Thursday, July 2, 2020

नीतीश ने एनआरसी, एनपीआर के बहाने 1 तीर से साधे कई निशाने

Must read

महिला कांग्रेस ने राशन वितरण लापरवाही के खिलाफ किया प्रदर्शन

बीकानेर। शहर जिला महिला कांग्रेस अध्यक्ष सुनीता गौड के नेतृत्व में जिला कलक्टर के नाम अतिरिक्त जिला कलक्टर (नगर) शैलेन्द्र देवडा को वार्ड नं....

मार्गोट रॉबी काम के प्रति बेहद प्रतिबद्ध : कैथी यान

लॉस एंजेलिस, 29 जनवरी (आईएएनएस)। निर्देशक कैथी यान का कहना है कि अभिनेत्री-निर्माता मार्गोट रॉबी वास्तव में स्मार्ट, अद्भुत और काम के प्रति बेहद...

कोविड-19 से लड़ने के लिए राज्य सरकार को 5 लाख की मदद देंगे डालमिया

कोलकाता, 25 मार्च (आईएएनएस)। कोरोना वायरस से लड़ाई में मदद करने के लिए बंगाल क्रिकेट संघ (सीएबी) के अध्यक्ष अभिषेक डालमिया राज्य सरकार को...

दिल्ली में अगले 2 दिनों में दोगुनी कोरोना जांच होगी

नई दिल्ली, 14 जून (आईएएनएस)। दिल्ली में कोरोनावायरस के बढ़ते मामलों के बीच केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा है कि अगले दो...
Vishal Rohiwal
Vishal Rohiwal
विशाल रोहिवाल पिछले दस वर्ष से कंटेट राईटिंग व स्वतंत्र पत्रकार के रुप में काम कर रहें है। वर्तमान में हैलो राजस्थान की वेब टीम में सीनियर कंटेंट एडिटर के रुप में अपनी सेवांए दे रहें है।
- Advertisement -

पटना, 26 फरवरी (आईएएनएस)। बिहार विधानसभा में राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) पर अपने मनमुताबिक प्रस्ताव को सर्वसम्मति से पास करवाकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने एकबार फिर खुद को कुशल राजनेता साबित करते हुए जद (यू) के एक तीर से कई निशाने साधे हैं।

बिहार की राजनीति को ठीक से समझने और कुशल रणनीतिकार माने जाने वाले नीतीश ने विधानसभा में विपक्ष के एनपीआर और एनआरसी के हंगामे के बीच ही तत्काल यह निर्णय लिया। एनपीआर पर बहस के दौरान ही मुख्यमंत्री ने सदन अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी से कहा कि इस पर एक प्रस्ताव पास किया जाना चाहिए। जद (यू) की सहयोगी पार्टी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) भी शायद इसके लिए तैयार नहीं थी।

- Advertisement -

वैसे, कहा यह भी जा रहा है कि नीतीश इस चुनावी वर्ष में राज्य में शांति चाहते हैं, जिससे बिहार में चल रहे विकास के कार्यो को गति मिल सके। इस कारण उन्होंने इन विवादों को समाप्त करने की कोशिश की और विपक्ष के मुद्दे की हवा निकाल दी।

राजनीतिक विश्लेषक सुरेंद्र किशोर कहते हैं, नीतीश की पहचान विकास को लेकर है। नीतीश राज्य में अमन-चैन कायम कर विकास पर काम करना चाहते हैं, इस कारण उन्होंने इन विवादास्पद मुद्दों पर पूर्णविराम लगा दिया।

उन्होंने कहा कि भाजपा की लाइन भी यही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कई बार कह चुके हैं कि एनआरसी पर अब तक कोई विचार नहीं किया गया है। सिर्फ सीएए लागू हुआ है।

मुख्यमंत्री ने इस निर्णय से ना केवल एक झटके में विपक्ष से एक बड़ा मुद्दा छीन लिया, बल्कि भाजपा को भी यह संदेश दे दिया कि जद (यू) किसी की पिछलग्गू नहीं, बल्कि अपनी नीतियों के साथ राजनीति करती है। नीतीश ने अपने इस निर्णय से ऐसे आलोचकों को भी जवाब देने की कोशिश की, जो लोग नीतीश पर भाजपा का पिछलग्गू बनने का आरोप लगाते रहते थे।

