मप्र में कोरोना और किसान बने सियासी हथियार

Must read

डब्ल्यूएचओ ने फेसबुक मैसेंजर पर इंटरैक्टिव कोविड-19 सेवा शुरू की

सैन फ्रांसिस्को, 15 अप्रैल (आईएएनएस)। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने लोगों को कोरोनोवायरस महामारी के बारे में सटीक और समय पर जानकारी प्रदान...

इंदौर में दुष्कर्म के बाद हत्या करने के आरोपी को फांसी की सजा

इंदौर, 24 फरवरी (आईएएनएस)। इंदौर के महू थाना क्षेत्र में लगभग दो माह पूर्व पांच साल की मासूम के साथ दुष्कर्म और फिर हत्या...

वरुण धवन डॉक्टर्स व स्वास्थ्यकर्मियों को भोजन उपलब्ध कराएंगे

मुंबई, 8 अप्रैल (आईएएनएस)। बॉलीवुड अभिनेता वरुण धवन ने कोविड-19 के खिलाफ जारी जंग में अपना हरसंभव सहयोग प्रदान करने वाले चिकित्सकों व स्वास्थ्य...

पूर्व प्रधान न्यायाधीश गोगोई लेंगे राज्यसभा की शपथ

नई दिल्ली, 19 मार्च (आईएएनएस)। भारत के पूर्व प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई जिन्हें राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने राज्यसभा के लिए नामित किया है,...
- Advertisement -

भोपाल, 30 अप्रैल (आईएएनएस)। मध्यप्रदेश कोरोना के संक्रमण से जूझ रहा है तो वहीं किसानों की उपज की खरीदी का अभियान जारी है। इन दिनों यही दो मामले सियासी जंग में हथियार भी बन गए हैं। विपक्ष जहां सरकार पर हमलावर है, वहीं सरकार विपक्ष के हथियारों की धार को कमजोर करने में लगी है।

राज्य में सत्ता में बदलाव हुए एक माह से ज्यादा का वक्त गुजर गया है और सत्ता की कमान कांग्रेस के हाथ से छिटक कर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के हाथ में आ गई है। भाजपा के सत्ता में आने के समय ही राज्य में कोरोना ने दस्तक दे दी थी और वर्तमान में मालवा निमाड़ अंचल में कोरोना ने जमकर पैर पसारे हैं। सरकार की ओर से इन स्थितियों से निपटने के हर संभव प्रयास किए जाने के दावे किए जा रहे हैं। लॉक डाउन पर पूरी सख्ती से अमल किया जा रहा है तो वहीं दूसरी ओर ग्रीन जोन वाले इलाकों में राहत दी जा रही है।

- Advertisement -

एक तरफ कोरोना का कहर जारी है तो वहीं किसानों से उपज की खरीदी का सिलसिला भी शुरू हो गया है। सरकार की ओर से दावा किया जा रहा है कि किसानों से अब तक 30 लाख मीट्रिक टन से अधिक की गेहूं की खरीदी हो चुकी है। उपज खरीदी के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का भी पूरा पालन किया जा रहा है ताकि किसी तरह के संक्रमण के फैलने की आशंका को रोका जा सके।

कांग्रेस की ओर से कोरोना को नियंत्रित करने के लिए किए जा रहे प्रयास और खरीदी में गड़बड़ियों को लेकर सरकार पर हमले बोले जा रहे हैं। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ सीधे तौर पर भाजपा की सरकार पर हमलावर हैं और मुख्यमंत्री चौहान को कई पत्र भी लिख चुके हैं।

कमलनाथ का आरोप है, राज्य में कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़ रही है और मौत का भी आंकड़ा बढ़ रहा है। वहीं सैंपल की पेंडेंसी की संख्या भी बढ़ती जा रही है, जो चिंताजनक है। इतना ही नहीं कोरोना से बचाव, सुरक्षा के लिए आवश्यक संसाधनों का भी अभाव नजर आ रहा है।

कमलनाथ ने फसल खरीदी में किसानों को आ रही परेशानी का भी जिक्र किया है। उनका आरोप है कि किसानों से खरीदी जा रही फसल की राशि में से ही कर्ज की राशि काटी जा रही है, वहीं दूसरी ओर किसानों पर दमनात्मक कार्यवाही भी हो रही है। पहले इसी सरकार ने अपने पूर्ववर्ती शासनकाल में किसानों के सीने पर गोली दागी थी, कपड़े उतरवाए थे और अब एक बार फिर यही सिलसिला शुरू हो गया है।

