बिहार सरकार ने प्रवासी मजदूरों को लाने विशेष ट्रेन चलाने की मांग की

Must read

यूपी के पत्रकारों ने मीडिया पर तबलीगी जमात के हमले की कड़ी निंदा की

लखनऊ, अप्रैल (आईएएनएस)। तबलीगी जमात द्वारा विभिन्न मीडिया संस्थानों को दिए गए कानूनी नोटिस को पत्रकारों और उनके संगठनों से व्यापक स्तर पर निंदा...

लॉकडाउन : अस्थि कलश बैंक दिखाएगा मोक्ष की राह

कानपुर ,15 अप्रैल (आईएएनएस)। कोरोना के प्रकोप से बचाने के लिए देश में दूसरे चरण का लॉकडाउन शुरू हो गया है। ऐसे में अन्तेष्टि...

कंगना की बायोपिक बनाना पसंद करूंगी : पंगा की निर्देशक

मुंबई, 31 जनवरी (आईएएनएस)। बॉक्स ऑफिस पर हालिया रिलीज फिल्म पंगा की निर्देशक अश्विनी अय्यर तिवारी का कहना है कि कंगना रनौत पर बायोपिक...

बाबा राम रहीम को सीबीआई कोर्ट का बड़ा झटका, आरोप में खारिज हुई जमानत

पंचकूला। दो साध्वियों के बलात्कार के ओराप में 20 साल की सजा काट रहे गुरमीत राम रहीम को सीबीआई केार्ट ने बड़ा झटका दिया...
- Advertisement -

पटना, 30 अप्रैल (आईएएनएस)। बिहार सरकार ने गुरुवार को केंद्र सरकार से प्रवासी मजदूरों और छात्रों को लाने के लिए विशेष ट्रेन चलाने की मांग की है।

उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने एक वीडियो संदेश जारी कर कहा है कि बिहार में बसों की सीमित उपलब्धता है और प्रवासी मजदूरों की जितनी संख्या विभिन्न राज्यों में हैं, उससे सड़क मार्ग से उन्हें लाने में महीनों लग सकता है।

- Advertisement -

उल्लेखनीय है कि केंद्रीय गृह मंत्रालय ने नियमों को संशोधित करते हुए देश के विभिन्न हिस्सों में फंसे लोगों को कुछ शतरें के साथ वापस अपने राज्य जाने की अनुमति दे दी है।

इस आदेश के एक दिन बाद गुरुवार को सुशील मोदी ने कहा, बाहर से आने वाले सभी बिहार के लोगों का स्वागत है। देश के किसी भी हिस्से से वापस आने के यहां स्क्रीनिंग, होम क्वारंटीन जैसी व्यवस्थाएं लागू हैं।

उन्होंने कहा कि बाहर से आने वाले लोगों के लिए नोडल अधिकारी तक नियुक्त कर दिए हैं।

मोदी ने कहा कि वापसी की चाह रखने वालों की संख्या बहुत बड़ी है। उन्होंने कहा, अगर हम बसों पर निर्भर करते हैं, तो प्रक्रिया को पूरा होने में महीनों लग सकते हैं। मैं केंद्र से विशेष ट्रेनें चलाने के लिए आग्रह करूंगा।

- Advertisement -

मोदी ने कहा कि लॉकडाउन के के कारण फंसे बिहार के लोगों की संख्या बहुत बड़ी है, जिनमें 17 लाख से अधिक को राज्य सरकार की तरफ से प्रत्येक को 1,000 रुपये की वित्तीय सहायता मिली है और लगभग 10 लाख से अधिक आवेदनों की जांच की जा रही है।

उन्होंने कहा, बिहार के लोग पूरे देश में फैले हुए हैं। दिल्ली जैसे स्थानों में इनकी संख्या काफी अधिक है। हम ऐसे स्थानों से लोगों को लाने के लिए बसों का विकल्प चुन सकते हैं, जो बिहार के करीब हैं, लेकिन दूर-दराज के लोगों के लिए केंद्र को विशेष रूप से हमारे अनुरोध पर विचार करना चाहिए।

–आईएएनएस

- Advertisement -

Latest article

वैश्विक सहयोग से ही कोविड-19 महामारी का खात्मा होगा

बीजिंग, 31 मई (आईएएनएस)। पिछले कुछ महीनों में दुनिया की तस्वीर बदल गयी है। क्योंकि अधिकांश देश कोविड-19 महामारी से जूझ रहे हैं और...

जम्मू-कश्मीर में एलओसी पर पाकिस्तान की तरफ से फिर गोलाबारी

जम्मू, 31 मई (आईएएनएस)। जम्मू एवं कश्मीर में शनिवार की शाम नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर पाकिस्तानी सेना ने संघर्ष विराम का उल्लंघन करते हुए...

कोविड-19 : भारत में 1.82 लाख से अधिक मामले, 5164 मौतें

नई दिल्ली, 31 मई (आईएएनएस)। भारत में कोरोनावायरस महामारी से संक्रमति लोगों का आंकड़ा रविवार को बढ़कर 1.82 लाख से अधिक हो गया है,...

विश्व तंबाकू निषध दिवस पर विशेष : मध्यप्रदेश में तंबाकू बनता है हर साल 90 हजार लोगों की मौत का कारण

भोपाल। मध्यप्रदेश में तंबाकू (Madhyapradesh Tobacco) की बढ़ती लत कई गंभीर बीमारियों का कारण बनती जा रही है। राज्य में हर साल लगभग एक...

फिर से खबरों में आया बरेली का कपल, पति को भेजा गया जेल

बरेली (उप्र), 31 मई (आईएएनएस)। बरेली के दंपति ने पिछले साल जुलाई में तब सुर्खियां बटोरी थीं, जब उन्होंने उप्र में लड़की के पिता...