यूपी से पैदल बिहार जा रहे 16 युवाओं को रेस्क्यू किया गया

Must read

लॉकडाउन से बोर होकर उर्वशी ने डाली अपनी एक नई तस्वीर

मुंबई, 4 अप्रैल (आईएएनएस)। अभिनेत्री उर्वशी रौतेला (Urvashi Rautela)आजकल कोविड-19 को फैलने से रोकने के चलते देशभर में बुलाए गए लॉकडाउन में घर पर...

चूरू : कर्फ़्यू के दौरान डोर टू डोर सामान उपलब्ध करा रही मोबाइल वैन

चूरू। जिले के चूरू नगरीय क्षेत्र में धारा 144 अंतर्गत लगाए गए कर्फ़्यू के दौरान आमजन को चूरू सहकारी उपभोक्ता होलसेल भंडार की मोबाइल...

अब माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने विद्यार्थियेां के लिए जारी किया ऑनलाइन कंटेंट

जयपुर। देशभर में लाॅकडाउन के दौरान विद्यार्थियेां को समय पर पढ़ाई से जोड़ा जा सके इसके लिए आनलाइन कक्षाएं लगाई जा रही है तो...

वेब सीरीज के लिए अपनी डायट पर मेहनत कर रही हैं लिजा मलिक

मुंबई, 3 अप्रैल (आईएएनएस)। अभिनेत्री लिजा मलिक अपनी वेब सीरीज हू इज योर डैडी? में अपने किरदार के लिए भिन्न डायट चार्ट को फॉलो...
- Advertisement -

चंदौली, 26 मार्च (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश पुलिस ने 16 ऐसे युवाओं को पकड़ा है, जो वाराणसी से समस्तीपुर तक पैदल जा रहे थे, इसके लिए वो रेलवे ट्रैक के साथ चल रहे थे।

युवाओं को ऐसा कदम लॉकडाउन के कारण उठाना पड़ा क्योंकि उनके पास घर जाने के लिए कोई परिवहन सुविधा नहीं थी।

- Advertisement -

वे केरल के कालीकट में काम करते हैँ और रेल सेवा बंद होने से पहले किसी तरह ट्रेन से झांसी तक पहुंच गए थे।

एक युवा ने पुलिस को बताया, झांसी से हमने ट्रक में लिफ्ट ली और वाराणसी तक पहुंचे लेकिन इसके बाद हमें कोई साधन नहीं मिला। ऐसे में पैदल चलने के सिवाय हमारे पास कोई विकल्प नहीं था।

ये लड़के जब कुचमन रेलवे स्टेशन पहुंचे तो यहां के पुलिस अधीक्षक हेमंत कुटियाल को इसकी जानकारी मिली और उन्होंने इन युवाओं को रेस्क्यू किया।

एक लड़के ने कहा कि हम रेलवे ट्रेक के बगल से इसलिए चल रहे थे, ताकि हम रास्ता न भटकें।

- Advertisement -

गुरुवार को पुलिस अधीक्षक ने विशेष अनुमति लेकर इनके लिए एक गाड़ी का इंतजाम किया और अब इन्हें इनके घर भेजा जा रहा है।

इसी तरह की एक अन्य घटना में मेरठ पुलिस ने एक श्रमिक को रेस्क्यू किया है जो अपनी पत्नी और 4 बच्चों के साथ भोजन की तलाश में पैदल चलकर जा रहे थे।

बच्चों सहित इस पूरे परिवार ने पिछले 48 घंटों से कुछ नहीं खाया था।

कंकेरखेरा के थाना अधिकारी बिजेंदर राणा ने कहा, पूरा परिवार बुरी हालत में था। लेकिन वो समय पर पहुंच गए। हमने उन्हें खाना दिया और कुछ पैसे भी दिए।

- Advertisement -

मजदूर इमरान अहमद ने कहा कि उन्हें समझ नहीं आ रहा है कि लॉकडाउन के बचे हुए समय वो कैसे निकालेंगे। उसने पुलिस को बताया कि उसकी सैंकड़ों श्रमिक जो कि ईंट भट्टी में काम कर रहे थे, वो सभी ऐसी ही हालत में हैं।

लखनऊ में पुलिस ने इंसानियत दिखाते हुए निशातगंज पुल के नीचे रह रहे बेघरों को खाने के पैकेट बांटे।

–आईएएनएस

- Advertisement -

Latest article

कोविड-19 के बढ़ते मामलों के कारण आबे कर सकते हैं आपातकाल की घोषणा

टोक्यो, 6 अप्रैल (आईएएनएस)। जापानी प्रधानमंत्री शिंजो आबे टोक्यो और अन्य प्रमुख शहरों में हाल ही में कोविड-19 मामलों की संख्या में आए उछाल...

आतिशबाजी के चलते राजधानी में हवा की गुणवत्ता को नुकसान

नई दिल्ली, 6 अप्रैल (आईएएनएस)। कोरोनावायरस के संक्रमण की रोकथाम के मददेनजर देशव्यापी लॉकडॉउन की घोषणा के बाद से देश की राजधानी दिल्ली में...

आतिशबाजी के चलते राजधानी में हवा की गुणवत्ता को नुकसान

नई दिल्ली, 6 अप्रैल (आईएएनएस)। कोरोनावायरस के संक्रमण की रोकथाम के मददेनजर देशव्यापी लॉकडॉउन की घोषणा के बाद से देश की राजधानी दिल्ली में...

अमेरिका में 16 लाख लोगों का हुआ कोविड-19 टेस्ट : ट्रंप

वॉशिंगटन, 6 अप्रैल (आईएएनएस)। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने दावा कर कहा कि देश में अब तक कुल 16 लाख (1.6 मिलियन) लोगों...

अंकिता लोखंडे का पड़ोसी कोरोना पॉजिटिव, पूरी सोसायटी हुई सील

मुंबई, 6 अप्रैल (आईएएनएस)। शहर के मलाड इलाके में एक आवासीय इमारत में एक व्यक्ति के कोविड-19 पॉजिटिव पाए जाने के बाद सोसायटी को...