- Advertisement -

दूसरी ओर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कोरोना की भयावहता के लिए पूर्ववर्ती सरकार को जिम्मेदार ठहराया है। उनका आरोप है कि कमलनाथ की सरकार आइफा की तैयारी में लगी थी और राज्य में कोरोना आता गया जिस पर सरकार ने ध्यान ही नहीं दिया। अब स्थितियां सुधर रही है। सुखद सूचनाएं आ रही हैं। भोपाल व इंदौर में नमूनों के अनुपात में पॉजिटिव प्रकरणों की संख्या कम हो रही है, इंदौर और भोपाल में मरीजों की संख्या घट रही है। मृत्युदर भी कम हो रही है। साथ ही डिस्चार्ज होने वाले मरीजों की संख्या बढ़ रही है।

साथ ही मुख्यमंत्री चौहान का कहना है कि किसानों को उपार्जन में किसी तरह की परेशानी नहीं आने दी जाएगी। किसानों को एसएमएस के जरिए सूचनाएं दी जा रही हैं। उन्होंने आगे कहा कि रबी उपार्जन के अंतर्गत किसानों द्वारा समर्थन मूल्य पर बेची गई उनकी फसल की राशि में से बैंक किसानों का बकाया ऋण की राशि का 50 प्रतिशत से अधिक न काटेंगे साथ ही, किसानों को तुरंत शासन की योजना अनुसार शून्य प्रतिशत ब्याज पर अगली फसल के लिये ऋण उपलब्ध कराएंगे।

राजनीतिक विश्लेषक साजी थॉमस का कहना है, कोरोना का संक्रमण तो है, मालवा इलाके में मरीज भी बढ़ रहे हैं। इसके जरिए सरकार को तो विपक्ष घेरेगा ही, वहीं किसानों को लेकर कांग्रेस इसलिए भी हमलावर है क्योंकि शिवराज खुद को किसान पुत्र बताते हैं। कांग्रेस सत्ता से बाहर हुई है इसलिए हमले ज्यादा कर रही है, तो भाजपा और सरकार उससे बचाव के रास्ते खोजते हुए पूर्ववर्ती सरकार की कार्यप्रणाली का जिक्र कर जवाब दिए जा रही है। लॉक डाउन के कारण अभी कांग्रेस सड़क पर उतरने की स्थिति में नहीं है, लिहाजा बयानों से ही हमले हो रहे हैं और आगे भी होंगे।

–आईएएनएस

- Advertisement -

Latest article

बीकानेर से मेड़ता रोड स्पेेशल ट्रेन, जोधपुर-हावड़ा स्पेशल रेल सेवा शुरू

बीकानेर(Bikaner News)। बीकानेर से हावड़ा (Bikaner to Howrah Train) जाने के लिए अब मेड़ता रोड़ से सीधी रेल सेवा मिल (Merta Road to Bikaner...

आवासन मण्डल का बडा तोहफा : कर्मचारियों के लिए लॉंच होगी मुख्यमंत्री राज्य कर्मचारी आवासीय योजना

जयपुर के प्रताप नगर में बनेंगे 2 व 3 बीएचके साइज के 624 फलैट्स जयपुर(Jaipur News)। आवासन (Rajasthan Housing Board scheme) आयुक्त पवन अरोड़ा ने...

अब इस योजना में बैंकों से 90 प्रतिशत तक मिलेगी ऋण सुविधा, ऋण चुकाने पर 30 प्रतिशत सब्सिडी

देशी नस्ल के गौवंश की डेयरी स्थापना के लिए मिलेगा ऋण जयपुर। जिला कलक्टर एवं जिला गौपालन समिति के अध्यक्ष डॉ.जोगाराम ने बताया कि ‘‘कामधेनू...

बीकानेर : राजीव गांधी पंचायती राज संगठन का ‘काम मांगो’अभियान प्रारम्भ

पहले दिन 71 ग्रामीणों ने किया आवेदन तथा 37 ने मांगा काम बीकानेर। राजीव गांधी पंचायती राज संगठन (Rajiv Gandhi Panchyatraj Organization) का ‘काम मांगो’...

Rajasthan Weather Alert : राजस्थान में निसर्ग का असर, 20 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी

जयपुर। महाराष्ट्र (Maharashtra)और गुजरात (Gujarat) की और आ रहे हाई स्पीड साईक्लोन निसर्ग (Cyclone Nisarga) का असर अब राजस्थान (Rajasthan) में भी देखने को...