- Advertisement -

राजनीति के जानकार संतोष सिंह कहते हैं कि मुख्यमंत्री नीतीश ने चुनावी साल में यह मास्टर स्ट्रोक चला है। इससे ना केवल विपक्ष का मुद्दा हाथ से छीन लिया, बल्कि कम्युनिस्ट नेता कन्हैया कुमार के मुद्दे की भी हवा निकाल दी और भाजपा को भी आईना दिखा दिया।

उन्होंने कहा कि नीतीश ने भाजपा को भी इस कदम से संदेश देने की कोशिश की है कि जद (यू) अपनी नीतियों पर चलेगी। सिंह हालांकि यह भी कहते हैं कि चुनाव में जद (यू) को इससे कितना फायदा होगा, यह अभी कहना जल्दबाजी होगी।

सूत्र कहते हैं कि बिहार की राजनीति में बीते दो दशक से भाजपा, राजद और जद (यू) तीन मुख्य दल हैं। तीन में से दो जब भी साथ रहेंगे, सरकार उन्हीं की बनने की संभावना अधिक होगी। यही कारण है कि भाजपा भी इस मामले को लेकर ज्यादा आक्रामक मूड में नहीं है।

भाजपा नेता और उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पहले ही कहा था कि अभी देश में एनआरसी लागू करने की कोई चर्चा नहीं हुई है। अब विधानसभा ने सर्वसम्मति से राज्य सरकार का यह प्रस्ताव भी पारित कर दिया कि बिहार में एनआरसी लागू नहीं होगा और एनपीआर पर 2010 के प्रारूप पर ही लोगों से जानकारी मांगी जाएगी।

- Advertisement -

मुख्यमंत्री नीतीश ने हालांकि सदन में विपक्ष को आईना दिखा दिया है। उन्होंने स्पष्ट कहा कि सीएए के पक्ष में कांग्रेस वर्ष 2003 में थी और यह जनवरी 2004 में ही अधिसूचित हुआ है। इसके संशोधन के लिए बनी स्टैंडिंग कमिटी में लालू प्रसाद भी थे।

बहरहाल, नीतीश ने एनआरसी, एनपीआर के बहाने एक तीर से साधे कई निशाने साधे हैं, जो बिहार की राजनीति को इस चुनावी वर्ष में जरूर प्रभावित करेंगे।

–आईएएनएस

- Advertisement -

Latest article

खुद को नेपोटिज्म का शिकार बताने पर सैफ हुए ट्रोल

मुंबई, 2 जुलाई (आईएएनएस)। बॉलीवुड अभिनेता सैफ अली खान ने एक इंटरव्यू में खुद को भाई-भतीजावाद(नेपोटिज्म) का शिकार बताया और अपने इस बयान के...

सेंसेक्स 429 अंक चढ़कर 35844 पर बंद हुआ, निफ्टी 10552 पर (लीड-1)

मुंबई, 2 जुलाई (आईएएनएस)। घरेलू शेयर बाजार गुरुवार को लगातार दूसरे दिन गुलजार रहा। जोरदार लिवाली रहने से सेंसेक्स 400 अंकों से ज्यादा उछला...

बिहार चुनाव से पहले मंदिरों का दौरा करने में जुटे बीजेपी के राज्य प्रभारी भूपेंद्र यादव

नई दिल्ली/पटना, 2 जुलाई (आईएएनएस)। बिहार विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जुटी भारतीय जनता पार्टी एक्शन मोड में आ गई है। बीजेपी के राष्ट्रीय...

नम्रता शिरोडकर ने टू बिग बॉयज के साथ लॉकडाउन डायरी साझा की

हैदराबाद, 2 जुलाई (आईएएनएस)। अभिनेत्री नम्रता शिरोडकर ने अपने टू बिग बॉयज यानी अपने पति महेश बाबू और बेटे गौतम के साथ लॉकडाउन डायरी...

ईडन गार्डन्स के म्यूजिम में होंगे वीक्स

कोलकाता, 2 जुलाई (आईएएनएस)। बंगाल क्रिकेट संघ (सीएबी) ने वेस्टइंडीज के पूर्व बल्लेबाज एवरटन वीक्स के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए गुरुवार को...