हजारों किलोमीटर दूर मोतिहारी के अपने घर जाने को रिक्शे पर निकले 5 परिवार

Must read

लॉकडाउन से बोर होकर उर्वशी ने डाली अपनी एक नई तस्वीर

मुंबई, 4 अप्रैल (आईएएनएस)। अभिनेत्री उर्वशी रौतेला (Urvashi Rautela)आजकल कोविड-19 को फैलने से रोकने के चलते देशभर में बुलाए गए लॉकडाउन में घर पर...

आधी रात तबलीगियों को दौड़ा ग्रामीणों ने नहीं घुसने दिया क्वारंटाइन सेंटर

फरीदाबाद, 3 अप्रैल (आईएएनएस)। कोरोना के बहाने साथ-साथ मौत लेकर घूमने के आरोपी तबलीगी चारों ओर से घिरते जा रहे हैं। देश के तकरीबन...

वेब सीरीज के लिए अपनी डायट पर मेहनत कर रही हैं लिजा मलिक

मुंबई, 3 अप्रैल (आईएएनएस)। अभिनेत्री लिजा मलिक अपनी वेब सीरीज हू इज योर डैडी? में अपने किरदार के लिए भिन्न डायट चार्ट को फॉलो...

चूरू : कर्फ़्यू के दौरान डोर टू डोर सामान उपलब्ध करा रही मोबाइल वैन

चूरू। जिले के चूरू नगरीय क्षेत्र में धारा 144 अंतर्गत लगाए गए कर्फ़्यू के दौरान आमजन को चूरू सहकारी उपभोक्ता होलसेल भंडार की मोबाइल...
- Advertisement -

नई दिल्ली, 26 मार्च (आईएएनएस)। देश में कोरोनावायरस संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए लॉकडाउन लागू कर दिया गया है, लेकिन इससे लाखों दिहाड़ी मजदूर, रिक्शा चालक, गरीबों की जिंदगी मुश्किलों से घिर गई है।

हालांकि सरकार की तरफ से मुश्किलों का हल खोजेंगे की हर कोशिश की जा रही है। बावजूद इसके कुछ लोग परेशानियों का हल ढूढ़ने में नाकामयाब होने के बाद अपने अपने घरों की तरफ चल पड़े हैं। पूरे देश मे लॉक डाउन होने की वजह से परिवहन व्यवस्था पूरी तरह से बंद है। ऐसे में कुछ पैदल ही निकल पड़े हैं, तो कुछ अपने रिक्शा पर सवार होकर निकल पड़े हैं।

- Advertisement -

ऐसा ही एक परिवार बिहार के मोतिहारी जिले के हरेंद्र महतो का है। हरेंद्र पूरा कुनबा लेकर दिल्ली से मोतिहारी के लिए बुधवार को ही निकल पड़े हैं। उनके साथ पांच और परिवार हैं। तीन रिक्शों पर सवार हरेंद्र अपने परिवार के सदस्यों और कुनबे के साथ सामान लादकर गांव की तरफ चल पड़े हैं। पांच परिवारों की समूची गृहस्थी तीन रिक्शों पर सिमट गई है।

मोतिहारी से फोन पर हरेंद्र के भाई गिरिधारी ने बताया कि भैया दिल्ली में रिक्शा चलाते हैं, उनके पास रहने के लिए कोई जगह नहीं है। ऐसे में वो क्या करते, क्या खाते और क्या अपने परिवार को खिलाते। लिहाजा, उन्होंने घर वापसी का निर्णय लिया। उनके साथ पांच और परिवार हैं जो तीन रिक्शों पर दिल्ली से मोतिहारी आ रहे हैं।

गिरिधारी ने आगे बताया कि रिक्शा चलता रहा तो पांच से सात दिन लग हीं जाएंगे यहां आने में और अगर रोक लिया गया तो फिर भगवान ही मालिक। अभी फिलहाल उनके पास दो दिन के खाने का सामान है। गौरतलब है कि दिल्ली से मोतिहारी की दूरी लगभग एक हजार किलोमीटर है।

हरेंद्र कितने दिनों में पहुंचेंगे, कहना मुश्किल है, लेकिन ये सिर्फ हरेंद्र की कहानी नहीं है। दूसरे राज्य कमाने आए हर लोगों की लगभग यही कहानी है। घरों से सैकड़ों किलोमीटर दूर रहने वाले हजारों मजदूरों के सामने रोजी-रोटी की समस्या आन पड़ी है। दिल्ली की सड़कों पर काम नहीं और घर लौटने के लिए कोई साधन नहीं है। ऐसे में मजदूरों के लिए एक तरफ कुआं तो दूसरी तरफ खाई की स्थिति है। मरता क्या न करता, जैसे-तैसे घर वापसी के लिए लोग चल पड़े हैं ।

- Advertisement -

–आईएएनएस

- Advertisement -

Latest article

पता नहीं पिछली बार कब इतना लंबा ब्रेक ली थी : सिंधु

हैदराबाद, 5 अप्रैल (आईएएनएस)। मौजूदा विश्व चैंपियन भारत की स्टार महिला बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु ने कहा है कि वह टोक्यो ओलंपिक के एक...

कोविड-19 : बांदा में संक्रमित व्यक्ति का गांव सील, सेनिटाइज्ड किया गया

बांदा (उप्र), 5 अप्रैल (आईएएनएस)। कोरोनावायरस (कोविड-19) से संक्रमित पाए गए युवक के गांव को जिलाधिकारी की मौजूदगी में रविवार को चारों तरफ से...

कोविड-19 : केरल में 8 नए मामले, 314 हुआ कुल आंकड़ा

तिरुवनंतपुरम, 5 अप्रैल (आईएएनएस)। केरल में कोविड-19 संक्रमण के रविवार को आठ नए मामले सामने आने के बाद राज्य में वर्तमान में कुल संक्रमित...

बिहार : पूर्व सांसद पप्पू यादव और जाप नेताओं ने रखा एकदिवसीय उपवास (फोटो सहित)

पटना, 5 अप्रैल (आईएएनएस)। कोरोना वायरस महामारी को रोकने के लिए देश भर में 21 दिन का लॉकडाउन लागू है। जन अधिकार पार्टी (जाप)...

तेलंगाना पुलिस ने डॉक्टरों की सुरक्षा के लिए व्हाट्सएप ग्रुप बनाया

हैदराबाद, 5 अप्रैल (आईएएनएस)। तेलंगाना के पुलिस अधिकारियों को रविवार को कोविड-19 मामलों से निपटने में शामिल डॉक्टरों और अन्य स्वास्थ्य पेशेवरों के साथ...