रेल डिब्बे बनाए जा सकते हैं आइसोलेशन वार्ड

Must read

लॉकडाउन से बोर होकर उर्वशी ने डाली अपनी एक नई तस्वीर

मुंबई, 4 अप्रैल (आईएएनएस)। अभिनेत्री उर्वशी रौतेला (Urvashi Rautela)आजकल कोविड-19 को फैलने से रोकने के चलते देशभर में बुलाए गए लॉकडाउन में घर पर...

आधी रात तबलीगियों को दौड़ा ग्रामीणों ने नहीं घुसने दिया क्वारंटाइन सेंटर

फरीदाबाद, 3 अप्रैल (आईएएनएस)। कोरोना के बहाने साथ-साथ मौत लेकर घूमने के आरोपी तबलीगी चारों ओर से घिरते जा रहे हैं। देश के तकरीबन...

वेब सीरीज के लिए अपनी डायट पर मेहनत कर रही हैं लिजा मलिक

मुंबई, 3 अप्रैल (आईएएनएस)। अभिनेत्री लिजा मलिक अपनी वेब सीरीज हू इज योर डैडी? में अपने किरदार के लिए भिन्न डायट चार्ट को फॉलो...

चूरू : कर्फ़्यू के दौरान डोर टू डोर सामान उपलब्ध करा रही मोबाइल वैन

चूरू। जिले के चूरू नगरीय क्षेत्र में धारा 144 अंतर्गत लगाए गए कर्फ़्यू के दौरान आमजन को चूरू सहकारी उपभोक्ता होलसेल भंडार की मोबाइल...
- Advertisement -

नई दिल्ली, 26 मार्च (आईएएनएस)। कोरोनावायरस से लड़ने के लिए केंद्र सरकार की सभी विभाग कुछ न कुछ योजनाएं सामने लेकर आ रही हैं। ऐसे में अब खबर है कि भारतीय रेल कोरोनावायरस संक्रमितों को आइसोलेशन में रखने के लिए यात्री डिब्बों और केबिन को देने पर विचार कर रहा है।

ध्यान रहे कि भारतीय रेलवे रोजाना 13,523 यात्री रेलगाड़ियों का परिचालन करता है, लेकिन कोरोना वायरस के चलते सभी यात्री सेवाएं 14 अप्रैल रद्द है ।

- Advertisement -

सूत्रों के मुताबिक खाली डिब्बों और केबिन को कोरोना वायरस के मरीजों के लिए इस्तेमाल करने के मुद्दे पर रेल मंत्री पीयूष गोयल ए रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वीके यादव की सभी जोन्स के महाप्रबंधकों और डिविजन रेलवे के प्रबंधकों के साथ बुधवार को बात हुई थी। बैठक में शौचालय युक्त डिब्बों को आइसोलशन वार्ड के तौर पर इस्तेमाल के प्रस्ताव पर चर्चा की गई ।

बताया गया है कि यह विचार मंत्रिमंडल की बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा यह कहे जाने के बाद आया है । पीएम मोदी ने बुधवार को कैबिनेट की बैठक में कोरोना वायरस की वजह से चिकित्सा सुविधाओं के लिए इनोवेटिव उपायों पर काम करने को कहा था।

रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वीके यादव ने बताया है कि इन डिब्बों और केबिन का इस्तेमाल चलते फिरते अस्पताल के रूप में किया जा सकता है, जिसमें परामर्श कक्ष, मेडिकल स्टोर, गहन चिकित्सा कक्ष और रसोईयान की सुविधा होगी।

रेलवे के इन डिब्बों को उन इलाकों में भेजा जा सकता है, जिन इलाकों में कोरोना का ज्यादा प्रकोप हो और जहां मेडिकल सुविधा ज्यादा नही हैं। ऐसे में रेलवे का विस्तृत नेटवर्क काम आ सकता है।

- Advertisement -

–आईएएनएस

- Advertisement -

Latest article

करीब 28000 प्रवासी राहत शिविरों में 12.5 लाख लोगों को आश्रय : एमएचए

नई दिल्ली, 5 अप्रैल (आईएएनएस)। गृह मंत्रालय ने रविवार को कहा कि कोरोनावायरस के संकट के बीच पूरे भारत में करीब 28,000 प्रवासी राहत...

कोविड-19 राहत में योगदान देने के लिए आईओए ने एनएसएफ-एसओए को दिया धन्यवाद

नई दिल्ली, 5 अप्रैल (आईएएनएस)। भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) ने कोरोनावायरस के खिलाफ लड़ाई में अपना वित्तीय योगदान देने के लिए राष्ट्रीय खेल महासंघों...

यह हैदराबाद, औरंगाबाद का अपमान है : ओवैसी

हैदराबाद, 5 अप्रैल (आईएएनएस)। ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि कोरोनावायरस संक्रमण को लेकर राजनीतिक पार्टियों के नेताओं के...

नेटफ्लिक्स करेगा टाइगर किंग का अतिरिक्त एपिसोड रिलीज

लॉस एंजेलिस, 5 अप्रैल (आईएएनएस)। नेटफ्लिक्स अगले सप्ताह टाइगर किंग का एक अतिरिक्त एपिसोड जारी करेगा। इसकी जानकारी चिड़ियाघर के मालिक जेफ लोवे ने...

आईसीएमआर ने अस्पतालों में रैपिड एंटीबॉडी टेस्ट के लिए दिशानिर्देश जारी किए

नई दिल्ली, 5 अप्रैल (आईएएनएस)। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) ने देश के कोरोनोवायरस हॉटस्पॉटों में इस महामारी के लक्षण वाले व्यक्तियों के...