Tuesday, July 7, 2020

1.3 अरब लोगों का परीक्षण न तो संभव है, न ही सुसंगत : स्वास्थ्य मंत्री

Must read

ग्वालियर में पुलिस जवानों को साप्ताहिक अवकाश

भोपाल, 30 अप्रैल (आईएएनएस)। मध्य प्रदेश में कोरोना महामारी के बीच पुलिस जवान पूरी मुस्तैदी से अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन कर रहे हैं और...

सीएए और धारा 370 के बाद अब कोविड-19 बना पाठ्यक्रम का हिस्सा

प्रयागराज, 1 मई (आईएएनएस)। नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और धारा 370 को उत्तर प्रदेश राजर्षि टंडन मुक्त विश्वविद्यालय अपने पाठयक्रम में शामिल करने के...

जम्मू एवं कश्मीर : पंचायत उप चुनाव मार्च में कराने की घोषणा

श्रीनगर, 13 फरवरी (आईएएनएस)। जम्मू एवं कश्मीर में रिक्त पड़ी करीब 13,000 पंचायत सीटों पर उपचुनाव मार्च में होंगे। मुख्य चुनाव अधिकारी शैलेंद्र कुमार...

उप्र के मॉल बंद, लखनऊ, नोएडा व कानपुर को सैनिटाइज करने का आदेश

लखनऊ, 20 मार्च (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोरोना के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए और तेज सर्तकता बरतनी शुरू की...
Vishal Rohiwal
Vishal Rohiwal
विशाल रोहिवाल पिछले दस वर्ष से कंटेट राईटिंग व स्वतंत्र पत्रकार के रुप में काम कर रहें है। वर्तमान में हैलो राजस्थान की वेब टीम में सीनियर कंटेंट एडिटर के रुप में अपनी सेवांए दे रहें है।
- Advertisement -

नई दिल्ली, 28 मई (आईएएनएस)। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने गुरुवार को आईएएनएस के साथ एक विशेष साक्षात्कार में कहा कि कोविड-19 के लिए 1.3 अरब लोगों का परीक्षण करना न तो संभव है और न ही सुसंगत है।

भारत की आगे की रणनीति और परीक्षण के बारे में स्थिति पर एक सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने कहा, वर्तमान परीक्षण रणनीति जरूरत आधारित है और ऐसे व्यक्तियों को प्राथमिकता देती है जो मुख्य रूप से जोखिम में हैं या जिन्हें लक्षण हैं। इस स्थिति को देखते हुए नियमित रूप से संशोधित किया जाता है।

- Advertisement -

परीक्षण डेटा और क्षमता के बारे में स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, हमारी परीक्षण क्षमता 27 मई को प्रति दिन 1,60,000 है और हमने अब तक 32,44,884 परीक्षण किए हैं। 26 मई को हमने कुल 15,229 परीक्षण किए। अगर एक पल के लिए हम बीमारी पर अंकुश लगाने के लिए 1.3 अरब जनसंख्या के परीक्षण की बात करते भी हैं, तो आप भी इस बात को मानेंगे कि यह न केवल एक महंगी प्रक्रिया है, बल्कि न तो यह संभव है और न ही सुसंगत है।

उन्होंने यह भी कहा कि फरवरी 2020 के पहले सप्ताह में पुणे के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (एनआईवी) में एकमात्र प्रयोगशाला से देश में इस सुविधा की संख्या बढ़कर अब 624 हो गई है। इसमें 435 सरकारी प्रयोगशालाएं और 189 एनएबीएल से मान्यता प्राप्त निजी प्रयोगशालाएं हैं।

हर्षवर्धन ने कहा कि प्राथमिकता आधारित और लक्षित परीक्षण कोविड-19 के अधिक मामलों का पता लगाने और बीमारी पर अंकुश लगाने में मददगार होगा। उन्होंने कहा, परीक्षण सुविधाओं में निरंतरता और गुणवत्ता सुनिश्चित करने के हमारे प्रयासों के साथ, मुझे यकीन है कि हम अधिकतम मामलों को खोजने के लिए एक बेहतर स्थिति में होंगे।

–आईएएनएस

- Advertisement -

Latest article

मीरा ने शाहिद से कहा, रोज तुम्हारे प्यार में और ज्यादा पड़ती हूं

मुंबई, 7 जुलाई (आईएएनएस)। अभिनेता शाहिद कपूर की पत्नी मीरा ने मंगलवार को शादी की पांचवीं सालगिरह पर पति के लिए एक नोट लिखा।...

कोविड-19 के कारण एटीपी ने रैंकिंग प्रणाली में किया बदलाव

लंदन, 7 जुलाई (आईएएनएस)। पेशेवर टेनिस संघ (एटीपी) ने कहा है कि कोविड-19 के बाद जब टेनिस शुरू होगी तब वह पुरुष रैकिंग की...

राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड कक्षा 12वीं विज्ञान का परिणाम 8 जुलाई को

अजमेर/जयपुर। कोरेाना महामारी के बीच माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (RBSE 12th Science Result 2020) के विद्यार्थियेां के लिए राहतभरी खबर है। अब माध्यमिक शिक्षा बोर्ड(RBSE),...

छात्रों की सुरक्षा और उन्नति के लिए बदले गए परीक्षा के दिशानिर्देश : निशंक

नई दिल्ली, 7 जुलाई (आईएएनएस)। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा कि यूजीसी ने विश्वविद्यालय की परीक्षाओं से संबंधित अपने...

सनी देओल की अर्जुन पंडित से प्रभावित था विकास दुबे

नई दिल्ली, 7 जुलाई (आईएएनएस)। गैंगस्टर विकास दुबे के जुर्म की दुनिया में कदम रखने का संबंध अभिनेता सनी देओल की 1999 में आई...