कोराना संकट के दौरान सुरक्षा एजेसिंया रोक सकती है नक्सल ऑपरेशन (आईएएनएस एक्सक्लूसिव)

Must read

बीकानेर में कोरोना पॉजिटिव के 2 केस सामने आए, फड़ बाजार और रानीसर क्षेत्रों में कर्फ्यू

बीकानेर। कोरोना संक्रमण के चलते चल रहे लाॅकडाउन के दौरान की जा रही स्क्रीनिंग के चलते हुई जांच की शुक्रवार को आई रिर्पोट में...

बीकानेर : केन्द्रीय राज्यमंत्री अर्जुन राम मेघवाल के प्रयासों से पीबीएम हाॅस्पीटल को मिले 23.60 लाख रुपये

बीकानेर। कोरोना वायरस (Corona Virus) के संक्रमण की रोकथाम के लिए बीकानेर क्षेत्र में संसाधनों व हेल्थ एक्विपमेंट्स की कमी न हो इसके लिए स्थानीय सांसद...

अनंतनाग में आतंकियों ने की नागरिक की हत्या

श्रीनगर, 3 अप्रैल । कश्मीर के अनंतनाग जिले में आतंकवादियों ने एक नागरिक की गोली मारकर हत्या कर दी। पुलिस ने बुधवार को हुई...

भाजपा (BJP) नेता ने कहा- कालाधन से चल रहा तबलीगी जमात, मुखिया की संपत्ति जब्त करे सरकार

नई दिल्ली, 2 अप्रैल । दिल्ली के निजामुद्दीन में तबलीगी जमात के आयोजन में शामिल हुए कई सदस्यों के कोरोना का शिकार होने के बाद...
- Advertisement -

नई दिल्ली/बस्तर, 26 मार्च । कोरानावायरस की वजह से उत्पन्न मानवीय संकट को देखते हुए, सुरक्षा एजेंसियां भारत के नक्सल बेल्ट में नक्सलियों के खिलाफ अभियान को रोकने के विकल्पों पर विचार कर रही है।

सूत्रों ने आईएएनएस को बताया कि छत्तीसगढ़ में सुरक्षा एजेंसियां भारत में कोविड-19 के खतरे को देखते हुए मानवीय आधार पर संघर्षविराम की संभावना पर विचार कर रही है। भारत में इस महामारी से अबतक 700 लोगों के संक्रमित होने का पता चला है और 14 लोगों की मौत हो चुकी है।

- Advertisement -

रायपुर में नक्सल अभियान के शीर्ष अधिकारी, बस्तर रेंज के पुलिस महानिरीक्षक पी सुंदर राज ने आईएएनएस को बताया कि सुरक्षाबलों के पास इस तरह के निर्णय लेने का अधिकार नहीं होता है।

उन्होंने कहा, मैं केवल एक पुलिस अधिकारी हूं। बस्तर पुलिस और सुरक्षाबल यहां लोगों की जिंदगी और संपत्ति की रक्षा करने के लिए हैं। मौजूदा समय में पूरा विश्व कोविड-19 से लड़ रहा है। बस्तर पुलिस भी इस वायरस से लड़ने के लिए प्रतिबद्ध है।

आईजीपी ने कहा कि नक्सलियों के बीच हाइजिन एक बड़ा मुद्दा है, क्योंकि वे एकसाथ रहते हैं, जहां बमुश्किल स्वास्थ्य सुविधाएं होती हैं।

उन्होंने कहा, समुदाय में कोई भी सोशल डिस्टेंसिंग नहीं है और गांववाले इस समय इस बात को लेकर चिंतित हैं। वे न केवल अपनी जिंदगी को खतरे में डाल रहे हैं, बल्कि हजारों जनजातीय लोगों की जिंदगी को खतरे में डाल रहे हैं। नक्सलियों के ऊपर इस वैश्विक संकट में हिंसा को रोकने का सामाजिक दबाव है।

- Advertisement -

उन्होंने कहा, इसके अलावा, नक्सलियों के बाहरी इलाके में लॉकडाउन की वजह से जरूरी सेवाओं को छोड़कर सारी सेवाएं ठप हैं। वैसे भी नक्सलियों द्वारा फैलाए गए आतंक की वजह से स्वास्थ्यकर्मियों का यहां काम करना हमेशा मुश्किल होता है। अब इस लॉकडाउन के समय अगर नक्सली अभी भी हिंसा का रास्ता नहीं छोड़ेंगे तो, जरूरी सेवाओं के लिए काम कर रहे लोगों का नक्सल नियंत्रण वाले क्षेत्रों में काम करना बहुत मुश्किल होगा।

अभी तीन दिन पहले ही पुलिस ने 17 सुरक्षाबलों के पार्थिव शरीर को बरामद किया था, जो राज्य के सुकमा जिले में नक्सलियों के साथ मुठभेड़ के बाद लापता हो गए थे।

–आईएएनएस

- Advertisement -

Latest article

कोविड-19 : नोएडा के 4 होटलों में बनेंगे आइसोलेशन वार्ड

नोएडा, 3 अप्रैल । कोरोना वायरस (Corona Virus) के नोएडा में लगातार बढ़ते मामलों को देखते हुए जिला प्रशासन ने संक्रमित मरीजों को आइसोलेट करने के...

वुहान कोविड-19 का स्रोत नहीं है : अमेरिकी वैज्ञानिक

बीजिंग, 3 अप्रैल । अमेरिकी वैज्ञानिकों द्वारा हाल ही में जारी एक अध्ययन पेपर से जाहिर हुआ है कि कोविड-19 वायरस प्राकृतिक रूप से...

कोरोना के कहर से उबर नहीं पाया बाजार, 2 फीसदी टूटे सेंसेक्स, निफ्टी (राउंडअप)

मुंबई, 3 अप्रैल । कोरोना के कहर सेशेयर बाजार सप्ताह के आखिरी सत्र में भी नहीं उबर पाया और प्रमुख संवेदी सूचकांक सेंसक्स और...

एकजुट होकर कोरोना वायरस (Corona Virus) का मुकाबला सबसे महत्वपूर्ण : यूरोपीय संघ के अधिकारी

बीजिंग, 3 अप्रैल । हाल में चीन ने विदेशों को महामारी की रोकथाम के लिए चिकित्सा सामग्री दान में दी। कुछ पश्चिमी लोगों ने...

चीन ने 54 अफ्रीकी देशों के साथ तकनीकी सहयोग किया

बीजिंग, 3 अप्रैल । चीन ने 54 अफ्रीकी देशों के साथ तकनीकी सहयोग किया और उन्हें तकनीकी सहायता दी। दूसरी तरफ अफ्रीकी देशों में...