नागरिकता कानून से किसी को डरने की जरूरत नहीं : उद्धव

Must read

लॉकडाउन से बोर होकर उर्वशी ने डाली अपनी एक नई तस्वीर

मुंबई, 4 अप्रैल (आईएएनएस)। अभिनेत्री उर्वशी रौतेला (Urvashi Rautela)आजकल कोविड-19 को फैलने से रोकने के चलते देशभर में बुलाए गए लॉकडाउन में घर पर...

अब माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने विद्यार्थियेां के लिए जारी किया ऑनलाइन कंटेंट

जयपुर। देशभर में लाॅकडाउन के दौरान विद्यार्थियेां को समय पर पढ़ाई से जोड़ा जा सके इसके लिए आनलाइन कक्षाएं लगाई जा रही है तो...

वेब सीरीज के लिए अपनी डायट पर मेहनत कर रही हैं लिजा मलिक

मुंबई, 3 अप्रैल (आईएएनएस)। अभिनेत्री लिजा मलिक अपनी वेब सीरीज हू इज योर डैडी? में अपने किरदार के लिए भिन्न डायट चार्ट को फॉलो...

चूरू : कर्फ़्यू के दौरान डोर टू डोर सामान उपलब्ध करा रही मोबाइल वैन

चूरू। जिले के चूरू नगरीय क्षेत्र में धारा 144 अंतर्गत लगाए गए कर्फ़्यू के दौरान आमजन को चूरू सहकारी उपभोक्ता होलसेल भंडार की मोबाइल...
- Advertisement -

नई दिल्ली, 21 फरवरी (आईएएनएस)। दिल्ली की यात्रा पर आये महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे शुक्रवार को राजनीतिक संतुलन साधते नजर आए। प्रधानमंत्री से मुलाकात के बाद अपने सहयोगी दलों कांग्रेस-एनसीपी को झटका देते हुए उद्धव ने दो टूक कहा कि नागरिकता संशोधन कानून से किसी को डरने की जरूरत नहीं है।

उन्होंने कहा कि सीएए पर मुसलमानों को डराया जा रहा है। पीएम मोदी के हवाले से उद्धव ने यह भी कहा कि एनआरसी असम के अलावा पूरे देश में कहीं लागू नहीं होने जा रहा है।

- Advertisement -

शिवसेना प्रमुख ने यह भी साफ कर दिया कि महाराष्ट्र में एनपीआर की प्रक्रिया को उनकी सरकार आगे बढ़ाएगी। उनका बयान इसलिए अहम है क्योंकि प्रधानमंत्री से मिलने के बाद उन्होंने कांग्रेस की कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गांधी से भी मुलाकात की। माना जा रहा है कि वहां भी कांग्रेस के रुख के उलट उन्होंने एनपीआर पर आगे बढ़ने की बात कही।

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री बनने के बाद पहली बार दिल्ली आए उद्धव ठाकरे का बयान शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस के गठबंधन में तनाव और बढ़ा सकता है। मोदी से मुलाकात के बाद उद्धव ठाकरे ने पत्रकारों से कहा कि प्रधानमंत्री मोदी से सीएए-एनआरसी और एनपीआर को लेकर मेरी बातचीत हुई। इस बातचीत में बनी समझ के आधार पर मेरा मानना है कि सीएए को लेकर किसी को डरने की जरूरत नहीं है। यह कानून किसी को देश से निकालने का कानून नहीं है और न ही किसी को निकाला जाएगा।

उद्धव ने कहा कि यह सही है कि पड़ोसी देशों में उत्पीड़न के शिकार जो नागरिक हैं वे हिन्दू हैं और सीएए उन्हीं को नागरिकता देने का कानून है।

उद्धव ने बताया कि पीएम ने कहा कि पूरे देश में एनआरसी नहीं होने जा रहा है। केवल असम में एनआरसी है और इसकी वजह सबको मालूम है। एनपीआर लागू करने पर कांग्रेस-एनसीपी के एतराज से जुड़े सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि हर दस साल में जनगणना होती है और एनपीआर इसका हिस्सा है। एनपीआर किसी को घर से बाहर निकालने के लिए नहीं है। हालांकि सहयोगी दलों की चिंता के मद्देनजर उद्धव ने यह जरूर कहा कि यदि एनपीआर में खतरनाक पहलू सामने आएंगे तो फिर विवाद हो सकता है और तब वे इसे देखेंगे।

- Advertisement -

— आईएएनएस

- Advertisement -

Latest article

जोरदार लिवाली से 2000 अंक उछला सेंसेक्स (लीड-2)

मुंबई, 7 अप्रैल (आईएएनएस)। मजबूत विदेशी संकेतों से मंगलवार को भारतीय शेयर बाजार में जबरदस्त उछाल आया। लिवाली जोर पकड़ने से सेंसेक्स 2000 अंक...

बॉलीवुड के जम्पिंग जैक जितेंद्र आज मना रहे जन्मदिन

मुंबई, 7 अप्रैल (आईएएनएस)। बॉलीवुड के दिग्गज कलाकार जितेंद्र का आज अपना 78वां जन्मदिन मना रहे हैं। वह अपने समय के एक मशहूर कलाकार...

स्वास्थ प्राथमिकता, खेल के बारे में बाद में सोच सकते हैं : गोपीचंद

नई दिल्ली, 7 अप्रैल (आईएएनएस)। भारतीय बैडमिंटन टीम के कोच पुलेला गोपीचंद की इस लॉकडाउन के दौरान अपने शिष्यों को सलाह है कि वे...

सेंसेक्स 1850 अंक चढ़ा, 500 अंक उछला निफ्टी (लीड-1)

मुंबई, 7 अप्रैल (आईएएनएस)। मजबूत विदेशी संकेतों से मंगलवार को भारतीय शेयर बाजार में जबरदस्त उछाल आया। जोरदार लिवाली आने से सेंसेक्स 1850 अंक...

अगले महीने लॉन्च होगा 13 इंच का फोन मैकबुक प्रो

सैन फ्रांसिस्को, 7 अप्रैल (आईएएनएस)। प्रौद्योगिकी क्षेत्र दिग्गज कंपनी एप्पल अगले महीने कोडनेम जे223 के साथ एक नया फोन 13-इंच मैकबुक प्रो लॉन्च करने...