राजन ने राहुल गांधी से कहा, गरीबों के भोजन के लिए 65000 करोड़ रुपये की जरूरत

Must read

UPSC RESULT 2017 : सिविल सर्विसेज परीक्षा 2017 का परिणाम घोषित, मिलिए 10 टॉपरों से

नई दिल्ली। संघ लोक सेवा आयोग 2017 (यूपीएससी) का रिजल्ट जारी हो चुका है। इस बार हैदराबाद के अनुदीप दुरिशेट्टी ने टॉप किया है।...

रालोपा के हनुमान बेनीवाल ने कहा सचिन को मुख्यमंत्री बनाअेा, गहलोत को बनाया तो ईंट से ईंट बजा दूंगा

जयपुर। राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के अध्यक्ष हनुमान बेनीवाला ने कहा है कि यदि राजस्थान में प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष सचिन पायलट को मुख्यमंत्री बनाया...

तानाजी.. 200 करोड़ के क्लब में हुई शामिल

मुंबई, 25 जनवरी (आईएएनएस)। अभिनेता-निर्माता अजय देवगन की फिल्म तानाजी : द अनसंग वॉरियर 200 करोड़ रुपये के क्लब में शामिल हो गई है।...

गृहमंत्री गुलाब चंद कटारिया ने कहा पुलिस जिंदा पकड़ना चाहते थे, लेकिन जवाबी कार्रवाई में हुआ एनकाउंटर

उदयपुर। गृह मंत्री गुलाब चंद कटारिया ने कुख्यात अपराधी आनंदपाल एनकाउंटर पर कहा कि पुलिस व एसओजी की टीम उसे जिदंा पकड़ना चाहती थी,...
- Advertisement -

नई दिल्ली, 30 अप्रैल (आईएएनएस)। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी से एक वीडियो वार्ता में कहा है कि देश को गरीबों के भोजन के लिए 65,000 करोड़ रुपये की जरूरत है। यह वीडियो वार्ता कांग्रेस पार्टी ने आयोजित की।

राजन ने कहा, गरीबों के भोजन के लिए 65,000 करोड़ रुपये की जरूरत है और भारत इसे वहन कर सकता है क्योंकि जीडीपी 200 लाख करोड़ रुपये का है।

- Advertisement -

उन्होंने कहा, सामाजिक सौहार्द्र एक सार्वजनिक अच्छाई है। ऐसे समय में जब चुनौतियां बड़ी हैं, हम अपने घरों में विभाजन स्वीकार नहीं कर सकते।

उन्होंने कहा कि गरीबों को डीबीटी, मनरेगा, वृद्धावस्था पेंशन के जरिए पैसे देने के प्रयास किए जाने चाहिए और पीडीएस के जरिए भी मदद दी जानी चाहिए।

रघुराम राजन ने कहा कि भारत को लॉकडाउन उठाने में सावधानी बरतनी चाहिए, क्योंकि देश के पास गरीबों को भोजन देने की सीमित क्षमता है।

उन्होंने कहा, कई तरीके हैं, जिनसे देश लाभ उठा सकता है, लेकिन मुझे लगता है कि इस स्थिति में कोई सकारात्मक असर नहीं होगा, क्योंकि वैश्विक अर्थव्यवस्था में पुनर्विचार हो सकता है।

- Advertisement -

राजन ने कहा, रणनीतिक बदलाव होगा, लेकिन इस तरह की महामारी का आमतौर पर शायद ही कोई सकारात्मक प्रभाव हो।

राहुल गांधी ने जब राजन से कोरोनावायरस की जांच की क्षमता के बारे में पूछा तो राजन ने कहा कि भारत को कम से कम पांच लाख जांच हर रोज करने की जरूरत है।

कांग्रेस नेता ने देश के हालात से जिस अधिनायकवादी तरीके से निपटा जा रहा है, उसके बारे में भी विचारों का आदान-प्रदान किया, क्योंकि अधिक उदारीकरण और विकेंद्रीकरण के बदले अधिक केंद्रीकरण हो रहा है।

राहुल गांधी ने कहा कि दक्षिणी राज्य जहां पंचायती राज प्रणाली को मजबूत करने में बेहतर कर रहे हैं, वहीं उत्तरी राज्य सत्ता के केंद्रीकरण पर जोर दे रहे हैं।

- Advertisement -

–आईएएनएस

- Advertisement -

Latest article

बीकानेर से मेड़ता रोड स्पेेशल ट्रेन, जोधपुर-हावड़ा स्पेशल रेल सेवा शुरू

बीकानेर(Bikaner News)। बीकानेर से हावड़ा (Bikaner to Howrah Train) जाने के लिए अब मेड़ता रोड़ से सीधी रेल सेवा मिल (Merta Road to Bikaner...

आवासन मण्डल का बडा तोहफा : कर्मचारियों के लिए लॉंच होगी मुख्यमंत्री राज्य कर्मचारी आवासीय योजना

जयपुर के प्रताप नगर में बनेंगे 2 व 3 बीएचके साइज के 624 फलैट्स जयपुर(Jaipur News)। आवासन (Rajasthan Housing Board scheme) आयुक्त पवन अरोड़ा ने...

अब इस योजना में बैंकों से 90 प्रतिशत तक मिलेगी ऋण सुविधा, ऋण चुकाने पर 30 प्रतिशत सब्सिडी

देशी नस्ल के गौवंश की डेयरी स्थापना के लिए मिलेगा ऋण जयपुर। जिला कलक्टर एवं जिला गौपालन समिति के अध्यक्ष डॉ.जोगाराम ने बताया कि ‘‘कामधेनू...

बीकानेर : राजीव गांधी पंचायती राज संगठन का ‘काम मांगो’अभियान प्रारम्भ

पहले दिन 71 ग्रामीणों ने किया आवेदन तथा 37 ने मांगा काम बीकानेर। राजीव गांधी पंचायती राज संगठन (Rajiv Gandhi Panchyatraj Organization) का ‘काम मांगो’...

Rajasthan Weather Alert : राजस्थान में निसर्ग का असर, 20 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी

जयपुर। महाराष्ट्र (Maharashtra)और गुजरात (Gujarat) की और आ रहे हाई स्पीड साईक्लोन निसर्ग (Cyclone Nisarga) का असर अब राजस्थान (Rajasthan) में भी देखने को...