डीयू के कई कॉलेजों में नहीं मिल सकेगा मार्च का वेतन : एनडीटीएफ

Must read

लॉकडाउन से बोर होकर उर्वशी ने डाली अपनी एक नई तस्वीर

मुंबई, 4 अप्रैल (आईएएनएस)। अभिनेत्री उर्वशी रौतेला (Urvashi Rautela)आजकल कोविड-19 को फैलने से रोकने के चलते देशभर में बुलाए गए लॉकडाउन में घर पर...

आधी रात तबलीगियों को दौड़ा ग्रामीणों ने नहीं घुसने दिया क्वारंटाइन सेंटर

फरीदाबाद, 3 अप्रैल (आईएएनएस)। कोरोना के बहाने साथ-साथ मौत लेकर घूमने के आरोपी तबलीगी चारों ओर से घिरते जा रहे हैं। देश के तकरीबन...

वेब सीरीज के लिए अपनी डायट पर मेहनत कर रही हैं लिजा मलिक

मुंबई, 3 अप्रैल (आईएएनएस)। अभिनेत्री लिजा मलिक अपनी वेब सीरीज हू इज योर डैडी? में अपने किरदार के लिए भिन्न डायट चार्ट को फॉलो...

चूरू : कर्फ़्यू के दौरान डोर टू डोर सामान उपलब्ध करा रही मोबाइल वैन

चूरू। जिले के चूरू नगरीय क्षेत्र में धारा 144 अंतर्गत लगाए गए कर्फ़्यू के दौरान आमजन को चूरू सहकारी उपभोक्ता होलसेल भंडार की मोबाइल...
- Advertisement -

नई दिल्ली, 26 मार्च (आईएएनएस)। दिल्ली विश्वविद्यालय शिक्षक संघ (डूटा) और दिल्ली विश्वविद्यालय की अकादमिक परिषद (एसी) व कार्यकारी परिषद (ईसी) में नेशनल डेमोक्रेटिक टीचर्स फ्रंट (एनडीटीएफ) के चुने हुए प्रतिनिधियों ने दिल्ली सरकार द्वारा अपने वित्त पोषित कॉलेजों में कई महीने बाद जारी किए गए अनुदान (ग्रांट) को नाकाफी बताते हुए हैरानी और अप्रसन्नता व्यक्त की है।

गौरतलब है कि दिल्ली सरकार ने कई महीने से अपने पूर्ण वित्त पोषित दिल्ली विश्वविद्यालय से संबद्ध 12 कॉलेजों की ग्रांट जारी करने पर रोक लगाई हुई थी जिसके कारण इन कॉलेज के शिक्षकों और कर्मचारियों को कई महीने से वेतन नहीं मिल पा रहा था।

- Advertisement -

एनडीटीएफ महासचिव डॉ. वीएस नेगी कहा, जो आंशिक ग्रांट सरकार ने जारी की है उसमें शिक्षक व कर्मचारियों के जनवरी-फरवरी महीने के वेतन का ही भुगतान संभव है। मार्च के वेतन के भुगतान पर एक बार फिर से अनिश्चितता की तलवार लटक सकती है।

ग्रांट की समस्या पर डूटा द्वारा 3 महीने से साधी गई चुप्पी पर हैरानी जताते हुए डॉ. वीएस नेगी कहा, डूटा पदाधिकारी ग्रांट रिलीज कराने पर निरंतर सक्रिय होने की बजाय दिल्ली सरकार के पक्ष का समर्थन करते हुए ग्रांट को प्रबंध समिति के गठन से जोड़कर देख रहे हैं जो कि अपने आप में बहुत ही हैरानी भरा और दुर्भाग्यपूर्ण कदम है।

एनडीटीएफ के पूर्व अध्यक्ष डॉ. अजय कुमार भागी ने कहा, शिक्षक और कर्मचारियों की वेतन से जुड़ी ग्रांट का प्रबंध समिति के गठन से कोई संबंध नहीं है। वेतन से जुड़ी सरकारी ग्रांट को प्रबंध समिति के गठन की शर्तो से जोड़ना भविष्य के लिए खतरनाक होगा।

डॉ. अजय कुमार भागी ने इस पूरी प्रक्रिया पर रोष प्रकट करते हुए कहा, अकादमिक प्रशासन चलाने के लिए वित्तीय संकट खड़ा करना शैक्षणिक माहौल के लिए घातक सिद्ध हो सकता है।

- Advertisement -

— आईएएनएस

- Advertisement -

Latest article

कोविद-19 : नीति आयोग ने संयुक्त राष्ट्र की एजेंसियों और निजी क्षेत्र से मांगी मदद

नई दिल्ली, 5 अप्रैल (आईएएनएस)। नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत की अध्यक्षता में एक समूह कोरोनावायरस संकट के खिलाफ लड़ाई के लिए अंतर्राष्ट्रीय...

बीकानेर : 5 नये कोरोना वायरस पॉजिटिव

बीकानेर। बीकानेर जिले में रविवार को 70 लोगों की जांच रिपोर्ट आई, जिसमें पांच जनेां की रिर्पेाट पाजिटिव पाई गई है। इसके साथ ही...

दिल्ली सरकार रोजाना लगभग 6.5 लाख लोगों को दोनों समय खाना दे रही

नयी दिल्ली, 5 अप्रैल (आईएएनएस)। लॉकडाउन के बीच, दिल्ली सरकार ने गरीबों को खाना खिलाने की अपनी क्षमता बढ़ा दी है और अब वो...

करीब 28000 प्रवासी राहत शिविरों में 12.5 लाख लोगों को आश्रय : एमएचए

नई दिल्ली, 5 अप्रैल (आईएएनएस)। गृह मंत्रालय ने रविवार को कहा कि कोरोनावायरस के संकट के बीच पूरे भारत में करीब 28,000 प्रवासी राहत...

कोविड-19 राहत में योगदान देने के लिए आईओए ने एनएसएफ-एसओए को दिया धन्यवाद

नई दिल्ली, 5 अप्रैल (आईएएनएस)। भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) ने कोरोनावायरस के खिलाफ लड़ाई में अपना वित्तीय योगदान देने के लिए राष्ट्रीय खेल महासंघों...