखते हैं। संगठन क्षमता भी अन्य नेताओं के मुकाबले उनमें कहीं ज्यादा है। प्रदेश से लेकर राष्ट्रीय स्तर तक उन्होंने एबीवीपी में संगठनात्मक ढांचे को काफी मजबूत किया था, जिससे सभी वाकिफ हैं।

राजनीतिक विश्लेषक साजी थॉमस कहते हैं, वी.डी. शर्मा युवा हैं, उनकी उम्र अभी 50 के पार नहीं है। युवाओं के बीच गहरी पैठ है, इसलिए पार्टी और संघ उनका बेहतर उपयोग करना चाहते हैं। इसी के चलते तमाम विरोधों और दावेदार दिग्गज नेताओं को दरकिनार कर शर्मा को प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया है। राज्य में सक्रिय नेताओं में शर्मा उन कम नेताओं में हैं, जिन्हें संगठन और संघ दोनों का संरक्षण हासिल है। वहीं बड़े नेताओं के बीच अपने कौशल को दिखाना शर्मा के लिए बड़ी चुनौती होगी।

- Advertisement -

भाजपा (BJP) (BJP) और संघ दोनों ही नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के लिए जनसमर्थन जुटाने के प्रयास में लगे हुए हैं। राज्य की कमलनाथ सरकार लगातार इसका विरोध कर रही है, वहीं भाजपा (BJP) (BJP) इसके समर्थन में माहौल नहीं बना पाई है। पिछले दिनों संघ प्रमुख मोहन भागवत का राज्य का प्रवास हुआ तो उन्होंने सीएए के समर्थन के लिए अभियान चलाने पर जोर दिया। अब संगठन और संघ दोनों ही शर्मा के सहारे अपने अभियान को तेजी से आगे बढ़ा सकते हैं।

राज्य में पार्टी के तीनों प्रमुख पद संगठन महामंत्री सुहास भगत, प्रदेश प्रभारी डॉ. विनय सहस्त्रबुद्धे और प्रदेश अध्यक्ष शर्मा ऐसे नेता हैं, जिनकी कार्यशली संघ की है। लिहाजा इस बात की संभावना बढ़ गई है कि राज्य में अब भाजपा (BJP) (BJP) संघ के एजेंडे को आगे बढ़ाने का काम करेगी, जिससे पार्टी एक अरसे से दूर चल रही थी।

भाजपा (BJP) (BJP) राज्य में डेढ़ दशक बाद सत्ता से बाहर हुई है। विधानसभा के उपचुनाव में भी उसे हार मिली। आने वाले समय में राज्य में दो स्थानों पर उपचुनाव होना है, वहीं नगरीय निकाय चुनाव नजदीक है। भाजपा (BJP) (BJP) को कांग्रेस की सरकार के खिलाफ आंदोलन खड़ा करने की जरूरत है। इस स्थिति में संगठन को एक बेहतर नेतृत्व की तलाश थी, उसी के चलते शर्मा पर दांव लगाया गया है।

–आईएएनएस

- Advertisement -

Latest article

मप्र : जयस ने आदिवासी वर्ग के लिए मांगी राज्यसभा सीट

भोपाल, 25 फरवरी । जय आदिवासी युवा संगठन (जयस) के संस्थापक और कांग्रेस विधायक डॉ. हीरालाल अलावा ने मध्यप्रदेश से राज्यसभा की एक सीट...

उप्र : मुख्यमंत्री ने 5 अधिकारियों के खिलाफ दिए जांच के आदेश

लखनऊ , 25 फरवरी । उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री (UttarPradesh Chief minister) योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने खनन कार्य में भ्रष्टाचार के आरोपी पांच अधिकारियों के विरुद्ध जांच के...

दिल्ली : उपद्रवियों ने दागीं गोलियां, दुकानें लूटीं, वाहन जलाए

नई दिल्ली, 25 फरवरी । मौजपुर के समीप कबीर नगर इलाके में मंगलवार सुबह जमकर हिंसा हुई। यहां हिंसक तत्वों ने कई राउंड गोलियां...

देखना चाहता हूं, कौन सचिन के रनों के पहाड़ को पार करेगा : इंजमाम

लाहौर, 25 फरवरी । पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेट कप्तान इंजमाम उल हक ने कहा है कि उन्हें इंतजार है कि अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में सबसे...

कमल नाथ सरकार को वादे पूरा करने को मजबूर कर देगी भाजपा (BJP) : उमा

भोपाल, 25 फरवरी । मध्यप्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री व भाजपा (BJP) की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष उमा भारती ने प्रदेश की कांग्रेस सरकार पर वादे पूरे न...