बिहार के बाहर फंसे लोगों को दी जाएगी मदद, 100 करोड़ रुपये जारी : नीतीश

Must read

बीकानेर में कोरोना पॉजिटिव के 2 केस सामने आए, फड़ बाजार और रानीसर क्षेत्रों में कर्फ्यू

बीकानेर। कोरोना संक्रमण के चलते चल रहे लाॅकडाउन के दौरान की जा रही स्क्रीनिंग के चलते हुई जांच की शुक्रवार को आई रिर्पोट में...

बीकानेर : केन्द्रीय राज्यमंत्री अर्जुन राम मेघवाल के प्रयासों से पीबीएम हाॅस्पीटल को मिले 23.60 लाख रुपये

बीकानेर। कोरोना वायरस (Corona Virus) के संक्रमण की रोकथाम के लिए बीकानेर क्षेत्र में संसाधनों व हेल्थ एक्विपमेंट्स की कमी न हो इसके लिए स्थानीय सांसद...

अनंतनाग में आतंकियों ने की नागरिक की हत्या

श्रीनगर, 3 अप्रैल । कश्मीर के अनंतनाग जिले में आतंकवादियों ने एक नागरिक की गोली मारकर हत्या कर दी। पुलिस ने बुधवार को हुई...

भाजपा (BJP) नेता ने कहा- कालाधन से चल रहा तबलीगी जमात, मुखिया की संपत्ति जब्त करे सरकार

नई दिल्ली, 2 अप्रैल । दिल्ली के निजामुद्दीन में तबलीगी जमात के आयोजन में शामिल हुए कई सदस्यों के कोरोना का शिकार होने के बाद...
- Advertisement -

पटना, 26 मार्च । बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में गुरुवार को कोरोना संक्रमण रोकने तथा लॉकडाउन से उत्पन्न स्थिति पर एक उच्चस्तरीय बैठक हुई। बैठक में पटना तथा अन्य शहरों में रहने वाले दैनिक मजदूर और अन्य राज्यों के व्यक्ति जो लॉकडाउन के कारण फंसे हुए हैं, उनके रहने और भोजन की व्यवस्था करने का निर्णय लिया गया।

बैठक में मुख्यमंत्री ने निर्णय लिया कि तत्काल पटना तथा अन्य शहरों में रहने वाले रिक्शा चालक, दैनिक मजदूर और अन्य राज्यों के व्यक्ति जो लॉकडाउन के कारण फंसे हुए हैं, उनके रहने और भोजन की व्यवस्था की जाएगी।

- Advertisement -

मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है, बैठक में इसी तरह बिहार के लोग जो अन्य राज्यों में काम करते हैं और वे लॉकडाउन के कारण वहां फंसे हुए हैं, या रास्ते में हैं, उनके लिए भी सरकार स्थानिक आयुक्त, नई दिल्ली के माध्यम से संबंधित राज्य सरकारों या जिला प्रशासन से समन्वय स्थापित कर भोजन तथा रहने की व्यवस्था करेगी।

मुख्यमंत्री के निर्देश पर इस कार्य के लिए मुख्यमंत्री राहत कोष से आपदा प्रबंधन विभाग को 100 करोड़ रुपये की राशि जारी कर दी गई है।

बिहार में पटना तथा अन्य शहरों में ऐसे लोगों के लिए वहीं पर आपदा राहत केंद्र स्थापित किया जाएगा तथा इन जगहों पर व्यवस्था करने में सोशल डिस्टेंसिंग का भी ख्याल रखा जाएगा। आपदा राहत केंद्रों पर कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए चिकित्सक उपलब्ध रहेंगे।

मुख्यमंत्री ने बैठक के बाद कहा, सरकार कोरोना संक्रमण के कारण लोगों के फंसे होने की स्थिति को आपदा मान रही है और ऐसे लोगों की मदद उसी तरह की जाएगी जैसे अन्य आपदाओं में आपदा पीड़ितों की की जाती है।

- Advertisement -

उन्होंने कहा कि बिहार के निवासी बिहार के किसी शहर में या बिहार के बाहर जहां भी फंसे हों वहीं पर उनकी मदद की जाएगी तथा बिहार में जो अन्य राज्यों के लोग फंसे हैं, उनके लिए भी राज्य सरकार अपने स्तर से भोजन और रहने की व्यवस्था करेगी।

–आईएएनएस

- Advertisement -

Latest article

कोविड-19 : नोएडा के 4 होटलों में बनेंगे आइसोलेशन वार्ड

नोएडा, 3 अप्रैल । कोरोना वायरस (Corona Virus) के नोएडा में लगातार बढ़ते मामलों को देखते हुए जिला प्रशासन ने संक्रमित मरीजों को आइसोलेट करने के...

वुहान कोविड-19 का स्रोत नहीं है : अमेरिकी वैज्ञानिक

बीजिंग, 3 अप्रैल । अमेरिकी वैज्ञानिकों द्वारा हाल ही में जारी एक अध्ययन पेपर से जाहिर हुआ है कि कोविड-19 वायरस प्राकृतिक रूप से...

कोरोना के कहर से उबर नहीं पाया बाजार, 2 फीसदी टूटे सेंसेक्स, निफ्टी (राउंडअप)

मुंबई, 3 अप्रैल । कोरोना के कहर सेशेयर बाजार सप्ताह के आखिरी सत्र में भी नहीं उबर पाया और प्रमुख संवेदी सूचकांक सेंसक्स और...

एकजुट होकर कोरोना वायरस (Corona Virus) का मुकाबला सबसे महत्वपूर्ण : यूरोपीय संघ के अधिकारी

बीजिंग, 3 अप्रैल । हाल में चीन ने विदेशों को महामारी की रोकथाम के लिए चिकित्सा सामग्री दान में दी। कुछ पश्चिमी लोगों ने...

चीन ने 54 अफ्रीकी देशों के साथ तकनीकी सहयोग किया

बीजिंग, 3 अप्रैल । चीन ने 54 अफ्रीकी देशों के साथ तकनीकी सहयोग किया और उन्हें तकनीकी सहायता दी। दूसरी तरफ अफ्रीकी देशों में...