उज्जैन में फुटपाथ पर सोते मजदूरों को ट्रक ने रौंदा, 3 मरे

Must read

कोरोना : 52 हजार करोड़ के सेस फंड से साढ़े 3 करोड़ मजदूरों के खाते में जाएगा

नई दिल्ली, 24 मार्च (आईएएनएस)। देश में कोरोना वायरस से पैदा हुए संकट के बीच केंद्र सरकार ने भवन निर्माण क्षेत्र से जुड़े असंगठित...

कोविड-19 : लोग पूरे तैयार, आत्मसंतुष्ट कम, फिर भी मोदी पर विश्वास कायम

नई दिल्ली, 23 अप्रैल (आईएएनएस)। कोरोनावायरस महामारी के खिलाफ लड़ाई में पिछले एक महीने में तैयारी का सूचकांक (इंडेक्स ऑफ रेडीनेस) तेजी से बढ़ा...

मुझे स्टंट पसंद है : मार्गोट रॉबी

लंदन, 31 जनवरी (आईएएनएस)। अभिनेत्री मार्गोट रॉबी ने उन रोमांचक स्टंट के बारे में बताया है, जिसे उन्हें फिल्म बर्ड्स ऑफ प्रे के लिए...

नागरिक जीवनदान पुरस्कार से सम्मानित होंगे 54 व्यक्ति

नई दिल्ली, 25 जनवरी (आईएएनएस)। स्वतंत्रता दिवस के मौके पर 54 लोगों को नागरिकता जीवन पुरस्कार जीवन रक्षा पदक से सम्मानित किया जाएगा। सम्मानित...
- Advertisement -

उज्जैन/भोपाल, 28 अप्रैल (आईएएनएस)। मध्यप्रदेश के उज्जैन जिले में फुटपाथ पर सो रहे मजदूरों को एक ट्रक ने रौंद दिया, जिससे तीन मजूदरों की मौत हो गई। ये मजदूर कोरोनावायरस की जांच के इंतजार में फुटपाथ पर सो गए थे। पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने इस हादसे को दुखद बताते हुए मृतकों के परिजनों को 25-25 लाख रुपये की आर्थिक सहायता दिए जाने की मांग की है।

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार, मंगलवार की शाम राजस्थान के जैसलमेर से मजदूरों को बस से उज्जैन लाया गया था। 12 मजदूर मोहनपुरा के थे। वे गांव पहुंचे तो गांव वालों ने पहले जांच कराने को कहा। ये मजदूर पैदल ही जिला अस्पताल के लिए चल दिए। रात होने के कारण ये मजदूर भैरवगढ़ स्थित माता मंदिर के पास सड़क किनारे सो गए। इन मजदूरों को देर रात किसी ट्रक ने रौंद दिया। इस हादसे में तीन मजदूरों की मौत हो गई।

- Advertisement -

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने उज्जैन में सड़क किनारे फुटपाथ पर सो रहे मजदूरों पर ट्रक चढ़ने से तीन की मौत के लिए शिवराज सरकार को जिम्मेदार ठहराया है। उनका आरोप है कि सरकार द्वारा इन मजदूरों को रात गुजारने के लिए कोई इंतजाम नहीं किया गया, इसलिए 12 मजदूर सड़क किनारे फुटपाथ पर सोने को विवश हुए।

उन्होंने कहा कि यदि सरकार इन मजदूरों को जैसलमेर से मंगवाई थी तो क्या इनके घर पंहुचने तक इनकी जांच, भोजन और ठहरने की व्यवस्था करने की जिम्मेदारी सरकार की नहीं थी?

दिग्विजय ने कहा कि इन मजदूरों को इस तरह मरने के लिए नहीं छोड़ना चाहिए था। उन्होंने इस दुर्घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए इसे सरकार की लापरवाही और मजदूरों के प्रति उपेक्षा का परिणाम बताया है।

सिंह ने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार उज्जैन के इस हादसे में प्राण गंवाने वाले तीनों मजदूरों के परिवार को 25-25 लाख रुपये की सहायता राशि देने का तत्काल निर्णय ले।

- Advertisement -

–आईएएनएस

- Advertisement -

Latest article

चूरू : कई मोर्चों पर कोरोना फाइटर बनकर डटी है आशा सहयोगिनी

चूरू(Churu News)। चूरू जिले के रतनगढ़ (Ratangarh)के वार्ड 15 की सुजाता महिला एवं बाल विकास विभाग (Department of Women and Child Development) में आशा...

बीकानेर: पानी और बिजली की निर्बाध आपूर्ति के लिए अधिकारी रहें सजग-डाॅ कल्ला

बीकानेर(Bikaner News)। उर्जा एवं जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी मंत्री डाॅ. बी डी कल्ला (Dr.B.D.Kalla)ने कहा कि गर्मी के मौसम में पानी और बिजली की आपूर्ति...

बीकानेर के जेएनवीसी थाना क्षेत्र में लगा कर्फ़्यू

जेएनवीसी थाना क्षेत्र में निषेधाज्ञा आदेश लागू बीकानेर(Bikaner News)। कोरोनावायरस संक्रमण (Corona Virus) के प्रसार को रोकने के लिए पुलिस थाना जेएनवीसी के अन्तर्गत जयनारायण...

बीकानेर : टिड्डी नियंत्रण के लिए किसानों को प्रशिक्षण दिया जाए-उच्च शिक्षा मंत्री

बीकानेर(Bikaner News)। उच्च शिक्षा मंत्री भंवर सिंह(Higher Education Minister Bhanwar Singh Bhati) भाटी ने कहा कि जिले के टिड्डी प्रभावित क्षेत्रों में टिड्डी नियंत्रण...

झारखंड के बाद अब इस राज्य में Zomato घर तक पहुंचाएगी शराब

भुवनेश्वर। देशभर में घरों तक खाने का आर्डर (Online Food Order) लाने वाली कपनी अब आपके लिए शराब(Alcohal) को भी लाकर देगी। इसके लिए...