मक्का से लौटे 37 लोगों ने मिटाया था क्वारंटाइन स्टैंप, महिला को कोरोना होने पर हुआ खुलासा

Must read

लॉकडाउन से बोर होकर उर्वशी ने डाली अपनी एक नई तस्वीर

मुंबई, 4 अप्रैल (आईएएनएस)। अभिनेत्री उर्वशी रौतेला (Urvashi Rautela)आजकल कोविड-19 को फैलने से रोकने के चलते देशभर में बुलाए गए लॉकडाउन में घर पर...

आधी रात तबलीगियों को दौड़ा ग्रामीणों ने नहीं घुसने दिया क्वारंटाइन सेंटर

फरीदाबाद, 3 अप्रैल (आईएएनएस)। कोरोना के बहाने साथ-साथ मौत लेकर घूमने के आरोपी तबलीगी चारों ओर से घिरते जा रहे हैं। देश के तकरीबन...

वेब सीरीज के लिए अपनी डायट पर मेहनत कर रही हैं लिजा मलिक

मुंबई, 3 अप्रैल (आईएएनएस)। अभिनेत्री लिजा मलिक अपनी वेब सीरीज हू इज योर डैडी? में अपने किरदार के लिए भिन्न डायट चार्ट को फॉलो...

चूरू : कर्फ़्यू के दौरान डोर टू डोर सामान उपलब्ध करा रही मोबाइल वैन

चूरू। जिले के चूरू नगरीय क्षेत्र में धारा 144 अंतर्गत लगाए गए कर्फ़्यू के दौरान आमजन को चूरू सहकारी उपभोक्ता होलसेल भंडार की मोबाइल...
- Advertisement -

लखनऊ, 25 मार्च(आईएएनएस)। मक्का से उमरा कर लौटे एक जत्थे में शामिल 37 लोगों ने जो किया, वह चौंका देने वाला है। हाथों पर लगा क्वारंटाइन स्टैंप पहले खास परफ्यूम से मिटाया और फिर चकमा देकर पहुंच गए अपने घर। मामला पीलीभीत का है। मामले का खुलासा तब हुआ जब जत्थे में शामिल एक महिला की तबीयत खराब हो गई। बाद में पता चला कि महिला तो कोरोना पॉजिटिव है। अब महिला का बेटा भी कोरोना पॉजिटिव पाया गया है।

पीलीभीत में अमरिया एक तहसील है। यहां के करीब आधे दर्जन गांवों से 37 लोग कुछ दिनों पहले उमरा करने गए थे। 25 लोग तो सिर्फ एक ही गांव हरार्पुर के थे। मक्का से मुंबई होते हुए बीते 19 मार्च को सभी घर वापस लौटे थे। मुंबई एयरपोर्ट पर सभी के हाथों पर क्वारंटाइन की मुहर लगा गई थी। मगर, साथ लाए विदेशी परफ्यूम से उन्होंने स्टैंप को इस कदर मिटा दिया कि किसी को पता न चले।

- Advertisement -

मुंबई से लखनऊ फ्लाइट पकड़ने पर फिर से जांच-पड़ताल में उलझने का डर था तो जत्थे में शामिल लोगों ने ट्रेन से आना उचित समझा। ट्रेन से लखनऊ पहुंचने के बाद सभी बस से पीलीभीत के गांवों में अपने घर लौटे। लौटने वाले दिन ही जत्थे में शामिल हरार्पुर की महिला की हालत बिगड़ गई तो उसे जिला अस्पताल ले जाया गया।

विदेश से आने के कारण चिकित्सकों को कोरोना का शक हुआ तो नमूना केजीएमयू लखनऊ भेजा गया। 22 मार्च को आई जांच रिपोर्ट से पता चला कि महिला को कोरोना है। महिला के परिवार के अन्य सदस्यों का भी टेस्ट हुआ। बाद में पता चला कि बेटे को भी कोरोना हुआ है। बेटा भी मां के साथ उमरा करने मक्का गया था।

जिले के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने आईएएनएस को बताया कि पूछताछ में पता चला कि जत्थे में शामिल लोगों ने हाथों पर लगे क्वारंटाइन का स्टैंप मिटा दिया था। ताकि लोगों को उनके संदिग्ध होने का पता न चले। महिला की तबीयत बिगड़ने के बाद खुलासा हुआ कि सभी कोरोना के संदिग्ध हैं। इसके बाद जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की टीम ने मक्का से लौटे सभी लोगों को पीलीभीत में बने क्वारंटाइन सेंटर पहुंचा दिया गया।

पुलिस सूत्रों का कहना है कि क्वारंटाइन स्टैंप मिटाने की इससे पहले भी कई शिकायतें सामने आ चुकी हैं। ऐसे में गृह मंत्रालय चुनाव आयोग की उस स्याही के जरिए अब क्वारंटाइन स्टैंप लगाने की कोशिश कर रहा है, जिससे कि कोई लाख कोशिशों के बाद भी मिटा न सके।

- Advertisement -

— आईएएनएस

- Advertisement -

Latest article

लॉकडाउन : 1000 करोड़ रुपये के फसल बीमा दावों का भुगतान

नई दिल्ली, 5 अप्रैल (आईएएनएस)। कोरोनावायरस के प्रकोप की रोकथाम के मकसद से सरकार द्वारा घोषित देशव्यापी लॉकडाउन के दौरान देश के विभिन्न राज्यों...

प्रधानमंत्री मोदी के आह्वान पर रविवार रात देश ने मनाया दीपावली

नई दिल्ली, 5 अप्रैल (आईएएनएस)। कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील के बाद रविवार रात पूरा देश एक साथ...

प्रधानमंत्री की अपील पर मंत्री तोमर ने सपरिवार जलाए दीये

नई दिल्ली, 5 अप्रैल (आईएएनएस)। कोरोनावायरस के खिलाफ छेड़ी गई जंग में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील पर रविवार की रात ठीक नौ बजे...

कोरोना के खिलाफ लड़ाई में देशवासियों ने दिखाई एक जुटता : पासवान

नई दिल्ली, 5 अप्रैल (आईएएनएस)। केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने कहा कि रविवार को ठीक नौ बजे 130 करोड़ देशवासियों ने कोरोना रूपी अंधकार...

देशभर में 9 मिनट जलाए गए दीये

नई दिल्ली, 5 अप्रैल (आईएएनएस)। कोराना महामारी के खिलाफ लड़ाई में एकजुटता दिखाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर रविवार को रात...